Monday, March 1, 2021

काशी हिंदू विश्वविद्यालय में जारी धरना प्रर्दशन

Must read

श्रीनगर में टाटा मोटर्स शोरूम पर ईडी का छापा

श्रीनगर  केंद्रशासित जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में टाटा मोटर्स के एक शोरूम में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने बुधवार को छापा मारा। आधिकारिक...

ट्वीटर ने ईरान, रूस, आर्मेनिया से जुड़े सैकड़ों खातों को स्थाई रूप हटाया गया, जानिए क्यों

वॉशिंगटन, सोशल मीडिया कंपनी ट्वीटर ने मंगलवार को ईरान, रूस और आर्मेनिया से जुड़े सैकड़ों अतिरिक्त खातों को स्थायी रूप से हटाया दिया है।ट्वीटर...

यूपीएसएसएससी के अध्यक्ष नौजवानों से बोल रहे है झूठ : वंशराज दुबे

पिछले 2 दिनों से रोजगार को लेकर ट्विटर कैम्पेन चल रहा है, उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में लाखो ट्वीट नौजवानों-बेरोजगारों द्वारा किया गया...

जानिए किस वजह से विधानसभा में हुआ भारी हंगामा

उत्तर प्रदेश, विधानसभा में भारी हंगामा, भाजपा विधायक द्वारा राज्यपाल के अभिभाषण के चर्चा के दौरान देशद्रोही शब्द कहे जाने पर हंगामा, कांग्रेस नेता विधानमंडल दल...

काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में मंगलवार को भी यहां विभिन्न कक्षाओं के प्रथम एवं द्वितीय वर्ष के छात्र-छात्राओं का धरना-प्रदर्शन आज भी जारी रहा तथा लंका स्थित सिंह द्वार से आम लोगों की आवाजाही बाधित रही।
विद्यार्थियों ने चेतावनी दी है कि जब तक उनकी कक्षाएं पुन: शुरू नहीं की जाएंगी, तब तक उनका धरना-प्रर्दशन जारी रहेगा। उनकी मांग है कि अंतिम वर्ष के साथ-साथ उनकी कक्षाएं भी शुरू की जाये।
स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षाओं के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों की ‘ऑन-ऑफ लाइन’ कक्षाएं सोमवार से शुरू कर दी गईं, लेकिन प्रथम एवं द्वितीय वर्ष की कक्षाएं उस तरह से शुरू नहीं की गई हैं। प्रदर्शनकारी कई छात्रों का कहना है कि वाराणसी समेत देश के अधिकांश स्कूल, कॉलेज एवं विश्वविद्यालय पुन: खोल दिये गये हैं, लेकिन यहां उनकी कक्षाएं शुरू नहीं की जा रही हैं। इस वजह से उनकी पढ़ाई बुरी तरह से प्रभावित है तथा वे बेहद तनाव में हैं। ऐसे में प्रशासन को तत्काल कक्षाएं बहाल करनी चाहिए।
दूसरी ओर विश्वविद्यालय के सूत्रों का कहना है कि विश्वविद्यालय में कक्षाएं कोविड से संबंधित सरकार के दिशानिर्देशों एवं एहतियाती उपायों का पालन करते हुए ही आयोजित की जाएंगी।
ग़ौरतलब है कि करीब 11 माह गत 17 फरवरी से अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए छात्रावास पुन: खोल दिये गये थे जबकि सोमवार यानी 22 फरवरी से उनकी ऑन-ऑफ लाइन कक्षाएं शुरू कर दी गई। उससे पहले कोरोना महामारी के कारण कक्षाएं बंद करनी पड़ी थीं।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

राष्ट्रीय चैंपियनशिप एक मार्च से दिल्ली में

डेफ क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा नेशनल चैंपियनशिप एक मार्च से दिल्ली में शुरू हो रही है जो 5 मार्च तक चलेगी। कोच देव दत्त बघेल ने...

संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए बोले सीएम योगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए अभी से तैयारी होगी तो आगे गर्मी-बरसात में उनसे से बचाव होगा। गत वर्ष...

राकेश टिकैत तीनों काले कृषि कानूनों की वापसी को लेकर कहा ऐसा

 भारतीय किसान यूनियन(भाकियू) प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि तीनों काले कृषि कानूनों की वापसी तक किसानों का संघर्ष और दिल्ली के गाजीपुर...

कानूनों के विरोध में किसानों ने गेहूं की फसल पर चलाया ट्रैक्टर

तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में हिसार के निकटवर्ती गांव लाडवा में किसानों ने आज अपनी...

आउटसोर्सिंग स्वास्थ्य कर्मियों संबंधी ज्ञापन दिया

 उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) के दौरान उपनल और पी.आर.डी.के माध्यम से...