शिक्षा में निर्मला सीतारमण ऐसे कराएंगी देश को “टॉप”

0
91

लोकसभा में नरेंद्र मोदी सरकार की जीत और पहली बार वित्त मंत्री बनी निर्मला सीतारमण ने एनडीए सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश किया | उन्होंने शिक्षा क्षेत्र के लिए कहा कि इस बार नरेंद्र मोदी सरकार नई शिक्षा नीति ला रही है | वहीं उन्होंने देश का पहला नेशनल रिसर्च फाउंडेशन बनाने का भी ऐलान किया | निर्मला सीतारमण ने नेशनल रिसर्च फाउंडेशन बनाने का ऐलान करते हुए कहा कि इसकी स्थापना से शोध से जुड़े कार्यों को लाभ होगा | ये एक ऐसा प्लेटफॉर्म साबित का होगा जहां शोध और इनोवेशन से जुड़े कार्यों को बढ़ावा दिया जाएगा | जिसकी वजह से भविष्य में शोध उच्च शिक्षा की गुणवत्ता में बढ़ोतरी होगी |

शिक्षण संस्थाओं के विकास के लिए 400 करोड़ की राशि मुहैया कराई गई

निर्मला सीतारमण ने घोषणा की 2019-20 के लिए उच्च शिक्षण संस्थाओं के विकास के लिए 400 करोड़ की राशि मुहैया कराई गई है जो पिछले वित्त वर्ष के संसोधित अनुमानों से 3 गुना ज्यादा है | उन्होंने कहा, दुनिया के टॉप 200 कॉलेज में भारत के सिर्फ 3 कॉलेज शामिल हैं, ऐसे में सरकार इस संख्या को बढ़ाने पर जोर देगी| 5 साल पहले इस लिस्ट में तो एक भी भारतीय कॉलेज का नाम शामिल नहीं था | लेकिन सरकार की कोशिशों और शिक्षण संस्थानों के प्रयासों की बदौलत आज स्थिति बदल गई है |

 

दुनिया की टॉप 200 शिक्षण संस्थानों में भारत के तीन शिक्षण संस्थान

अब दुनिया की टॉप 200 शिक्षण संस्थानों में भारत के तीन शिक्षण संस्थान शामिल हैं | इन शिक्षण संस्थाओं में दो आईआईटी और एक आईएमएम हैं | निर्मला सीतारमण ने कहा कि देश में रिसर्च को बढ़ावा देने के लिए नेशनल रिसर्च फाउंडेशन बनाया जाएगा | सरकार की कोशिश देश में अनुसंधान प्रणाली को मजूबत करना है | वहीं भारत के पास उच्च शिक्षा का केंद्र बनने की क्षमता है | सरकार की कोशिश है कि उच्च शिक्षा संस्थानों के विकास किया जाए ताकि इन संस्थानों में शिक्षण के लिए विदेशी छात्र आ सकें |

इसके लिए उन्होंने ‘भारत में अध्ययन’ कार्यक्रम की शुरुआत करने की बात कही | इस कार्यक्रम के तहत देश की उच्च संस्थाओं में विदेशी छात्रों को शिक्षण के लिए प्रेरित करना होगा | उन्होंने कहा कि हमारा फोकस देश में ऑनलाइन कोर्सेज को बढ़ावा देना है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here