मायूस हुए अमरनाथ यात्री पर डरे हुए हैं कश्मीर के लोग, कुछ तो होने वाला है!

0
110

कश्मीर से अमरनाथ यात्रा रोकने पर पर्यटकों में मायूसी फैल गई है | जम्मू-कश्मीर सरकार की ओर से पर्यटकों और अमरनाथ तीर्थयात्रियों को घाटी छोड़ने के लिए सलाह जारी करने के घंटों बाद, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने दावा किया कि गुलमर्ग में होटलों में रहने वाले लोगों को होटल छोड़ने के लिए मजबूर किया जा रहा है | लोगों को पहलगाम और गुलमर्ग से निकालने के लिए राज्य की बसें लगाई जा रही हैं | “गुलमर्ग के होटलों में रहने वाले लोगो को छोड़ने के लिए मजबूर किया जा रहा है | लोगों को पहलगाम और गुलमर्ग से बाहर निकालने के लिए राज्य सड़क परिवहन बसों को तैनात किया जा रहा है | उमर अब्दुल्ला ने कहा अगर अमरनाथ यात्रा को खतरा है तो गुलमर्ग को क्यों खाली कराया जा रहा है?”

जम्मू-कश्मीर राज्य गृह विभाग के आदेश से शुक्रवार को लोगों में स्थिति को लेकर अटकलबाजियां शुरु हो गई, क्योंकि लगभग 1.75 लाख तीर्थयात्रियों ने 28 जून से 15 अगस्त तक शुरू होने वाले जत्थों में तीर्थ यात्रा करने का पंजीकरण कराया था |

उमर अब्दुल्ला ने कहा कि राज्य के शीर्ष अधिकारी भी अमरनाथ यात्रा के रुकने और पिछले कुछ दिनों में अतिरिक्त बलों की बड़े पैमाने पर तैनाती का कारण नहीं जानते हैं | जम्मू-कश्मीर में बीते एक हफ़्ते से फौज़ों की बढ़ती तैनाती को लेकर तनाव की स्थिति बनी हुई है | इससे ये अटकलें लगाईं जा रही है कि राज्य में कुछ बड़ा होने वाला है | हालांकि सरकार इसे बहुत तूल देने से बच रही है | राजनीतिक दलों को अंदेशा है कि कहीं ये 35 ए को हटाने की कवायद न हो |

दूसरी ओर सेना की 15वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्‍लन ने पत्रकारों को बताया कि पिछले तीन-चार दिनों में बहुत बड़ी खुफिया जानकारी मिली है कि पाकिस्‍तान समर्थित आतंकी अमरनाथ यात्रा बाधित करने में लगे हुए हैं | इस जानकारी के आधार पर यात्रा के दोनों मार्गों, दक्षिण की तरफ के पहलगाम वाले रास्‍ते और उत्तर की तरफ के बालटाल वाले रास्‍तों पर सुरक्षाबलों ने गहन तलाशी अभियान चलाया, जिसमें बड़ी सफलता मिली है | उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान, पाकिस्तान आयुध फैक्ट्री में निर्मित एक बारूदी सुरंग को जब्त कर लिया गया |’

इसी के साथ जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़कर ‘अनावश्यक भय’ पैदा किया जा रहा है | उन्होंने राजनीतिक नेताओं से अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने तथा ‘अतिशयोक्तिपूर्ण अफवाहों पर भरोसा ना करने की अपील करने का’ अनुरोध किया |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here