Wednesday, March 3, 2021

पीएम आवास में खुली देशी मदिरा की दुकान

Must read

गोला फटने से जवान की मौत, तीन जवान घायल, ऐसे हुआ हादसा

जयपुर,  राजस्थान में जैसलमेर जिले के पोकरण फायरिंग रेंज में कल रात ताेप से अभ्यास के दौरान गोला फटने से एक जवान की मौत...

डॉल्फिन संवर्धन के लिए मोदी की वकालत,चंबल में पर्यटको की बढ़ी रूचि

इटावा, राष्ट्रीय जलीय जीव डॉल्फिन के संरक्षण की देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वकालत के बाद चंबल में एकाएक पर्यटको की आवाजाही बढ़...

अर्थव्यवस्था ने मंदी को पीछे छोड़ा

भारतीय अर्थव्यवस्था  मंदी के दौर से उबर आई है. उसने वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही में 0.4 फीसदी की विकास दर  हासिल की...

उत्तर प्रदेश में कोरोना के टीकाकरण के तीसरे चरण की शुरूआत

लखनऊ, उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस टीकाकरण के तीसरे चरण की सोमवार को शुरूआत हो गई ।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजधानी के डॉ. श्यामा...

उत्तर प्रदेश, प्रधानमंत्री मोदी और सीएम योगी का सपना है कि हर गरीब के सर पर छत हो लेकिन सरकार के इस सपने को पलीता खुद जिम्मेदार ही लगा रहे हैं,आये दिन ऐसी चर्चाएं संज्ञान में आती रहती है तो वहीं सरकार भी सजग है, लेकिन फिर भी भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं लग पा रही, ऐसा ही मामला पंचायत डमरूवर से सामने आया है जिसमे लाभार्थी स्वयं सेक्रेटरी और प्रधान की पोल खोलता नजर आ रहा है|

प्रधानमंत्री मोदी की अति महत्वकांक्षी योजना प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण जनपद में दम तोड़ती नजर आ रही है शासन द्वारा देश के गरीब असहाय व्यक्तियों को उनका अपना छत मुहैया कराने के उद्देश्य योजना का संचालन किया गया था जिसमें जिम्मेदारों को इसे सत प्रतिशत पात्रों को लाभान्वित करने का निर्देश था लेकिन जिम्मेदारों द्वारा योजना को मूर्त रूप देने में कितनी जिम्मेदारी निभाई गई जिसकी तस्वीर आपके सामने है|

पूरा मामला जनपद संतकबीरनगर के मेहदावल विकासखंड से जुड़ा हुआ है जहां क्षेत्र के डमरुवर ग्राम पंचायत पंचायत में वित्तीय वर्ष 17 – 18 में विभिन्न लोगों को पीएम आवास योजना से लाभान्वित किया गया था जिसमें राम कमल पुत्र राम लखन को जिम्मेदारों द्वारा आवास का पात्र लाभार्थी दिखाते हुए आवास मुहैया कराया गया जबकि इनके पास पहले से पक्का मकान मौजूद था, वही पीएम आवास लाभार्थी द्वारा आवाज को ही भाड़े पर दे दिया गया जिसमें देसी मदिरा की दुकान धड़ल्ले से चल रही है और जिम्मेदार अधिकारी मूकदर्शक बने हुए है|

ये भी पढ़े – जानिए महंत परमहंस क्यों कर रहे है , शबनम को माफ करने की मांग

लाभार्थी राम कमल का कहना है कि शासन द्वारा तो ₹120000 दिया गया लेकिन मुझे सिर्फ एक लाख रुपये ही मिले बाकी प्रधान जी द्वारा साहब की मिठाई के नाम ले लिया,मजे की बात तो यह है कि ग्राम प्रधान और जिम्मेदार अधिकारियों की सांठगांठ से पहले पिता के नाम से प्रधानमंत्री आवास आवंटन कर दिया गया,

वहीं दूसरी तरफ जो आप तस्वीरों में पक्के मकान को देख रहे हैं वह कमल के पुत्र के पहले से बने हुए मकान का है फिर भी उसे प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दे दिया गया, पूरे मामले पर जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास लोगों को रहने के लिए दिया गया अगर उसमें देसी मदिरा की दुकान चल रही है तो जिम्मेदारों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

सत्ताधारियों के कब्जे में है सरकारी अस्पतालों की स्वास्थ व्यवस्था

स्वास्थ्य यानी मनुष्य के जीवन से जुड़ा हुआ एक हिस्सा. बच्चे के जन्म से लेकर मृत्यु तक स्वास्थ्य साथ देता है यदि स्वास्थ्य में...

लॉन्च हुआ मल्टी एक्सल नया ट्रक

कमर्शल वाहनों के सबसे बड़े निर्माता टाटा मोटर्स ने मध्यम और भारी व्यावसायिक वाहनों (एम एंड एचसीवी) की श्रेणी में अपना नया ट्रक टाटा...

योगी आदित्यनाथ ने चार साल पूरे होने पर कही ये बात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चार साल पहले देश दुनिया में बीमारू राज्य के तौर पर माना जाने वाला उत्तर प्रदेश आज देश...

कोरोना का समय देश और दुनिया के लिए असाधारण रहा- योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि यह सर्वविदित है कि करोना का समय देश और दुनिया के लिए असाधारण रहा। कोरोना से...

मुख्यमंत्री योगी पश्चिम बंगाल के मतदाताओं को कर रहे भ्रमित-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी पश्चिम बंगाल के मतदाताओं...