पढ़िए अमेरिका की वो रिपोर्ट जिसने कर दी भारत पाकिस्तान के बीच युद्ध में 10 करोड़ मौत की भविष्यवाणी

0
55

कश्मीर मुद्दे को लेकर पिछले दो महीनों से पाकिस्तान भारत को कई बार युद्ध की धमकी दे चुका है । साथ ही पकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा है कि अगर युद्ध होता है तो परमाणु युद्ध होकर ही रहेगा । वहीं भारत ने भी साफ कहा है कि अगर पाकिस्तान किसी भी तरह का दुस्साहस करने की कोशिश करता है, तो उसे बख्शा नहीं जाएगा । वहीं दोनों देशों के बीच पिछले कुछ समय से चल रहे तनाव के बीच अमेरिका (America) की एक रिपोर्ट में इसे पूरे दक्षिण एशिया पर खतरा बताया है । रिपोर्ट में कहा गया है अगर भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध होता है तो पूरे दक्षिण एशिया में 10 करोड़ से अधिक लोग मारे जाएंगे । वहीं वैश्विक पर्यावरण के लिए भी इसे विनाशकारी बताया गया है ।

युद्ध के बाद भी लाखों लोग मारे जाते रहेंगे

अमेरिका के ‘साइंस एडवांस’ में प्रकाशित इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत और पाकिस्तान के बीच अगर परमाणु युद्ध की स्थिति बनती है, तो दोनों ही देशों को काफी बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है । जानकारों के मुताबिक युद्ध के दौरान जो नुकसान होगा, उसके बारे में तो सभी जानते हैं; लेकिन युद्ध के बाद भी लाखों लोग मारे जाते रहेंगे । दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध की स्थिति में पृथ्वी पर पहुंचने वाली सूरज की रोशनी की मात्रा में काफी कमी आ जाएगी, जिसकी वजह से बारिश में भी गिरावट आएगी । इन सबका सीधा असर जमीन पर पड़ेगा और खेती तबाह हो जाएगी और महासागरीय उत्पादकता में भयानक गिरावट आएगी ।

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के पास 400-500 परमाणु हथियार मौजूद हैं । युद्ध की स्थिति में अगर इन हथियारों का इस्तेमाल किया गया, तो इसका प्रभाव वैश्विक पर्यावरण के लिए विनाशकारी होगा । रिपोर्ट के मुताबिक इस परमाणु युद्ध का प्रभाव पूरे दक्षिण एशिया पर काफी बड़े स्तर पर होगा ।

ऐसे नष्ट होगी धरती

परमाणु युद्ध की स्थति में विस्फोटो से निकलने वाला धुआं 16 से 36 मिलियन टन काला कार्बन छोड़ सकता है । इस कार्बन की तीव्रता इतनी तेज होगी कि कुछ ही हफ्तों में दुनिया भर में इसका असर देखने को मिलेगा । ऐसी स्थिति में जिन देशों का इस युद्ध से कोई लेना-देना नहीं है, वहां भी लोगों को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे । वहीं परमाणु विस्फोट के बाद वायुमंडल में कार्बन भारी मात्रा में सोलर रेडिएशन को इकट्ठा कर लेगी, जिससे हवा में अधिक गर्मी आ जाएगी और धुंआ आगे नहीं निकल पाएगा ।

परिणाम ये होगा कि पृथ्वी तक पहुंचने वाली धूप में 20 से 35 प्रतिशत की गिरावट आएगी और बारिश भी न के बराबर होगी । ऐसे में गर्मी की तपिश से जमीन सूख जाएगी और खेती पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगी । इस वजह से वनस्पति विकास और महासागर उत्पादकता पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा । सबसे ख़ौफ़नाक है कि ऐसे परिणामो से उबरने में न केवल भारत और पाकिस्तान को, बल्कि पूरी दुनिया को 10 साल से ज्यादा का समय लग जाएगा । यानी भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध होने से पूरी दुनिया कम से कम 10 साल तक उबलती रहेगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here