Friday, December 4, 2020

जानलेवा हमले के आरोप पर उत्तराखंड में ‘श्रीनगर’ के पुलिसकर्मियों पर एफआईआर

Must read

बिहार: DRI को मिली बड़ी कामयाबी, 1.5 किलो सोने के बिस्किट के साथ महिला समेत दो गिरफ्तार

सोना तस्करी के खिलाफ डीआरआई को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। म्यांमार से तस्करी कर गुवाहाटी लाए गए डेढ़ किलो सोने को दो व्यक्ति...

राहुल गांधी दुनिया के सबसे कन्फ्यूज नेता, उनको कृषि कानून की जानकारी नही : BJP सांसद मनोज तिवारी

सुलतानपुर : कल देर शाम एक निजी कार्यक्रम सुलतानपुर पहुँचे मनोज तिवारी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व दिल्ली सांसद ने पत्रकारों के प्रश्न पर बोले...

किसान आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों को 5 लाख का मुआवजा, पंजाब सरकार ने किया ऐलान

नई दिल्ली : केंद्र सरकार (Central Government) के नए कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा और पंजाब के किसानों का आंदोलन जारी है। इस बीच...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

श्रीनगर में पुलिस के डर से एक परिवार को अपना घर ही नहीं शहर छोड़ना पड़ा जिसके बाद उन पुलिस कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। कोतवाल नरेन्द्र बिष्ट, महिला एसआई संध्या नेगी कई आरोपी पुलिस अधिकारियों और जवानों के खिलाफ उत्तराखंड पुलिस ने शिकायत दर्ज की है। हाईकोर्ट में दाखिल रिपोर्ट में पुलिस ने कहा है कि इस मामले को पौड़ी से टिहरी भेजा गया है और कीर्तिनगर थाना इस मामले की जांच करेगा। अब पुलिस एक महीने बाद मामले की प्रोग्रेस रिपोर्ट पेश करेगी।

मामला उत्तराखंड के श्रीनगर, गढ़वाल इलाके का है। हाईकोर्ट में प्रेक्टिस करने वाले वकील राकेश कुंवर ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर पुलिस पर आरोप लगाया था कि 9 जुलाई को पुलिकर्मियों ने रात में उनके घर में घुसकर जानलेवा हमला किया। उनके परिवार के लोगों को जमकर पीटा गया और तोड़-फोड़ कर नगदी लूट ली गई। याचिका में यह भी कहा गया था कि पुलिस की मार से उनके भाई की हालत गंभीर हो गई थी। वकील राकेश कुंवर के अनुसार उन्होंने इस मामले की शिकायत पौड़ी के एसएसपी को भी की थी लेकिन वहां कोई कार्रवाई नहीं की गई। इसके बाद उन्होंने हाईकोर्ट का रुख किया था। पुलिस के धमकाने के बाद कुंवर के परिवार का श्रीनगर छोड़ना पड़ा था। इस मामले पर पुलिस के खिलाफ हथियारों के साथ लूट, स्त्री की लज्जा भंग करना, बिना बताए जबरन घर में घुसना, मारपीट समेत अन्य मामलों में मुक़दमा दर्ज किया गया है।

कुछ दिन पहले एकलपीठ ने इस मामले में 24 घंटे के भीतर एफ़आईआर दर्ज करने के साथ शपथ पत्र दाखिल करने के आदेश दिया था लेकिन एसएसपी पौड़ी ने कोर्ट के आदेश के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं नहीं की थी। पिछले हफ्ते कोर्ट ने फिर से दो दिन में मुकदमा दर्ज करने और कोर्ट में उसकी रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया था। बीती पेशी में पुलिस द्वारा रिपोर्ट मिलने पर कोर्ट ने पुलिस को एक महीने में इस मामले की प्रोग्रेस रिपोर्ट देने का आदेश दिया है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब किसान चाहते हैं सीधे प्रधानमंत्री से हो बात..

भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा किसी अन्य मंत्री व नेता से...

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...