Sunday, November 29, 2020

प्लास्टिक से डीजल! उत्तराखंड सरकार करेगी अद्भुत प्रयोग

Must read

Uttarakhand: 389 नए संक्रमित संक्रमित मिले, आठ की मौत, मरीजों की संख्या 74 हजार पार

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे के दौरान 389 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 278 मरीज स्वस्थ होने...

किसान की आय बढ़ाने वाला कानून सरकार कब ला रही है : अखिलेश यादव

लखनऊ : किसान आंदोलन (Farmer Protest) के प्रति सरकार के रवैए पर तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के...

Drug Case: भारती-हर्ष की जमानत याचिका पर सुनवाई आज, न्यायिक हिरासत में बीती रात

Bollywood : ड्रग केस में गिरफ्तार हुईं मशहूर कॉमेडियन भारती सिंह (Bharti Singh) और उनके पति हर्ष लिंबाचिया (Haarsh Limbachiyaa) की मुश्किलें काफी बढ़ती...

दिल्ली में नहीं थमा कोरोना का कहर, 24 घंटे में सामने आए 5246 नए केस

नई दिल्ली : राजधानी में कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण लगातार लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रहा है। दिल्ली सरकार (Delhi Government) के...

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के भारतीय पेट्रोलियम संस्थान में प्लास्टिक से बढ़ते प्रदूषण के खिलाफ एक बड़ा कदम उठाया गया है। संसथान में बेकार प्लास्टिक से डीज़ल बनाने के प्लांट लगाया गया है जिसका उद्घाटन विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन और मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने किया। बीते मंगलवार को प्लांट का उद्घाटन किया गया।

इस संयंत्र की स्थापना से एक तरफ जहाँ वेस्ट मटीरियल का डीजल के रूप में सदुपयोग होगा, वहीं प्लास्टिक से मुक्ति की दिशा में यह बड़ा कदम माना जा रहा है। जानकारी के अनुसार इस संयंत्र में एक टन प्लास्टिक कचरे से 800 लीटर डीज़ल बनेगा। यह ऐसा पहला प्रायोगिक प्लांट है जिसमें कोई प्लास्टिक वेस्ट नहीं बचता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि जैसे-जैसे प्रोडक्शन बढ़ेगा वैसे-वैसे इसके दाम कम होंगे। केन्द्रीय मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा कि प्लास्टिक से बड़े पैमाने पर डीजल व पेट्रोल उत्पादन शुरु होने के बाद देश में पेट्रोलियम पदार्थों को लेकर अन्य देशों पर निर्भरता कम होगी। उन्होंने कहा कि इस संयंत्र के लिए एनजीओ की मदद से प्लास्टिक कचरे को एकत्रित किया जाएगा। वहीँ मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्लास्टिक के उत्पादों से डीजल बनाने की विधि आईआईपी के वैज्ञानिकों की बड़ी उपलब्धि है। इससे जहां पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलेगी वहीं आर्थिक विकास में भी यह मददगार होगा।

आईआईपी के निदेशक डॉक्टर अंजन कुमार रे ने प्लांट के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस प्लांट को बनने में दस साल का समय और लगभग 15 करोड़ रुपये की लागत हुई। प्लांट शुरू होने के बाद घाटी में जहाँ प्रदूषण घटेगा, वहीं देश में पेट्रोलियम पदार्थ का एक और स्त्रोत बढ़ जाएगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

राज्यसभा उपचुनाव : सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे नामांकन, RJD के उम्मीदवार पर सस्पेंस

बिहार की एक राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मतदान होगा या नहीं इस पर से सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है।...

CM नीतीश पर अमर्यादित टिप्पणी से नाराज JDU कार्यकर्ताओं ने तेजस्वी का पूतला फूंका

मुज़फ़्फ़रपुर ; विधानसभा में  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर अभद्र टिप्पणी करने को लेकर पूरे बिहार में जगह जगह...

मुज़फ़्फ़रपुर में हाईवे पर लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 किलो गांजा और हथियार के साथ 5 अपराधी गिरफ्तार

  मुज़फ़्फ़रपुर : जिले के गायघाट पुलिस ने हाइवे लूटपाट गिरोह के पांच सदस्यों को हथियार व लूट के समान के साथ पकड़ा और इस...

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया सूर्याधार जलाशय का लोकार्पण

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को स्वर्गीय गजेन्द्र दत्त नैथानी जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। इस झील के निर्माण पर 50.25...

Uttarakhand: 389 नए संक्रमित संक्रमित मिले, आठ की मौत, मरीजों की संख्या 74 हजार पार

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे के दौरान 389 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 278 मरीज स्वस्थ होने...