Saturday, November 28, 2020

उज्जैन जहरीली शराब मामलाः महाकाल थाने के दो जवान निलंबित, 3 आरोपियों से पूछताछ जारी

Must read

गोरखपुर चिड़ियाघर : छाएगी हरियाली, 20 फिट ऊंचे 210 पेड़ों का होगा ट्रांस्प्लांटेशन

गोरखपुर : खिचड़ी के दिन यानि 14 जनवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा प्रस्तावित शहीद अशफाक उल्ला खॉ प्राणी उद्यान के लोकार्पण की तैयारियां...

U.P : सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का 82वां जन्मदिन आज, CM योगी ने फोन करके दी बधाई

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का आज जन्मदिन है। कोरोना के मद्देनजर पार्टी उनका जन्मदिन सादगी से मना रही है।...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...

दामिनी के माता-पिता मिले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र से , दोषियों को फाँसी की माँग की

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री आवास में दामिनी (काल्पनिक नाम) के माता-पिता ने भेंट की। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड...

उज्जैन। उज्जैन एसपी मनोज कुमारसिंह के अनुसार जहरीली शराब की बिक्री को लेकर महाकाल थाना भी संदेह के घेरे में आ गया है। अभी तक इस थाने के दो जवानों के नाम सामने आए हैं, जिन्हे उन्होने निलंबित कर दिया है। इससे पहले खाराकुआं थाना प्रभारी समेत चार पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया था।

एसपी ने बताया कि बीती रात तीनों मुख्य आरोपितों यूनुस, सिकंदर और गब्बर से पूछताछ की गई। पूछताछ में महाकाल थाने के आरक्षक संदीप खोड़े और इंद्रविजय के नाम सामने आए। इन्हें उन्होंने शनिवार को निलंबित कर दिया है। उन्होंने बताया कि आरोपितों से सख्ती से पूछताछ की गई तो उन्होंने चौंकानेवाले राज उजागर किए। इसके चलते आनेवाले दिनों में आरोपितों की संख्या बढ़ेगी।

निगम अधिकारी के बारे में जुटा रहे जानकारी

एसपी ने बताया कि तीनों मुख्य आरोपितों से पूछताछ में नगर निगम के एक अधिकारी को लेकर चौंकानेवाली जानकारियां सामने आई है। आरोपितों ने बताया कि वे अवैध वसूली भी करते थे। वहीं लॉकडाउन अवधि में नगर निगम के वाहनों से झिंझर की पोटलियों का परिवहन किया जाता था। इन तथ्यों को जांच जारी है, साथ ही नगर निगम के जिम्मेदार लोगों की जानकारी शासन को दी जा रही है। समझा जाता है कि इस मामले में राज्य शासन शीघ्र ही कार्रवाई करने जा रहा है। वहीं नगर निगम के राजस्व एवं अन्य कर विभाग में चुप्पी छा गई है।

राजपत्रित अधिकारियों की कार्यशैली भी घेरे में

लॉकडाउन अवधि में झिंझर की बिक्री को आरोपितों द्वारा स्वीकार करने के बाद कोतवाली थाना भी घेरे में आ गया है। सूत्र बताते हैं कि थानों में यदि गड़बड़ी हो रही थी, तब थाना प्रभारी के बाद सीएसपी भी रहते हैं जोकि समग्र मानीटरिंग करते हैं। ऐसे में उन तक भी यह सूचना नहीं पहुंच पाई,कैसे हो गया?

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...