Friday, February 26, 2021

Delhi : राशन लेने के दौरान फिंगर प्रिंट ही नहीं, बुजुर्गों का नहीं मैच हो रहा रैटिना

Must read

स्कूल के लिए निकली बच्ची हुई लापता, फिर जानें क्या हुआ

बुंदेलखंड के बांदा जनपद से आज एक मामला सामने आया है जहां एक 14 वर्षीय नाबालिक बच्ची कई दिनों से लापता है जिसको लेकर...

मोदी सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के कारण पेट्रोल के बढ़ रहे दाम-गहलोत

जयपुर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र की मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उसकी गलत आर्थिक नीतियों के कारण...

शिवपाल सिंह ने बीजेपी सरकार को कही ये बाते

सभी सामान्य विचारधारा के लोग एक होकर देश और प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी को उखाड़ फेंकना चाहते हैं वहीं AIMIM चीफ़ असदुद्दीन ओवैसी...

उत्तराखण्ड के चमोली में हुई आपदा को लेकर अखिलेश यादव ने कही ये बात

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव आज उत्तराखण्ड के चमोली में हुई आपदा की सूचना सही समय पर देकर...

नई दिल्ली :  ई-पोस द्वारा राशन वितरण करने के दौरान नेटवर्किंग संबंधी परेशानियों की बातें लगातार सामने आ रही हैं। वही पायलेट प्रोजेक्ट में एक समस्या और भी सामने आई कि बुजुर्गों का फिंगर प्रिंट मैच नहीं हुआ, ऐसे में विभाग ने आयरिश मशीनें वितरित कीं ताकि सौ फीसदी वितरण प्वाइंट आॅफ सेल डिवाइज के माध्यम से सफल हो पाए लेकिन अब विभाग के सामने सबसे बडी परेशानी बुजुर्गों के रैटिना मैच नहीं होने की आ रही है।

पायलेट प्रोजेक्ट के तहत जिन दुकानों पर ई-पोस की मशीनें लगाई गई, उनमें से कुछ कोटाधारकों से प्वाइंट आॅफ सेल डिवाइज द्वारा वितरण के दौरान आने वाली परेशानियों के बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने बताया कि सबसे अधिक परेशानी बुजुर्गों के सामने आ रही है क्योंकि उम्र अधिक होने की वजह से उनके फिंगर प्रिंट मैच नहीं हो रहे। वहीं कई महिलाओं की अंगुलियों पर कटने या मेंहदी लगाने से भी फिंगर प्रिंट मैच की समस्या सामने आई।

लेकिन उन्हें आयरिश मशीनों से रैटिना मैच कर राशन दे दिया गया। इसमें भी कई बुजुर्ग जिन्होंने आंखों का आॅपरेशन करवाया है या अधिक उम्र होने से आंखों में अन्य परेशानियां होने की वजह से रैटिना मैचिंग नहीं हो पाई। हालांकि फिलहाल विभाग द्वारा इन परिस्थितियों में मैन्यूअली राशन वितरण के लिए कहा गया है पर लगातार ऐसी दिक्कतें आने पर यदि कोटाधारक लगातार ऐसे लोगों को मैन्युअली राशन वितरित करते हैं तो कहीं कोटाधारकों पर उंगली ना उठे इसे लेकर वो संशय में है।

भीड भी बन रही है परेशानी का सबब
कोटाधारकों का कहना है कि राशन की दुकान से खाद्यान्नों का राशन वितरण शुरू होने के दौरान लंबी-लंबी कतारें दुकानों पर लग जाती है। ऐसे में नेटवर्क की समस्या से यदि कुछ देर के लिए ंवितरण पर ब्रेक लगता है तो भीड कोटाधारकों से लडने पर उतारू हो जाती है। जिससे कोटाधारक काफी परेशान है।

पहले करीब 18 से 20 फीसदी को मिली थी मैन्यूअल राशन की मंजूरी
साल 2018 में जब ई-पोस मशीनों द्वारा राशन वितरण प्रारंभ किया गया था, तब खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा विकट परिस्थितियों में 18 से 20 फीसदी प्रत्येक राशन की दुकान से मैन्यूअली राशन वितरण करने को मंजूरी दी गई थी। ताकि अगर फिंगर प्रिंट मैच ना हो तो मैन्यूअली राशन, राशनकार्डधारी प्राप्त कर सकें। लेकिन इस बार कितना राशन मैन्यूअली कोटाधारक बांट सकते हैं इसकी जानकारी उन्हें अभी तक नहीं दी गई है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

भाजपा राज में जनता कराहने लगी-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में जनता कराहने लगी है। मंहगाई के चूल्हे...

पुलिस ने की माल में चोरी, देखिए ये वीड़ियो

वर्दी के नीचे कई शर्ट पहन कर चोरी कर ले जा रहा गोमतीनगर विस्तार का चोरकट सिपाही मेटल डिटेक्टर से पकड़ा गया,कर्मचारियों ने की...

पूर्वांचल दौरे पर अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं ने जोरदार किया स्वागत

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव वाराणसी पहुंच गए। वह तीन दिन के पूर्वांचल के दौरे पर आए हैं। वाराणसी एयरपोर्ट...

पारंपरिक ऐपण कलाकृति को मिल रहा नया आयाम

उत्तराखंड की पारंपरिक ऐपण कलाकृति को नया आयाम मिल रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हालिया दिल्ली दौरे पर केंद्रीय मंत्रियों को ऐपण...

फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी में कैसे ली Alia ने फिल्म में एंट्री

बॉलीवुड फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ (Gangubai Kathiawadi) का टीज़र हाल ही में रिलीज किया गया जिसमें आलिया भट्ट (Alia...