Monday, January 18, 2021

इस “डर” के चलते खुद ही रिहाई नही चाहते महबूबा उमर!

Must read

Washington में हथियार और गोला-बारूद के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार

वाशिंगटन : अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में पुलिस ने एक व्यक्ति को पिस्तौल और गोला बारूद के साथ गिरफ्तार किया है। एक टीवी चैनल ने...

डॉ हर्षवर्धन एम्स के डॉक्टरों के साथ टीकाकरण अभियान के शुभारंभ के गवाह बने

नई दिल्ली, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के शुभारंभ में शामिल होने एम्स,नयी दिल्ली पहुंचे।...

पुलिस पर पथराव करना पड़ा महंगा, 30 नामजद सहित इतने लोगों पर Case दर्ज़

  इटावा: उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के जसवंतनगर इलाके मे आगरा कानपुर हाइवे पर मलाजनी के पास कार और बाइक की टक्कर मे हुए...

जौनपुर में गांव की एक बेटी ने देश में लहराया परचम

जौनपुर , उत्तर प्रदेश में जौनपुर के ग्रामीण इलाके की एक बेटी ने यह साबित कर दिया कि प्रतिभावान छात्र जिन्दगी में आने वाली...

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के तुरंत बाद वहां के स्थानीय नेता मेहबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्लाह को नज़रबंद कर दिया गया था। सुरक्षा का हवाला देकर पिछले 20 दिनों से कश्मीरी नेताओं को नजरबंद किया हुआ था। इन नेताओं के साथ कश्मीर की जनता भी घाटी में प्रतिबंधों से परेशान है। हालाँकि अब ये नेता हिरासत से बाहर आने को राज़ी नहीं हैं।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती ने सशर्त रिहाई के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। यह नेता शांति भंग न करने की गारंटी नहीं दे रहे हैं और इसीलिए बेल बॉन्ड भी नहीं भर रहे हैं। जानकारी के अनुसार, राज्यपाल प्रशासन की ओर से उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती से कहा गया था कि वे अनुच्छेद 370 को कमज़ोर किए जाने के खिलाफ प्रदर्शन नहीं करेंगे और लोगों को इकट्ठा न करे। यदि वे ये शर्त मानते हैं तो उन्हें नज़रबंद नहीं रखा जाएगा। नेताओं ने ये बॉन्ड भरने से मना कर दिया है। माना जा रहा है कि बदली परिस्थितियों में यह लोगों का सामना करने को तैयार नहीं हैं, इसलिए इस मसले को और लटकाना चाहते हैं। इसके बाद प्रशासन ने श्रीनगर के राज बावन के पास सरकारी गेस्ट हाउसों में उमर और महबूबा की नजरबंदी को बढ़ा दिया है। इनमें उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती से लेकर सज्‍जाद गनी लोन तक शामिल हैं।

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक संसद में पेश होने से पूर्व ही एहतियात के तौर पर नेशनल कांफ्रेंस, कांग्रेस, पीडीपी, माकपा, पीपुल्स कांफ्रेंस समेत कश्मीरी सियासी दलों के प्रमुख नेताओं व कार्यकर्ताओं को एहितयातन हिरासत में ले लिया गया। सरकार की नज़रबंदी में रहते हुए उमर अब्दुल्लाह जिम और मेहबूबा मुफ़्ती किताबों के बीच समय बिताते थे।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अखिलेश यादव ने कहाँ, भाजपा राज में लूट की अनन्त कथायें

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा षडयंत्रकारी जातिवादी पार्टी है। उसका काम नफरत फैलाना...

मुजफ्फरनगर का सरकारी अस्पताल बन गया शराबियों का अड्डा

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पताल पर पिछले दिनों एक विवादित बयान आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती का आया था। जिसके बाद से सियासी...

Britain के PM बोरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री मोदी को दिया G-7 का न्यौता

इस वर्ष ब्रिटेन के कार्नवाल में G-7 शिखर सम्मेलन होने वाला है। इस दौरान जलवायु परिवर्तन को लेकर विशेष रूप से बात होगी। ब्रिटेन के...

राजस्थान बस हादसे पर PM मोदी ने जताया दुख

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के जालौर जिले में बस हादसे में छह लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है। श्री...

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए BJP के राजेन्द्र भांबू ने दिया 1 करोड़

झुंझुनूं : श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि संग्रहण अभियान के तहत झुंझुनूं जिला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र भांबू ने एक...