Sunday, November 29, 2020

आखिर थम गई देश की पहली महिला डीजीपी की “उड़ान”

Must read

Farmers protest : दिल्ली बॉर्डर तक पहुंचे किसान, उत्तर प्रदेश में भी किया प्रदर्शन का ऐलान…

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन शुक्रवार यानी आज भी जारी रहेगा वहीं गुरुवार की रात हरियाणा के पानीपत के टोल प्लाजा पर...

उत्तराखंड: शहीद सूबेदार स्वतंत्र सिंह का पार्थिव शरीर लैंसडौन पहुंचा, दी गई श्रद्धांजलि

देहरादून : जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तान सैनिकों की गोलाबारी के दौरान शहीद हुए सूबेदार स्वतंत्र सिंह का पार्थिव...

लव जिहाद मामले पर अब अखिलेश यादव का आया बयान, कहा योगी फिर भटका रहे हैं

उत्तर प्रदेश : कथित ‘लव जिहाद’ के खिलाफ लाये गये अध्यादेश की चर्चाओं के बीच समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश...

Cyclone Nivar का खतरा गहराया, तमिलनाडु-आंध्र प्रदेश में बारिश, पुडुचेरी में लगा नाइट कर्फ्यू

बंगाल की खाड़ी में पहला चक्रवाती तूफान आने वाला है। बताया जा रहा है कि खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का इलाका चक्रवाती...

देश की पहली महिला डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DGP) कंचन चौधरी भट्टाचार्य का सोमवार शाम निधन हो गया। उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने इसकी पुष्टि की है। लंबे समय से बीमार चल रही 72 साल की कंचन ने बीती शाम मुंबई के अस्पताल में आखिरी साँसे ली। इन्होंने वर्ष 2004 में उत्तराखंड का डीजीपी नियुक्त होकर इतिहास रचा था।

कंचन चौधरी भट्टाचार्य 1973 बैच के आईपीएस अधिकारी थीं। कंचन चौधरी भट्टाचार्य किरण बेदी के बाद देश की दूसरी महिला आईपीएस अधिकारी थीं। 2004 में देश की पहली डीजीपी बन इतिहास बनाने वाली कंचन चौधरी 31 अक्टूबर 2007 को डीजीपी के रूप में रिटायर हुईं थी। इनका पुलिस सेवा का करियर काफी शानदार रहा था। कंचन ने रिटायरमेंट के बाद राजनीति में भी हाथ आज़माया था। 2014 लोकसभा चुनाव में कंचन ने आम आदमी पार्टी (आप) के टिकट से हरिद्वार संसदीय सीट पर चुनाव लड़ा था। उनके निधन पर शोक जताते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि “देश की पहली महिला पुलिस महानिदेशक कंचन चौधरी भट्टाचार्य के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ। वह अपनी सेवानिवृत्ति के बाद सार्वजनिक जीवन में सक्रिय रहीं और अपने अंतिम समय तक देश की सेवा करना चाहती थीं। उनकी याद आएगी।”

‘उड़ान’ की प्रेरणा कंचन

1997 में प्रतिष्ठित सेवाओं के लिए उन्हें ‘राष्ट्रपति पदक’ भी मिल चुका है। इसके साथ ही 2004 में उन्हें मेक्सिको में आयोजित इंटरपोल की बैठक में भारत की और से प्रतिनिधित्व करने के लिए चयनित किया गया था। उनकी मृत्यु पर दुःख प्रकट करते हुए आईपीएस एसोसिएशन और उत्तराखंड पुलिस के ऑफिशल अकाउंट ने ट्वीट किया। उन्होंने लिखा ‘”हम अपने एक प्रतीक, भारत की पहली महिला डीजीपी और दूसरी महिला आईपीएस अधिकारी कंचन चौधरी भट्टाचार्य के निधन पर शोक जताते हैं। दिल और दिमाग के गुणों वाली एक अधिकारी, जिनका कई पहल और अवार्ड्स से सजा एक शानदार कैरियर था।” गौरतलब है कि दूरदर्शन पर इनके जीवन से प्रेरित एक सीरियल ‘उड़ान’ भी प्रसारित हो चुका है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

राज्यसभा उपचुनाव : सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे नामांकन, RJD के उम्मीदवार पर सस्पेंस

बिहार की एक राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मतदान होगा या नहीं इस पर से सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है।...

CM नीतीश पर अमर्यादित टिप्पणी से नाराज JDU कार्यकर्ताओं ने तेजस्वी का पूतला फूंका

मुज़फ़्फ़रपुर ; विधानसभा में  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर अभद्र टिप्पणी करने को लेकर पूरे बिहार में जगह जगह...

मुज़फ़्फ़रपुर में हाईवे पर लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 किलो गांजा और हथियार के साथ 5 अपराधी गिरफ्तार

  मुज़फ़्फ़रपुर : जिले के गायघाट पुलिस ने हाइवे लूटपाट गिरोह के पांच सदस्यों को हथियार व लूट के समान के साथ पकड़ा और इस...

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया सूर्याधार जलाशय का लोकार्पण

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को स्वर्गीय गजेन्द्र दत्त नैथानी जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। इस झील के निर्माण पर 50.25...

Uttarakhand: 389 नए संक्रमित संक्रमित मिले, आठ की मौत, मरीजों की संख्या 74 हजार पार

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे के दौरान 389 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 278 मरीज स्वस्थ होने...