Tuesday, December 1, 2020

न्यायपालिका में बड़ी घटना, चेन्नई हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश ने इसलिए दिया इस्तीफा

Must read

सीएम खट्टर का पंजाब सीएम पर हमला कहा राजनीति छोड़ दूंगा अगर एमएसपी से किसानों को परेशानी हुई

केंद्र सरकार ने कृषि कानून बनाया लेकिन जो किसान हैं उन्होंने इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर दिया है। इस पर अब राजनीति भी...

सदन में तेजस्वी का नीतीश पर निजी हमला, कहा- बेटा तो एक ही है, लेकिन बेटी के डर से दूसरा बच्चा पैदा नहीं किया…

बिहार विधानसभा के आखिरी दिन नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सत्ता पक्ष पर जमकर हमला बोला। हालाकि उनके पूरे भाषण के दौरन नीतीश कुमार...

LJP का 20वां स्थापना दिवस आज, चिराग ने पर्सनल अटैक पॉलिटिक्स के लिए नीतीश-तेजस्वी दोनों को दोषी बताया

आज एलजेपी का 20वां स्थापना दिवस है और पार्टी कोरोना से बचाव के बीच LJP स्थापना दिवस समारोह मनाएगी. पार्टी ने पहले ही यह...

सहारनपुर : MLC चुनाव के मद्देनजर बंद रहेंगी सभी शराब की दुकाने

1 दिसंबर को होने जा रहे एमएलसी चुनाव के मद्देनजर बंद रहेंगी जनपद सहारनपुर की सभी शराब की दुकानें, बता दें कि 1 दिसंबर...

मद्रास हाई कोर्ट(Madras High Court) के मुख्य न्यायाधीश विजया के. ताहिलरमानी(Vijaya K Tahilramani) ने शुक्रवार को इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने उच्चतम न्यायालय कॉलेजियम के मेघालय उच्च न्यायालय(Meghalaya High Court) के स्थानांतरित करने के आदेश पर पुनर्विचार की याचिका दायर की थी। सर्वोच्च न्यायलय(Supreme Court) ने उनकी इस याचिका को खारिज कर दिया था जिसके बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

शुक्रवार रात चेन्नई हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश विजया के. ताहिलरमानी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद(Ramnath Kovind) को अपना इस्तीफा सौंपा। इसकी एक प्रति उन्होंने भारत के प्रधान न्यायधीश रंजन गोगोई को भी भेजी। न्यायमूर्ति गोगोई के नेतृत्व वाले कॉलेजियम ने ताहिलरमानी को मेघालय उच्च न्यायालय भेजने के आदेश दिए थे। इसके बाद ताहिलरमानी ने उनके इस आदेश पर पुनर्विचार की याचिका दायर की थी। हालांकि उच्च न्यायलय ने उनकी इस याचिका को ख़ारिज कर दिया। उन्होंने कॉलेजियम के फैसले का विरोध भी किया था। कॉलेजियम ने मेघालय हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस एके मित्तल का तबादला मद्रास हाई कोर्ट करने की सिफारिश भी की थी।

गौरतलब है कि पिछले साल आठ अगस्त को ही मद्रास उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था। इससे पहले न्यायमूर्ति ताहिलरमानी को 26 जून 2001 को बंबई हाई कोर्ट का जज नियुक्त किया गया था। दो अक्टूबर 2020 को न्यायमूर्ति विजया के. ताहिलरमानी रिटायर होने वाली थी। हालांकि अब कॉलेजियम ने 28 अगस्त को उनका तबादला करने की सिफारिश की, जिसपर पुनर्विचार करने का उनका अनुरोध ठुकराए जाने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया। शीर्ष अदालत के कॉलेजियम में जस्टिस एन. वी. रमन, जस्टिस एस. ए बोबडे, जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस आर. एफ नरीमन शामिल थे।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

उत्तर प्रदेश में 43 आईपीएस अधिकारियों के हुए तबादले, 2015 बैच पर मेहरबान हुए योगी 

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फिर से कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने के लिए अपने कई बड़े अधिकारियों का फेरबदल किया है।...

किसान क्यों चाहते हैं MSP पर लिखित गारंटी? जानिए क्या है विरोध का बड़ा कारण…

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों (Farm Bill) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmer Protest) आज छठे दिन...

NDA के CM कैंडिडेट ‘नीतीश’ को जेल भेजने की बात करने वाली लोजपा NDA का ‘नमक’,मोदी कैबिनेट में जगह मिलने की उम्मीद पाले बैठे...

ये राजनीति है यहाँ सब जायज है नरेंद्र मोदी के चिराग मुरीद है कारण शायद बीजेपी पर कोई रहम आ जाये और मंत्री मंडल...

सुप्रीम कोर्ट कि सुनवाई में पेश हुआ “शर्टलेस व्यक्ति” कोर्ट ने सुनाई खरी-खरी…

सुप्रीम कोर्ट में एक मामले की सुनवाई के दौरान जज के सामने एक शख्स बिना शर्ट पहने आ गया। इस पर अदालत ने उस...

सीना चीर लूंगा तो अखिलेश जी की मूर्ति निकलेगी- नए नवेले कार्यकर्ता

समाजवादी पार्टी में इस वक्त कई सारे नए नवेले कार्यकर्ता आ रहे हैं यह कार्यकर्ता दूसरी पार्टियों से अब समाजवादी पार्टी की तरफ रुख...