Saturday, May 15, 2021

टिकट की गारंटी मिलते ही हुई हरियाणा कांग्रेस के नेताओं की घर वापसी

Must read

कहीं इन ट्रेनों से तो सफर नहीं करने जा रहे थे, रद्द रहेंगी ये सभी, देखें पूरी लिस्ट

नई दिल्ली. कोरोना (Corona) संक्रमण के बढ़ते प्रकोप की वजह से ट्रेनों को कैंसल करने का सिलसिला लगातार जारी है. पूर्वोत्तर रेलवे (North Eastern Railway)...

विस्तारा अगले महीने दिल्ली से टोक्यो की उड़ान शुरू करेगी

नयी दिल्ली  टाटा समूह और सिंगापुर एयरलाइंस की संयुक्त उद्यम वाली विमान सेवा कंपनी विस्तारा अगले महीने दिल्ली और टोक्यो के बीच साप्ताहिक उड़ान...

सलमान खान बनायेंगे ‘राधे योर मोस्ट वांटेड भाई’ का सीक्वल!

मुंबई,  बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान का कहना है कि यदि उनकी फिल्म ‘राधे योर मोस्ट वांटेड भाई’ लोगों को पसंद आती है...

बलिया में करंट लगने से युवक की मौत

बलिया उत्तर प्रदेश में बलिया जिले के दुबहड़ थाना क्षेत्र में रविवार शाम दुल्हन को विदा कराकर घर पहुंचे युवक की करंट लगने से...

हरियाणा(Haryana) में विधानसभा चुनावों के चलते सभी पार्टियों में राजनीति चरम पर है। हरियाणा कांग्रेस(Haryana Congress) में बदलाव के बाद रविवार को कुछ नेता ने कांग्रेस में वापसी की। वहीँ इससे हरियाणा में इनेलो (Indian National Lokdal) को एक बड़ा झटका लगा है। इंडियन नेशनल लोकदल के 4 वरिष्ठ नेता और एक निर्दलीय विधायक ने कांग्रेस(Congress) का दामन थामा है।

बीते रविवार हरियाणा कांग्रेस(Haryana Congress) में बदलाव के बाद इनेलो के 4 वरिष्ठ नेता और एक निर्दलीय विधायक ने कांग्रेस की सदस्यता ली। हरियाणा की राजनीति के धुरंधर अशोक अरोड़ा(Ashok Arora), जयप्रकाश(Jai Prakash) के साथ-साथ सुभाष गोयल(Subhash Goyal), प्रदीप चौधरी(Pradeep Chaudhary), गगनजोत सिंह संधू(Gaganjot Singh Sandhu) ने रविवार को कांग्रेस का हाथ थामा। कलायत से निर्दलीय विधायक और जाट लैंड के दिग्गज नेता जेपी ने भी कांग्रेस(Haryana Congress) का हाथ थाम लिया है। इसका मुख्य कारण आगामी चुनाव में टिकट(Ticket) देने की गारंटी बताया जा रहा है।

इस तरह हुए फेरबदल

गौरतलब है कि इनेलो के विघटन के बाद विधायक रणबीर गंगवा(Ranbir Gangwa) लोकसभा चुनाव से पहले ही भाजपा में शामिल हो गए थे। तब अटकलें लगाई गयी थी कि बीजेपी(BJP) गंगवा को हिसार लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ाएगी। लेकिन बीजेपी ने हिसार से पूर्व केंद्रीय मंत्री बिरेंद्र सिंह के पुत्र बृजेंद्र सिंह(Brijesh Singh) को टिकट दिया। लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद इनेलो के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष और पूर्व मंत्री अशोक अरोड़ा ने भी भाजपा नेताओं से राजनीतिक मुलाकात की थी। जानकारी के अनुसार उन्हें टिकट की गारंटी नहीं मिली। ऐसे में कांग्रेस में शामिल होने वाले नेताओं को टिकट देने की बात कही जा रही है। माना जा रहा है कि कांग्रेस इन सभी नेताओं को आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट ज़रूर देगी।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...