Friday, December 4, 2020

हरियाणा में गजब घमासान, दुष्यंत चौटाला ने लोकदल को दी ऐसी करारी चोट

Must read

तमिलनाडु-केरल के तट से आज टकराएगा चक्रवाती तूफान ‘Burev’, NDRF की कई टीमें हुई तैनात

नई दिल्ली : चक्रवात बुरेवी (Burevi cyclone) कमजोर होकर निम्न दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया और चार दिसंबर की सुबह तमिलनाडु तट...

रजनीकांत जनवरी में शुरू करेंगे अपनी राजनीतिक पार्टी, 31 दिसंबर को होगा ऐलान

चेन्नई : तमिल सुपरस्टार रजनीकांत आगामी वर्ष जनवरी 2021 में अपनी राजनीतिक पार्टी का शुभारम्भ करेंगे। उन्होंने तमिल में किये एक ट्वीट में कहा...

किसान आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों को 5 लाख का मुआवजा, पंजाब सरकार ने किया ऐलान

नई दिल्ली : केंद्र सरकार (Central Government) के नए कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा और पंजाब के किसानों का आंदोलन जारी है। इस बीच...

अवैध रूप से चल रहे बसों व दुर्घटनाग्रस्त होने के सवाल पर बोली मंत्री, कहा – प्रशिक्षण केंद्र खोलेंगे जिससे घटनाएं होगी कम

मुज़फ़्फ़रपुर : रविवार को मिठनपुरा स्थित जुब्बा सहनी पार्क में स्वतंत्रता सेनानी जुब्बा साहनी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने पहुँची बिहार सरकार के परिवहन...

हरियाणा(haryana) में विधानसभा चुनाव से पहले पार्टियों में हलचल मची हुई है। रोज़ाना पार्टियों में कोई न कोई फेरबदल हो रहा है। शुक्रवार को इनेलो(INELO) के चार पूर्व विधायकों ने इनेलो छोड़ जेजेपी(JJP) का हाथ थाम लिया है। दुष्यंत चौटाला की अगुवाई में नैना चौटाला(Naina Chautala), पिरथी लंबरदार(Pirthi Lambardar), राजदीप फौगाट(Rajdeep Phogat), अनूप धानक(Anoop Dhanak) ने दिल्ली में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में जेजेपी ज्वॉइन की। दो दिन पहले चारों पूर्व विधायकों ने इनेलो के विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था और एक दिन पहले इनेलो पार्टी से इस्तीफा दिया था।

प्रेस कांफ्रेंस में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लगते ही जेजेपी और बीएसपी,दोनों पार्टिया घोषणा कर देंगी कि वे किन-किन सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। जेजेपी किसी भी महागठबंधन का हिस्सा नहीं बनेगी। अगर इनेलो और कांग्रेस एक हो जाती है तो चौटाला साहब की राजनीति नहीं बचेगी। चौधरी देवी लाल के द्वारा किए गए संघर्ष का भी कोई महत्व नहीं रह जाएगा। दुष्यंत चौटाला(Dushyant Chautala) ने खाप पंचायतों की मुहिम को झटका देते हुए कहा कि चौटाला परिवार राजनीतिक तौर पर एक नहीं होगा। पारिवारिक तौर पर एक होने का फैसला दादा ओम प्रकाश चौटाला और प्रकाश सिंह बादल पर छोड़ दिया है। राजनीतिक तौर पर हमारा गठबंधन बसपा के साथ है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक गठबंधन का फैसला पार्टी और गठबंधन के मुखिया द्वारा लिया जाता है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब किसान चाहते हैं सीधे प्रधानमंत्री से हो बात..

भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा किसी अन्य मंत्री व नेता से...

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...