Wednesday, March 3, 2021

किसान आंदोलन सरकार के खिलाफ बना सिरदर्द, चुनावी राज्यों में दिख सकता है असर !

Must read

सबसे सस्ती 32 इन्च की नई स्मार्ट टीवी

रियलमी  ने अपने प्लैटफॉर्म पर रियलमी डेज़ सेल  की शुरुआत की है, और कंपनी ने यहां पर कई तरह के ऑफर्स देने का ऐलान...

गुजरात के व्यापारियों के साथ जीएसटी अधिकारियों ने किया ये

केंद्र सरकार द्वारा असीमित रुप से जीएसटी अधिकारियों को अधिकार के विरोध तथा गत दिनों गुजरात के व्यापारियों के साथ जीएसटी अधिकारियों द्वारा...

जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री वांग यी से सवा घंटे तक की बात, जानें क्या

नयी दिल्ली  पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग झील इलाके में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत एवं चीन की सेनाओं के पीछे हटने पर संतोष...

अहमदाबाद की पिच खराब है या नहीं: रुट

 अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में तीसरा दिन रात्रि टेस्ट मैच मात्र दो दिन में समाप्त हो जाने को लेकर उठी आलोचनाओं के बीच...

दिल्ली (Delhi) की सीमा के चारों ओर देश के किसान आंदोलन (Farmers protest) कर रहे हैं। इस किसान आंदोलन की चर्चा देश-दुनिया में हो रही हैं, ऐसे में किसानों के लिए इस आंदोलन को गैर राजनीतिक रख पाना मुश्किल हो रहा है। शुरुआत में हो किसान इसमें कामयाब हुए थे, मगर अब आने वाले राज्यों में चुनावों को देखते हुए कई विपक्षी पार्टियों के नेता किसानों के आंदोलन में बहुत रहे हैं और सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं।

आने वाले राज्यों में दिखेगा असर 
बता दें आने वाले दिनों में उत्तरप्रदेश, पंजाब और हरियाणा समेत पश्चिम उत्तरप्रदेश जैसे राज्यों में चुनाव आने वाले हैं, ऐसे में किसानों ने भी 6 फरवरी को पूरे देश में चक्का जाम कर देने का ऐलान किया है। इसका ऐलान करने के बाद विपक्षी पार्टियों किसानों में अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए एक-एक करके किसानों को अपना समर्थन दे रही हैं। धरना स्थल पर लगातार किसान आ रहे हैं। जिसमें शिअद, एनसीपी, डीएमके, टीएमसी और आईयूएमएल जैसी पार्टियों के नेता भी शामिल हैं।

पंजाब में होगा टेस्ट

बता दें पंजाब में आने वाले कुछ दिनों में नगर निगम चुनाव होने वाले हैं, ऐसे में किसान आंदोले के बाद इसे कभी बीजेपी के साथ रहने वाली पार्टी शिरोमणि अकाली दल के लिए टेस्ट  माना जा रहा है। इन चुनावों के बाद यह साफ हो जाएगा कि पंजाब में आने वाले विधानसभा चुनावों में पासा किसके हित में पलटेगा। इन चुनावों में कांग्रेस, शिअद और आप अपनी पूरी ताकत झौंकने वाले हैं।

शरद पवार ने दिया था अपना समर्थन 
महाराष्ट्र में शरद पवार की पार्टी एनसीपी में किसानों में अपनी पकड़ मजबूत करना चाहती है, पार्टी के प्रमुख नेता शरद पवार ने महाराष्ट्र के आजाद मैदान में हुई रैली में हिस्सा लेकर अपना समर्थन दिया था। इसके अलावा सुप्रिया सुले भी गाजीपुर किसान आंदोलन में  लोगों से मिलने गई थी। माना जा रहा है कि पार्टी यह सारी कवायद राज्य में किसानों में कम होती अपनी पकड़ को फिर से मजबूत करना चाहती है।

गौरतलब है कि आने वाले समय में पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, के में भी विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसमें तमिलनाडु में एआईडीएमके के साथ बीजेपी का गठबंधन है। देखना होगा कि तमिलनाडू में किसान आंदोलन के बाद बीजेपी और एआईडीएमके को कितना नुकसान होने वाला है। बता दें राज्य में एक बड़ी आबादी में किसान  कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं।

 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

भारत नेट परियोजना के पूरा होने में कई कारणों से हुई देरी- भूपेश

रायपुर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज विधानसभा में स्वीकार किया कि भारत नेट परियोजना फेस टू के क्रियान्वयन में देरी हुई है,इसके...

कोल्हापुर फैक्टरी में भीषण आग लगी

कोल्हापुर,  महाराष्ट्र में कोल्हापुर के हाथकानानगाले शहरी तहसील की लक्ष्मी औद्योगिक एस्टेट में एक फैक्टरी में मंगलवार को भीषण आग लग जाने से कम...

सरकार के जवाब से असंतुष्ट सपा सदस्यों ने किया परिषद से बहिर्गमन

लखनऊ,  उत्तर प्रदेश विधान परिषद में कृषि मण्डी संशोधन अधिनियम संशोधन कर मण्डियों की उपयोगिता कम करने के संबंध में दी सूचना पर सरकार...

फर्रुखाबाद जिला पंचायत सदस्यों की आरक्षण सूची जारी

फर्रुखाबाद जिला प्रशासन द्वारा जिला पंचायत सदस्यों की आरक्षण सूची जारी कर दी गयी। राजेपुर प्रथम : अनारक्षित राजेपुर द्वितीय : पिछड़ी जाति महिला राजेपुर तृतीय :...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बजट को लेकर कही ये बात

भोपाल, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश का आज विधानसभा में प्रस्तुत वार्षिक बजट प्रदेश को प्रगति पथ पर ले...