Friday, May 14, 2021

औरैया में मां को हरा बेटा बना जिला पंचायत सदस्य

Must read

कृषि मंत्री की रासायनिक खादों के दामों में हुई वृद्धि को वापस लेने की मांग

रायपुर, छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने रासायनिक उर्वरकों खासकर डीएपी के दाम में प्रति बोरी लगभग 700 रुपये की वृद्धि किए जाने...

आज आखिरी रोजा, जुमे की नमाज के साथ 14 मई को मनाई जाएगी ईद

 नई दिल्‍ली. रमजान (Ramadan) का महीना पूरा होने पर दुनियाभर में ईद-उल-फितर (Eid-Al-Fitr 2021) मनाया जाता है, जो कि मुसलमानों का सबसे बड़ा त्‍योहार है....

राज्यसभा सदस्य उदयसिंह राजे भोंसले का कोरोना से निधन

नागपुर  राज्यसभा सदस्य एवं महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री उदयसिंह राजे भोंसले का कोरोना संक्रमण से शुक्रवार की रात यहां निधन हो गया।भोंसले का नागपुर...

सपा MLC सुनील सिंह साजन समेत 40 पर मुकदमा, जाने पूरा मामला

उन्नाव. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के उन्नाव (Unnao) जिले  के अजगैन कोतवाली क्षेत्र में स्थित होटल गीता गार्डेन में तीन दिन पहले बिना अनुमति बैठक...

औरैया,  उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में पंचायत चुनाव के कुछ चुनाव परिणाम बहुत ही दिलचस्प आये, जिन्हें देख लोग दंग रह गये। ऐसा ही एक परिणाम अजीतमल तृतीय क्षेत्र से जिला पंचायत सदस्य पद का देखने को मिला जहां बेटे ने विकल्प के रूप में मां का पर्चा भरवाया था और मतदाताओं ने उन्हीं दोनों पर भरोसा जता उन्हें विनर और रनर बना दिया।

जिले में पंचायत चुनाव में एक परिवार के कई सदस्य भाई-भाई, चाचा-भतीजा, देवरानी-जिठानी आदि आमने-सामने चुनाव लड़ते नजर आये, ये ऐसा पहला मामला है जहां अजीतमल तृतीय क्षेत्र से बसपा समर्थित जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी बृज किशोर उर्फ आशु पाल ने नामांकन पत्र दाखिल के बाद जांच में निरस्त न हो जाए, इसलिये विकल्प के रूप में अपनी मां उमा देवी पाल का भी नामांकन पत्र दाखिल कराया था और पर्चा वापसी के समय उसे वापस नहीं कराया।
हालांकि निर्दलीय प्रत्याशी उमा देवी ने स्वास्थ्य खराब व डमी प्रत्याशी होने के चलते क्षेत्र में एक दिन भी जनसंपर्क नहीं किया था, लेकिन जनता ने सिर्फ मां और बेटे पर ही भरोसा जताया। बीती देर शाम मतगणना के बाद परिणाम सामने आने पर उसे देख सभी लोग दंग रह गए। बसपा के आशु पाल 11,740 वोट के साथ पहले नंबर पर थे तो दूसरे नंबर पर कोई और नहीं, बल्कि उनकी मां उमा देवी 6,196 वोटों के साथ थीं।

आशू पाल ने मां को विकल्प के रूप में जरूर उतारा पर क्षेत्र की जनता ने मां और बेटे के अलावा अन्य दलों के प्रत्याशियों को पूरी तरह से नकार दिया और मां-बेटे की झोली वोटों से भर दी। दरअसल बसपा के युवा नेता आशु पाल बीते पांच साल से अजीतमल तृतीय सीट से चुनाव लड़ाने के लिए क्षेत्र में जन संपर्क कर रहे थे। जब चुनाव की बारी आई तो बसपा ने भी आशु पाल पर ही भरोसा जताया।

आशु पाल ने कहा कि क्षेत्र की जनता ने उन्हें और उनकी मां को जमकर वोट दिया है, उनकी प्राथमिकता क्षेत्र का विकास कराना होगा। यह उनकी मां उमा देवी और क्षेत्र की जनता की जीत है। दूसरी नंबर पर रहीं निर्दलीय प्रत्याशी और मां उमा देवी बेटे की इस जीत पर गदगद हैं।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...