Friday, December 4, 2020

अब टीएमसी, एनसीपी समेत इस बड़ी पार्टी की राष्ट्रीय मान्यता पर मंडराया खतरा

Must read

नवादा में सनसनीखेज वारदात, एक महिला और उसके दो बेटों के शव मिला

जिले से इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है जहां एक महिला और उसके दो बेटों का शव एक साथ घर में...

UP: बरेली में ‘लव जिहाद’ के आरोप में पहली FIR, नए कानून के तहत दर्ज हुआ केस

योगी सरकार ने लव जिहाद पर कानून लाने के बाद बरेली में लव जिहाद का पहला मुकदमा दर्ज किया गया है। जहां एक मुस्लिम...

अब नौसेना पूरे हिन्द महासागर को कर सकेगी ट्रैक, जाने कैसे

नई दिल्ली : भारतीय नौसेना का सूचना प्रबंधन और विश्लेषण केंद्र (आईएमएसी) राष्ट्रीय समुद्री डोमेन जागरुकता (एनएमडीए) केंद्र में तब्दील होगा। यह नेशनल कमांड...

किसानों ने बैरिकेड पर चढ़ाया ट्रैक्टर , आंदोलन के साथ क्या भड़क रहे है किसान

दिल्ली चलो मार्च के आह्वान को लेकर गाजीपुर बॉर्डर पर पिछले छह दिनों से डटे किसानों का प्रदर्शन अब हिंसक होता जा रहा है।...

इन पार्टियों का अस्तित्व खतरे में, चुनाव आयोग की लटकी तलवारएक राजनीतिक पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी की मान्यता देने के लिए देश के चुनाव आयोग ने कुछ मानक तय किए हैं। उन शर्तों पर खरा उतरने के बाद ही एक राजनीतिक पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिलता है। मई में हुए चुनावों के बाद चुनाव आयोग ने कुछ राष्ट्रीय पार्टियों को इस दर्जे के लिए नाकाबिल पाया। ऐसे में आयोग ने इन पार्टियों को नोटिस जारी कर दिया है।

चुनाव आयोग ने पाया है कि टीएमसी (TMC), एनसीपी (NCP) और सीपीआई (CPI) राष्ट्रीय पार्टी की मान्यता प्राप्त करने के लिए निर्धारित 3 शर्तों पर खरा नहीं उतरती और इसलिए उन्हें नोटिस भेजा है। वहीँ 6 राज्यों में 6 राज्य स्तरीय पार्टियों की मान्यता खतरे में है। इसमें अजीत सिंह (Ajit Singh) की अगुआई वाली राष्ट्रीय लोक दल (Rashtriya Lok Dal/आरएलडी) भी शामिल है। चुनाव आयोग के नोटिस के जवाब में सभी पार्टियों ने आयोग से गुहार लगाई थी कि मान्यता खत्म न की जाए। इसलिए चुनाव आयोग सभी 6 पार्टियों को सुनवाई का आखिरी मौका देगी।

1866 पंजीकृत राजनीतिक दल

गौरतलब है कि चुनाव आयोग के समक्ष राजनीतिक दल के रूप में पंजीकरण कराने के लिए काफी संख्या में आवेदन आ रहे हैं। मार्च 2014 से इस जुलाई 2019 के बीच 239 नए संगठनों ने पंजीकरण कराया है। इनमे से 56 दल मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय या राज्य स्तरीय दल थे हुए और शेष पंजीकृत दल गैर-मान्यता प्राप्त थे। चुनाव आयोग के अनुसार, 24 जुलाई को देश में पंजीकृत राजनीतिक दलों की कुल संख्या 1866 दर्ज की गई। देश में राजनीतिक दलों इतनी बड़ी संख्या की वजह से ही भारत को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र माना जाता है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब किसान चाहते हैं सीधे प्रधानमंत्री से हो बात..

भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा किसी अन्य मंत्री व नेता से...

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...