Saturday, January 16, 2021

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर सबसे ज्यादा आघात भाजपा राज में हुआ : अखिलेश यादव

Must read

Uttar Pradesh: जालौन का धार्मिक स्थल तुलसी चबूतरा उपेक्षा का शिकार

Uttar Pradesh उत्तर प्रदेश के जालौन में महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल तुलसी चबूतरा प्रशासनिक उपेक्षा का शिकार हो ध्वस्त होता जा रहा है। माधौगढ़ तहसील...

Supreme Court के रोक लगाने के बाद जानिए क्या करेगी केंद्र सरकार

    Agricultural laws को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान Supreme Court ने कमिटी की रिपोर्ट आने और अगले आदेश तक कृषि कानूनों...

भदोही में जानिए क्यों, कालीन कारोबारी ने किसान को दौड़ा कर मारी गोली और फिर हुआ फरार

    भदोही: उत्तर प्रदेश में भदोही जिले के शहर कोतवाली क्षेत्र में शनिवार को कालीन कारोबारी ने मेड़बंदी के विवाद में एक किसान को गोली...

कर्नाटक में दो वाहनों में भीषड़ टक्कर, इतने लोगों की मौत, कई घायल

धारवाड:  कर्नाटक में धारवाड जिले के इटागट्टी के पास शुक्रवार तड़के टैम्पो और टिप्पर में टक्कर होने से कम से कम 11 लोगों की...

साल 2008 में 26 नवंबर को मुंबई में हुए भयानक आतंकी हमले (26/11 Mumbai Attack) के आज 12 साल हो गए हैं इस पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि आज के ही दिन 26 नवम्बर 1949 को ‘सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक गणराज्य‘ का संविधान अंगीकृत और आत्मार्पित किया गया था। भारत के इस संविधान की उद्देशिका में सामाजिक आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त कराने और व्यक्ति की गरिमा एवं राष्ट्रीय अखण्डता सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढ़ाने का दृढ़संकल्प भी घोषित किया गया था।

इस विषय पर आगे बात करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि “संविधान निर्माता बाबा साहेब डाॅ. भीमराव अम्बेडकर ने तब यह चेतावनी दी थी कि संविधान के प्रयोग में नीति और नीयत की भी अहम भूमिका होगी। ऐसे में यह आवश्यक है कि लोकतंत्रात्मक गणराज्य भारत में सत्ता के शीर्ष में बैठे लोगों की लोकतंत्र में अटूट निष्ठा होनी चाहिए। लोकतंत्र लोकलाज से चलता है, यह बात भुलाई नहीं जा सकती।

भाजपा राज में सामाजिक न्याय की अनदेखी

संविधान उद्देशिका में जिस सामाजिक न्याय, राष्ट्रीय एकता एवं विचार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का जिक्र है उन सबकी भाजपा राज में अनदेखी हो रही है। समाजवादी पार्टी बराबर यह मांग उठाती रही है कि जाति आधारित जनगणना हो ताकि हर समाज को संख्या बल पर सानुपातिक प्रतिनिधित्व हासिल हो सके। भाजपा इसके विरोध में है क्योंकि वह आरक्षण समाप्त करना चाहती है। डाॅ. लोहिया ने पिछड़ी जातियों के उत्थान के लिए विशेष अवसर का सिद्धांत दिया था, भाजपा उसे लागू करना नहीं चाहती है।

उन्होंने कहा कि, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर सबसे ज्यादा आघात भाजपा राज में हुआ है। असहमति को देशद्रोह का तमगा दिया जाने लगा है। बच्चों को मिड-डे-मील में नमक-रोटी दिए जाने का सच दिखाने पर पत्रकार को जेल भेज दिया जाता है। सच लिखने पर पत्रकारों की जानें तक चली गई है। सरकार का रवैया एकपक्षीय रूप से समाज के कमजोर वर्ग पर हमलावर जैसा है। उपासना और धार्मिक विश्वासों पर चोट की जा रही है। समाज को बांटने वाली विचारधारा का प्रचार किया जा रहा है। भाषा की मर्यादा भूलकर विद्वेषकारी बयान दिए जाते हैं।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बंगाल में 623 नए covid केस, रिकवरी रेट जानकर हैरान हो जायेंगे आप 

  कोलकाता: पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (covid) के 623 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या शुक्रवार...

बिहार :नाबालिग छात्र ने किया suicide, सामने आ रही है ये वजह 

  गया. बिहार में गया जिले के रामपुर थाना क्षेत्र में एक नाबालिग छात्र ने प्रेम प्रसंग में आत्महत्या(suicide) कर ली। पुलिस सूत्रों ने शुक्रवार...

Mathura : लेफ्टिनेंट जनरल करियप्पा ने दी शहीदों को श्रद्धाजंलि

  मथुरा: 15 जनवरी सेना दिवस के अवसर पर शुक्रवार को लेफ्टीनेन्ट जनरल सी. पी. करियप्पा ने राष्ट्रीय सुरक्षा और सम्मान के लिए सर्वोच्च बलिदान...

राम मंदिर निर्माण के लिए दान देते हुए कल्याण सिंह ने जताई ये इच्छा, आप भी जानें  

    लखनऊ: राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (kalyan singh) ने कहा कि उनकी अंतिम इच्छा...

सुशील मोदी ने ट्वीट कर क्यों कहा-बिचौलियों की लड़ाई लड़ रहा है विपक्ष,पढ़िए यहाँ  

  पटना: राज्यसभा सांसद एवं बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (sushil kumar modi) ने कृषि कानून के विरोध में आंदोलनरत किसानों से...