Monday, March 8, 2021

नेशनल रिकॉर्ड जीत कर शामली के बेटे ने शहर का नाम किया रोशन

Must read

करोड़ रुपए का नशीले पदार्थ के साथ दो सगे भाई गिरफ्तार

आज का दिन अमेठी पुलिस के लिए बहुत ही अच्छा रहा क्योंकि एक तरफ जहां पर अमेठी कोतवाली पुलिस के द्वारा रात में मुठभेड़...

शिक्षा मित्रों को स्थाई शिक्षक नियुक्त किया जाय – ध्रुव कुमार त्रिपाठी

लखनऊ, शिक्षा मित्रों का मामला विधानपरिषद में उठा , शिक्षक नेता ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने सवाल किया शिक्षा मित्रों को स्थाई शिक्षक नियुक्त किया जाय...

Whatsapp ने लांच किया ये शानदार, अब वीडियो भेजने से पहले कर सकेंगे ये काम

दिल्ली,  इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप Whatsapp अपने यूजर्स को बेहतर अनुभव प्रदान करने के लिए नए-नए फीचर्स पेश करता आया है। इस कड़ी में अब...

वाराणसी में आनंदीबेन ने विद्यार्थियों के लिए कही ये बात, जाने क्या

वाराणसी, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंगलवार को यहां कहा कि विश्वविद्यालयों में वर्षों से रखी विभिन्न कक्षाओं की उपाधियां संबंधित विद्यार्थियों...

शामली, मंजिल उन्ही को मिलती हैं जिनके सपनो में जान होती है,पंखों से कुछ नही होता हौंसलो से उड़ान होती है” कवि के ये लाइन शामली के रितिक मलिक ने साकार कर दिखाया है। जनपद शामली के रहने वाले रितिक ने न सिर्फ एथलीट में 100 मीटर की दौड़ में पुराने रेकॉर्ड को तोड़ा है बल्कि नेशनल रिकॉर्ड कोअपने नाम कर शामली जिले का नाम रोशन किया है।

जिसके चलते सोमवार को गांव पहुंचे युवा धावक का पैतृक गांव पहुंचने पर ग्राम वासियों ने बहुत ही जोरदार स्वागत किया है। उसे खुली गाड़ी में बैठा कर पूरे गांव में घुमाया जहां पर पूरे गांव में जगह-जगह उसका माला पहनाकर स्वागत किया गया तो वही आशीर्वाद स्वरुप पैसे भी दिए गए।

रितिक मलिक ने जूनियर नेशनल चैंपियनशिप 2021 में 100 मीटर की दौड़ में गोल्ड मेडल हासिल किया है तो वही 200 मीटर की दौड़ में सिल्वर मेडल प्राप्त किया है गोल्ड मेडल जीत कर आए रितिका आज ग्राम वासियों ने पूरे जोर-शोर से ढोल नगाड़ों के साथ गाड़ी में बैठा कर पूरे गांव मैं घुमाया गांव में घुमाने के दौरान जगह-जगह रितिक का फूल मालाओं से स्वागत किया गया तो वही रितिक ने भी अपने बड़ों के पैर छूकर आशीर्वाद प्राप्त किया महिलाओं ने भी ऋतिक को अपना आशीर्वाद देकर उसके निरंतर आगे बढ़ने की कामना की जहां रितिक ए गोल्ड मेडल जीतकर लाने से पूरे गांव में खुशी का माहौल है|

ये भी पढ़े – भोपाल जिले की ग्राम पंचायतों में इस तारीख को होगी कबड्डी प्रतियोगिता

तो वहीं आसपास के क्षेत्र में भी इस बात की खूब सराहना की जा रही है और जब आसपास के लोगों को भी इस बात का पता चला कि हमारे क्षेत्र का लड़का गोल्ड मेडल जीतकर आया है तो ऋतिक के घर पर लोगों का तांता लग गया ऋतिक के इस भव्य स्वागत के दौरान हजारों की तादाद में लोग इकट्ठा हुए वही रितिक के पिता प्रमोद मलिक भी ग्रामीणों द्वारा भव्य स्वागत किए जाने पर अपने आप को भावुक होने से नहीं रोक पाए।

रितिक ने कब और कहां कहां पदक जीते

रितिक 19 वर्ष के हैं और वह दिल्ली यूनिवर्सिटी के किरोड़ीमल कॉलेज से b.a. फर्स्ट ईयर के छात्र हैं। रितिक ने 2016 में एथलीट्स शुरू किया था इससे पहले वह हॉकी खेलता था और वह हॉकी में भी नेशनल और एसजीएफआई खेला है। इतना ही नहीं रितिक ने 2019 में अंडर 18 मे नेशनल रिकॉर्ड कायम किया था और रितिक ने गुरविंदर वीर सिंह के नेशनल रिकॉर्ड को तोड़ा था गुरविंदर वीर सिंह का 100 मीटर की दौड़ में 10.69 का नेशनल रिकॉर्ड था जिसे तोड़ते हुए रितिक ने नया नेशनल रिकॉर्ड 10.65 बनाया था।

रितिक ने हाल ही में हुए जूनियर नेशनल चैंपियनशिप 2021 में 100 मीटर की दौड़ में गोल्ड मेडल हासिल किया है तो वहीं इसी चैंपियनशिप में 200 मीटर की दौड़ में सिल्वर मेडल हासिल किया है रितिक नेम दिल्ली एथलीट चैंपियनशिप 2021 में 100 मीटर की दौड़ में गोल्ड मेडल तो वहीं 200 मीटर की दौड़ में गोल्ड मेडल हासिल किया है। इसके अलावा रितिक ने 2019 में अंडर 18 जूनियर नेशनल चैंपियनशिप में नेशनल रिकॉर्ड को तोड़ते हुए नया नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम करने का भी कीर्तिमान हासिल किया है।

रितिक एक किसान परिवार से आता है और उसके पिता दिल्ली पुलिस में एसआई के पद पर तैनात है और रितिक के परिवार में रीतिक के अलावा उसकी एक बड़ी बहन दिव्या और उसके माता-पिता हैं। रितिक के पिता प्रमोद मलिक दिल्ली पुलिस में एसआई के पद पर तैनात है और रितिक की मां एक ग्रहणी है। रितिक का पूरा परिवार दिल्ली में ही रहता है और आज वह ग्रामीणों के बुलावे पर गांव में पहुंचे थे जहां पर ग्रामीणों ने उनका भव्य स्वागत किया।

भाई के लिए बहन की कुर्बानी भी बनी एक मिसाल

रितिक की बड़ी बहन दिव्या 23 वर्ष की है जो कि एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करती है और वह भी क्रिकेट की बहुत अच्छी खिलाड़ी रह चुकी हैं लेकिन उन्होंने अपने भाई रितिक के लिए अपने क्रिकेट मोह को त्याग दिया क्योंकि वह अपने भाई को आगे बढ़ाना चाहती हैं और क्योंकि उनके पिता किसान परिवार से आते हैं इसलिए वह दोनों को स्पोर्ट्स सिखाने के लिए होने वाले खर्चे को वहन नहीं कर सकते थे इसलिए मैंने भाई के लिए अपने क्रिकेट मोह को त्याग दिया और प्राइवेट कंपनी में जॉब करने लगी।

 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

पंजाब में पिछले चौबीस घंटों में कोरोना के मामले

पंजाब में पिछले चौबीस घंटों में कोरोना के पाजिटिव मामले 1179 सामने आये हैं और बारह मरीजों की मौत हो गयी । स्वास्थ्य विभाग की...

जानिए किसे कोरोना वैक्सीनेशन में प्रथम स्थान मिला

 उत्तर प्रदेश मे देवीपाटन मंडल के बलरामपुर जिले को कोरोना वैक्सीनेशन में प्रथम स्थान मिला हैं । जिलाधिकारी  श्रुति नें शनिवार को यूनीवार्ता से कहा...

भाजपा की गलत नीतियों और झूठे वादों से नाराज किसान और नौजवान- अखिलेश

समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि भाजपा की गलत नीतियों और झूठे वादों से नाराज...

लापता स्कूल प्रबंधक बरामद, पुलिस जांच में जुटी

उत्तर प्रदेश में फिरोजाबाद के शिकोहाबाद से नौ दिन पूर्व रहस्मय ढ़ंग से लापता हुये स्कूल प्रबंधक को पुलिस ने आगरा से सकुशल बरामद...

गिरीश गाैतम का रीवा पहुंचने पर हवाई पट्टी पर भव्य स्वागत

 मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गाैतम का आज रीवा पहुंचने पर उनका चोरहटा हवाई पट्टी पर भव्य स्वागत किया गया। आधिकारिक जानकारी के अनुसार श्री गिरीश...