Wednesday, April 14, 2021

राज गोपाल सिंह वर्मा को प0 महावीर प्रसाद द्विवेदी पुरस्कार दिया जायेगा

Must read

मासूम बच्चे को पिलाया कोल्ड ड्रिंक, फिर दिया एस जु्र्म को अंजाम

बिग ब्रेकिंग बाराबंकी एक ओर गांव में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का डंका बज रहा है,,, वहीं दूसरी ओर कोल्ड ड्रिंक पिलाने के बहाने एक 12...

हेरोइन लेकर भारतीय क्षेत्र में घुसे पाकिस्तानी तस्कर को अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मार गिराया.

अमृतसर से एक बड़ी खबर सामने आई है.मिली जानकारी के अनुसार  पंजाब पुलिस और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने एक संयुक्त अभियान में 22...

कोरोना मौत पर गलत आंकड़े दे रही है योगी सरकार : प्रियंका

नयी दिल्ली,  कांग्रेस की उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कोरोना के विरुद्ध गैरजिम्मेदारी से...

ग्वालियर जिले में शासकीय अधिकारी एवं कर्मचारियों के अवकाश पर रोक

ग्वालियर,  मध्यप्रदेश के ग्वालियर जिले मेें जिला प्रशासन ने शासकीय अधिकारियों और कर्मचारियों के अवकाश पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये भी पढ़ें-छह राज्यों में...

उत्तर प्रदेश ‘राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान’ द्वारा पुरस्कार समिति की संस्तुति के आधार पर सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के पूर्व उपनिदेशक राज गोपाल सिंह वर्मा को 2021 का प0 महावीर प्रसाद द्विवेदी पुरस्कार दिया जायेगा।
श्री वर्मा को उनकी मौलिक कृति ‘बेगम समरू का सच’ (गद्य) के लिए वर्ष 2020-21 के ‘पं0 महावीर प्रसाद द्विवेदी पुरस्कार’ एक लाख के लिए चयनित किया गया है। यह सम्मान श्री वर्मा को संस्थान के वार्षिक ‘पुरस्कार एवं सम्मान समारोह’ 14 मार्च को सभागार भातखंडे संगीत महाविद्यालय में प्रदान किया जायेगा।
सरकार ने इस पुरस्कार का चयन मेरठ जिले के सरधना कस्बे की तत्कालीन जागीरदार फरजाना उर्फ बेगम समरू के व्यक्तित्व और कृतित्व पर लिखी श्री वर्मा की मौलिक कृति ‘बेगम समरू का सच’ पर किया है। यह एक ऐसी शोध परक किताब बन पड़ी है, जिसके लिए उन्होंने सरधना की उस प्रभावशाली जागीरदार बेगम समरू के व्यक्तित्व और कृतित्व के विभिन्न पहलुओं पर गहनता और खोजपूर्ण ढंग से काम किया, इस प्रकार ऐसी कृति का सृजन हुआ, कि जिस महिला ने राष्ट्र के संक्रमण काल में 58 वर्ष तक कुशलतापूर्वक शासन किया था, उसके वास्तविक इतिहास को जाना जा सके, प्रमाणिक इतिहास को ध्यान में रखने के कारण यह पुस्तक बेगम समरू को लेकर जनमानस में फैली तमाम भ्रातियों का निवारण होने में तो कारगर है ही, उनके जीवन के विभिन्न अनछुए पहलुओं का एक ईमानदार आकलन कर वास्तविकता को सामने लाने के सकारात्मक प्रयास के रूप में भी देखी जा सकती है।
राजगोपाल सिंह वर्मा की इस पुस्तक की देश-विदेश की प्रमुख साहित्यिक और ऐतिहासिक पत्र-पत्रिकाओं ने समीक्षाएं और चर्चायें प्रकाशित कर सराहना की है, पत्रकारिता तथा इतिहास में स्नातकोत्तर शिक्षा प्राप्त श्री वर्मा को केन्द्र एवं उत्तर प्रदेश सरकार में विभिन्न मंत्रालयों में प्रकाशन, प्रचार और जनसंपर्क के क्षेत्र में जिम्मेदार पदों पर कार्य का अनुभव है। उन्होंने कई वर्ष तक प्रदेश सरकार की साहित्यिक पत्रिका ‘उत्तर प्रदेश’ का स्वतंत्र सम्पादन किया जबकि इससे पूर्व उनका उद्योग मंत्रालय तथा स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार में भी सम्पादन का अनुभव रहा है।

- Advertisement -

More articles

Latest article

मंदिर में शादी कर लांखो की नकदी और जवैलरी लेकर रफूचक्कर हुई लूटेरी दुल्हन

जनपद मुज़फ्फरनगर के थाना भौरा कलां क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर रायसिंह निवासी किसान देवेंद्र मलिक एक महिला और एक रिस्तेदार के हाथों ठगी का...

अजमेर में भगवान झूलेलाल की ज्योत एवं प्रतिमा का जुलूस निकाला

अजमेर,  राजस्थान में अजमेर में सिंधी समाज के इष्टदेव भगवान झूलेलाल के अवतरण दिवस चेटीचंड के मौके पर आज भगवान झूलेलाल की ज्योत एवं...

राजनांदगांव में कोरोना संक्रमण बढ़ा, सुविधाओं को हो रहा विस्तार

राजनांदगांव,  छत्तीसगढ़ की राजनांदगांव नगर पालिका सहित जिले में एक ही दिन में 1284 कोरोना संक्रमित मरीज सामने आये और लगभग दर्जनभर लोगों की...

जीटीए का स्थायी राजनीतिक समाधान निकाला जायेगा: शाह

लेबोंग,  केंन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को दार्जिलिंग हिल्स के लोगों को आश्वासन दिया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन...

एम्स में खाली बेड कोरोना मरीजों के लिए-शिवराज

भोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकरण के संबंध में चिंता जाहिर करते हुए कहा कि...