Monday, March 8, 2021

प्रियंका गांधी वाड्रा ने भारतीय जनता पार्टी पर साधा निशाना

Must read

फर्रुखाबाद जिला पंचायत सदस्यों की आरक्षण सूची जारी

फर्रुखाबाद जिला प्रशासन द्वारा जिला पंचायत सदस्यों की आरक्षण सूची जारी कर दी गयी। राजेपुर प्रथम : अनारक्षित राजेपुर द्वितीय : पिछड़ी जाति महिला राजेपुर तृतीय :...

बेरोजगारी के मुद्दे पर उठे सवाल पर सदन में मचा हंगामे

उत्तर प्रदेश, सदन में हंगामे पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की बाईट - बेरोजगारी के मुद्दे पर स्थगन के समय पर सवाल...

भारत निर्वाचन आयोग और निर्वाचन विभाग राजस्थान में करने जा रहा ऐसा ऐलान

 भारत निर्वाचन आयोग और निर्वाचन विभाग राजस्थान में सुरक्षित‘ उप चुनाव के लिए पहली बार ऎसे नवाचार करने जा रहा है, जो प्रदेश ही...

Whatsapp ने लांच किया ये शानदार, अब वीडियो भेजने से पहले कर सकेंगे ये काम

दिल्ली,  इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप Whatsapp अपने यूजर्स को बेहतर अनुभव प्रदान करने के लिए नए-नए फीचर्स पेश करता आया है। इस कड़ी में अब...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) का नाम लिए बिना निषाद समुदाय की एक जनसभा में कहा कि मौजूदा सरकार नदी और जंगल की बदौलत रोजी रोटी कमाने वालों की नहीं सुनती बल्कि पर्यावरण की अमूल्य संपदा को नुकसान पहुंचाने वाले खनन माफियाओं के लिए चलायी जा रही है।
वाड्रा रविवार को जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर यमुना तट पर स्थित घूरपुर के बसवार गांव में निषाद समुदाय के लोगों के बीच पहुंची जहां उन्हे पुलिस कार्रवाई के बारे में जानकारी दी गयी। कांग्रेस महासचिव ने निषादों को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया और कहा कि आज योजनाएं खनन माफियाओं के लिए बनाई जा रही हैं। अलग अलग माफियाओं के लिए कानून बनाए जा रहे हैं।
उन्होने कहा कि नये कृषि कानूनों से किसान का नुकसान हो रहा है और बड़े उद्योगपतियों का फायदा हो रहा है। इसी तरह से जो कानून नदियों पर लागू है वो आपकी भलाई के लिए नहीं है, वो कानून उद्योगपतियों की भलाई के लिए है। उन्होने कहा कि कांग्रेस निषाद समुदाय के इस मुद्दे को न सिर्फ सदन में उठायेगी बल्कि पूरी तरह से उनकी लड़ाई लड़ेगी। इस मामले में न्यायपालिका में निषादों की पैरवी कांग्रेस के वरिष्ठ कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद और अभिषेक सिंघवी करेंगे और उन्हे यथासंभव मदद करेंगे।
श्रीमती वाड्रा ने कहा कि जो पर्यावरण है, नदियां है, जंगल हैं, उनके आसपास रहने वाले लोग उनकी कमाई उसके जरिए से होती है उसकाे क्षति नहीं पहुंचाएंगे क्योंकि आपका जीवन उससे जुड़ा है। लेकिन बड़े बड़े ठेकेदार नदी, जंगल से जुडा नहीं होता और जब वो कार्य करते है तो व्यापार करते है। उनको इससे कोई मतलब नहीं कि नदी या जंगल की हानि हो रही है। वाड्रा गांव से करीब दो किलोमीटर दूर कछार में पैदल ही घटना स्थल पर पहुंचकर क्षतिग्रस्त नौकाओं का मुआयना किया।

 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

पंजाब में पिछले चौबीस घंटों में कोरोना के मामले

पंजाब में पिछले चौबीस घंटों में कोरोना के पाजिटिव मामले 1179 सामने आये हैं और बारह मरीजों की मौत हो गयी । स्वास्थ्य विभाग की...

जानिए किसे कोरोना वैक्सीनेशन में प्रथम स्थान मिला

 उत्तर प्रदेश मे देवीपाटन मंडल के बलरामपुर जिले को कोरोना वैक्सीनेशन में प्रथम स्थान मिला हैं । जिलाधिकारी  श्रुति नें शनिवार को यूनीवार्ता से कहा...

भाजपा की गलत नीतियों और झूठे वादों से नाराज किसान और नौजवान- अखिलेश

समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि भाजपा की गलत नीतियों और झूठे वादों से नाराज...

लापता स्कूल प्रबंधक बरामद, पुलिस जांच में जुटी

उत्तर प्रदेश में फिरोजाबाद के शिकोहाबाद से नौ दिन पूर्व रहस्मय ढ़ंग से लापता हुये स्कूल प्रबंधक को पुलिस ने आगरा से सकुशल बरामद...

गिरीश गाैतम का रीवा पहुंचने पर हवाई पट्टी पर भव्य स्वागत

 मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गाैतम का आज रीवा पहुंचने पर उनका चोरहटा हवाई पट्टी पर भव्य स्वागत किया गया। आधिकारिक जानकारी के अनुसार श्री गिरीश...