Saturday, May 15, 2021

नगरोटा मुठभेड़ पर पाकिस्तानी उच्चायुक्त तलब, भारत ने दर्ज कराया कड़ा विरोध…

Must read

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...

दिल्ली में 100 बेड का कोविड अस्पताल बनवाएंगी हुमा कुरैशी

मुंबई,  बॉलीवुड अभिनेत्री हुमा कुरैशी कोरोना महामारी संकट के समय लोगों की मदद के लिये आगे आयी हैं और वह दिल्ली में 100 बेड...

कोरोना कफर्यू का उल्लंघन करने पर 24 के खिलाफ मामला दर्ज

सतना, मध्यप्रदेश के सतना में कोरोना कफर्यू का उल्लंघन करने के मामले में लगभग दो दर्जन व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस...

सैफई मेडिकल यूनीवर्सिटी के कुलपति छुट्टी पर भेजे गये

इटावा, उत्तर प्रदेश के इटावा में सैफई मेडिकल यूनीवर्सिटी के कुलपति प्रो.राजकुमार को छुट्टी पर भेज दिया है। प्रमुख सचिव आलोक कुमार ने यूनीवर्सिटी में...

नई दिल्ली : भारत ने शनिवार को नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के प्रभारी राजनयिक को तलब कर जम्मू कश्मीर के नगरोटा में आतंकियों से हुई मुठभेड़ के मामले में सख्त विरोध दर्ज कराया है। इस मुठभेड़ में चार आतंकी मार गिराए गए थे जिनका संबंध जैश-ए-मोहम्मद से था। कल हुई उच्च स्तरीय बैठक में यह सामने आया था कि ये आतंकी 26/11 जैसी कोई बड़ी वारदात करने की फिराक में थे।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी राजनयिक को भारत का कड़ा विरोध दर्ज कराते हुए कहा गया है कि पाकिस्तान अपनी सरजमी से आतंकियों और उनके लॉन्च पैड खत्म करे। पाकिस्तानी राजनयिक को यह भी बताया गया है कि भारत अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए सभी उचित कदम उठाएगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर में आंतकियों के खिलाफ हुई बड़ी कार्रवाई के बाद सुरक्षा की स्थिति का जायजा लेने के लिए उच्चस्तरीय बैठक की थी। बैठक के बाद ट्वीट कर उन्होंने कहा था कि इस तरह की वारदात को नाकाम कर भारतीय सुरक्षा बलों ने एक बार फिर अपनी बहादुरी और कार्यदक्षता का प्रदर्शन किया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नगरोटा आतंकी हमले की साजिश को नाकाम किए जाने के बाद गृहमंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला, शीर्ष खुफिया अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी। बैठक में शीर्ष खुफिया नेतृत्व ने यह बताया था कि आतंकवादी 26/11 की बरसी पर कुछ बड़ा करने की योजना बना रहे थे।

प्रधानमंत्री ने बैठक के कुछ देर बाद ट्वीट कर कहा था कि हमारे सुरक्षा बलों ने एक बार फिर अत्यंत बहादुरी और कार्यदक्षता का प्रदर्शन किया है। उनकी सतर्कता के कारण जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्तर के लोकतांत्रिक प्रक्रिया को निशाना बनाने की एक नापाक साजिश को हराया गया।

उल्लेखनीय है कि जम्मू-कश्मीर के नगरोटा बन टोल प्लाजा पर गुरुवार को सुरक्षा बलों ने ट्रक में छिपकर जा रहे चार जैश-ए-मोहम्मद आतंकियों को मार गिराया था। केन्द्रीय जांच एजेंसी अब इस मामले की जांच में जुट गई है। जम्मू-कश्मीर में जिला विकास परिषद के चुनाव होने वाले हैं। इससे पहले आतंकियों की राज्य में बड़ी आतंकवादी वारदात की साजिश थी।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...