Friday, December 4, 2020

कूड़े में मिली साहिर लुधियानवी की अमानत, दंग रह गए प्रशंसक!

Must read

राज्यसभा उपचुनाव : सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे नामांकन, RJD के उम्मीदवार पर सस्पेंस

बिहार की एक राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मतदान होगा या नहीं इस पर से सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है।...

कार्तिक पूर्णिमा पर कोरोना की फिक्र नहीं, पटना के गंगा घाट पर उमड़ी भीड़

देश के कई राज्यों में कोरोना की वापसी और बिहार में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार और प्रशासन लगातार लोगों से...

पटना : पुल से कूद कर लड़की ने की आत्महत्या, पुलिस ने शुरू की जाँच

राजधानी पटना से एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहाँ पुल से कूद कर एक लड़की ने आत्महत्या कर ली। यह पुल हाल...

हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों पर हत्या के प्रयास, दंगा करने के आरोप में किया केस दर्ज

नई दिल्ली : हरियाणा पुलिस ने भारतीय किसान संघ (BKU) की प्रदेश इकाई के प्रमुख गुरनाम सिंह चारूणी और अन्य किसानों पर ‘दिल्ली चलो’...

दिग्गज शायर एवं गीतकार साहिर लुधियानवी(Sahir Ludhianvi) की एक बड़ी अमानत मुंबई(Mumbai) में कबाड़ी की दुकान पर कोड़ी के दांव पर बिक रही है। एक NGO ने जुहू में स्थित कबाड़ की दुकान पर साहिर लुधयानवी द्वारा लिखे गए तमाम पत्र, डायरियां और नज्में कूड़े के ढेर में पड़ी हुई देखी। NGO ने इन्हें 3000 रुपये में कबाड़ की दुकान से खरीद लिया और इन संग्रहित चीजों को प्रदर्शित करने की तैयारी में है।

इस NGO के संस्थापक शिवेंद्र सिंह डुंगरपुर ने बताया कि उन्होंने जुहू की एक कबाड़ की दुकान से इन्हे लिया। उन्होंने बताया “डायरियों में उनके रोज के कार्यक्रम, जैसे कि वह गानों की रिकॉर्डिंग के लिए कहां जाएंगे और ऐसी ही तमाम निजी बातें लिखी हुई हैं। उनकी लिखी कई नज्में और नोट भी हैं। इन नोटों का संबंध उनके प्रकाशन संगठन ‘पार्चियां’ से है।” उन्होंने बताया कि प्राप्त हुई चीजों में उस दौर के संगीतकार रवि, उनके कुछ दोस्त और कवि हरबंस द्वारा साहिर को लिखे गए कुछ लेटर भी शामिल हैं। उनके इन सामान में उनके लेटर, हाथ से लिखी नज़्में और डायरियां हैं। इनमें कुछ लेटर अंग्रेजी में और बाकी के उर्दू में हैं। लिखी गई नज्मों में कुछ उर्दू में हैं। जहां तक मिली हुई तस्वीरों की बात है तो इनमें उनकी कुछ निजी तस्वीरें हैं और कुछ तस्वीरें उनकी बहनों, दोस्तों और पंजाब स्थित उनके घर की हैं। शिवेंद्र सिंह ने बताया कि इन नज्मों पर अध्ययन कर ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि इनमें से कौन सी नज़्म अभी तक प्रकाशित नहीं हुई हैं।

NGO संस्थापक शिवेंद्र सिंह डुंगरपुर कहते हैं कि ये घटना उन्हें गुरुदत्त की फिल्म ‘प्यासा’ के एक सीन की याद दिलाती है। उस दृश्य में गुरुदत्त की ढेरों नज्में और कृतियां कबाड़ की दुकान पर मिली थीं। गौरतलब है कि बॉलीवुड में साहिर लुधियानवी की बायोपिक बनाने पर चर्चा हो रही है। संजय लीला भंसाली इस बायोपिक को बना सकते है। फिल्म में अभिषेक बच्चन लुधियानवी के किरदार और अमृता प्रीतम के रोल में तापसी पन्नू नजर आएंगी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब किसान चाहते हैं सीधे प्रधानमंत्री से हो बात..

भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा किसी अन्य मंत्री व नेता से...

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...