Monday, January 18, 2021

अब बुरे फंसे हरीश रावत, विधायकों की खरीद फरोख्त के मामले में सीबीआई की एफआईआर तय

Must read

Patna: बिहार की JDU सरकार ने कुर्सी बचाने के लिए लोगों को किया अपराधियों के हवाले : कांग्रेस

Patna:  बिहार कांग्रेस ने आज आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने अपनी कुर्सी बचाने के प्रयास...

Jaya Sawant ने राखी को लेकर किया बड़ा खुलासा, कह डाली ये बात

मुंबई, Jaya Sawant की खुशी का उस वक्त ठिकाना नहीं था| जब वह वीडियो कॉल के जरिए बिग बॉस में बेटी राखी से जुड़ीं। वह राखी की...

12 विधान परिषद सीटों के लिए नामांकन शुरू, पहले ही दिन बिक गए इतने नामांकन पत्र

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश में होने वाले 12 विधान परिषद की सीटों पर नामांकन पत्र दाखिल होना शुरू हो गया है. आपको बता दें कि...

शरतचंद्र की पुण्यतिथि पर हर्षवर्धन ने दी श्रद्धांजलि, कही ये बात

नई दिल्ली ,केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने चरित्रहीन और देवदास जैसी कालजयी कृतियों के रचियता बांग्ला भाषा के सुप्रसिद्ध उपन्यासकार...

उत्तराखंड (Uttrakhand) के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (Former chief minister Harish Rawat) के ख़िलाफ़ सीबाआई (CBI) कभी भी एफआईआर(FIR) दर्ज कर सकती है | हाईकोर्ट(Highcourt) के आदेश के अनुसार आज सीबाआई(CBI) ने कोर्ट को जानकारी दी कि सीबीआई जांच पूरी हो गई है एजेंसी एफआईआर दर्ज करने जा रही है | राज्य में 2016 में विधायकों की ख़रीद-फ़रोख्त के मामले में राज्यपाल ने सीबीआई जांच की संस्तुति की थी | इसके बाद हरीश रावत पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी तो पूर्व मुख्यमंत्री ने हाईकोर्ट की शरण ली |

हाइकोर्ट का आदेश

हाईकोर्ट ने सीबीआई को आदेश दिया कि अगर कोई भी निर्णय सीबीआई को लेना होगा तो पहले हाईकोर्ट से अनुमति लेनी होगी | इसी आदेश का पालन करते हुए सीबीआई ने हाईकोर्ट को बताया कि वह एफ़आईआर (FIR) दर्ज करने जा रही है | पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम (Former home minister p chidambaram)की गिरफ़्तारी के बाद हरीश रावत दूसरे ऐसे बड़े कांग्रेसी (Congress) नेता हो सकते हैं जिनकी गिरफ़्तारी होने की संभावना है | सीबीआई के वकील संदीप टंडन (Sandeep tondon) ने बताया कि हाईकोर्ट को जानकारी दे दी गई है कि जांच एजेंसी ने जांच पूरी कर ली है और अब वह एफ़आईआर दर्ज करने की तैयारी कर रही है |

बता दें कि 2016 की राजनीतिक उठापटक के दौरान राज्यपाल ने सीबीआई जांच की सिफ़ारिश की थी लेकिन कांग्रेस की सरकार बहाल होते ही कैबिनेट ने सीबीआई जांच को खत्म कर एसआईटी की जांच की संस्तुति कर दी थी | कैबिनेट के इस फैसले को तब कांग्रेस से बगावत कर बीजेपी में शामिल होने वाले हरक सिंह रावत ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी और कहा था कि कैबिनेट इस सीबीआई जांच को निरस्त नहीं कर सकती |

हरीश रावत ने बीजेपी पर लगाया आरोप

इसके बाद हाईकोर्ट ने सीबीआई को कोई भी निर्णय लेने से पहले कोर्ट से अनुमति लेने को कहा था | सीबीआई के हरीश रावत पर एफ़आईआर दर्ज करने की तैयारियों के बीच हरीश रावत ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इस सबके पीछे बीजेपी सरकार है हालांकि उन्हें न्यायालय पर पूरा भरोसा है और इसलिए वह न्यायालय की शरण में हैं |

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अखिलेश यादव ने कहाँ, भाजपा राज में लूट की अनन्त कथायें

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा षडयंत्रकारी जातिवादी पार्टी है। उसका काम नफरत फैलाना...

मुजफ्फरनगर का सरकारी अस्पताल बन गया शराबियों का अड्डा

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पताल पर पिछले दिनों एक विवादित बयान आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती का आया था। जिसके बाद से सियासी...

Britain के PM बोरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री मोदी को दिया G-7 का न्यौता

इस वर्ष ब्रिटेन के कार्नवाल में G-7 शिखर सम्मेलन होने वाला है। इस दौरान जलवायु परिवर्तन को लेकर विशेष रूप से बात होगी। ब्रिटेन के...

राजस्थान बस हादसे पर PM मोदी ने जताया दुख

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के जालौर जिले में बस हादसे में छह लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है। श्री...

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए BJP के राजेन्द्र भांबू ने दिया 1 करोड़

झुंझुनूं : श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि संग्रहण अभियान के तहत झुंझुनूं जिला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र भांबू ने एक...