Saturday, April 17, 2021

डॉल्फिन संवर्धन के लिए मोदी की वकालत,चंबल में पर्यटको की बढ़ी रूचि

Must read

बोरिंग पर नीम के पेड़ के नीचे सो रहे व्यक्ति की हत्या, जाने हैरान करने वाली वजह

थाना जसराना क्षेत्र खडीत की है घटना मौके पर थाना पुलिस व फील्ड यूनिट टीम संग पहुँचे एसपी देहात बताया गया 2002 में इनके...

कुलगाम में एक आतंकवादी समेत चार गिरफ्तार

श्रीनगर  जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में बुधवार को सुरक्षाबलों ने एक अभियान के दौरान एक आतंकवादी और उसके तीन अन्य साथियों को गिरफ्तार कर...

कोविड-19 की स्थिति पर रहेगी निवेशकों की नजर

मुंबई  बीते सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों में दिग्गज कंपनियों में बिकवाली के बाद आने वाले सप्ताह में निवेशकों की नजर कोविड-19 महामारी की स्थिति...

कोविड ने डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की प्रेरणा दी:आनंदीबेन

लखनऊ  उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने रविवार को कहा कि कोरोना के कारण उत्पन्न संकट ने आज ई-पाठ्यक्रम और डिजिटल शिक्षा के...

इटावा, राष्ट्रीय जलीय जीव डॉल्फिन के संरक्षण की देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वकालत के बाद चंबल में एकाएक पर्यटको की आवाजाही बढ़ गई है।

इटावा के जिला वन अधिकारी राजेश वर्मा का कहना है कि चंबल सेंचुरी मे जब भी कभी-कभी अधिकारियो का दौरा होता है तब बड़ी तादात मे डॉल्फिन दिखाई देती है। जब से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉल्फिन के संरक्षण और संवर्धन की वकालत की है पर्यटको की आवाजाही चंबल की ओर रूख करना शुरू कर दिया है ।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2007 मे चंबल मे घडियालों पर आई दुनिया की सबसे बडी त्रासदी मे जब करीब सवा सौ के आसपास घडियालों की मौत हुई थी उसी समय दो डॉल्फिन की मौत हो गई थी, लेकिन इन मौत नदी में कम पानी होना माना गया था । यह पहला वाक्या माना गया जब चंबल मे डॉल्फिन जलचर की मौत का मामला सामने आया।

ये भी पढ़ें-वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए हर संभव कोशिश की जानी चाहिए: मोदी

वर्मा ने बताया कि जलीय जीवों में दुनिया की सबसे बुद्धिमान जीव कही जाने वाली डॉल्फिनों का कुनबा उत्तर प्रदेश के इटावा जिले की चंबल नदी में अब बढ़ रहा है । यहां पिछले करीब 40 सालों में डाॅल्फिन की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है।चंबल नदी मे वैसे तो सैकडाें जलचर पाये जाते है, लेकिन डाॅल्फिन का आकर्षण अपने आप में अदभुत है। हर कोई डाॅल्फिन को देखने के लिए लालायित रहता है और जिसने एक दफा डाॅल्फिन देख ली और आगे भी उसके देखने की चाहत रहती है ।

उन्होंने बताया कि वर्ष 1979 में राष्ट्रीय चंबल अभयारण्य में घड़ियालों के साथ गंगा डाॅल्फिन के भी संरक्षण का काम शुरू किया गया था । तब यहां डाॅल्फिन के महज पांच जोड़े छोड़े गए थे। पिछले वर्ष दिसंबर में जब चंबल सेंचुरी की टीम ने इनकी की गणना की तो नतीजे काफी बेहतर मिले। इस समय चंबल में 150 वयस्क डाॅल्फिन अठखेलियां करती देखी जा सकती हैं। समुद्री लहरों के बीच अठखेलियों करने वाली डाॅफ्लिनों को चंबल का पानी रास आ रहा है। साफ पानी और आक्सीजन की अच्छी मात्रा मिलने से उनकी संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है।

वर्मा के अनुसार चंबल नदी डाॅल्फिन के साथ-साथ घड़ियाल, मगरमच्छ, कछुए और विभिन्न प्रकार के जलचरों के लिए जानी जाती है। चंबल का पानी मीठा, साफ और शुद्ध होने के कारण यहां पिछले कुछ सालों में डाॅल्फिन्स का कुनबा बढ़ा है। डाॅल्फिन प्रदूषित पानी में कभी नहीं रहती। पानी में प्रदूषण बढ़ते ही डाॅल्फिन वह क्षेत्र छोड़ देती है। चंबल में ऐसा नहीं हुआ। यही वजह है कि बीते कुछ सालों में उनकी संख्या इतनी बढ़ गई। अगर ऐसे ही उनकी संख्या बढ़ती गई तो जल्द ही गंगा से ज्यादा यहां डाॅल्फिन पाईं जाने लगेंगी।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आईपीएल टी-20 क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाते तीन गिरफ्तार

सिरसा,  हरियाणा की सिरसा सीआईए पुलिस ने राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल के बीच आईपीएल टी-20 क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाने के आरोप में...

नायडू ने के. सुब्बा राव के निधन पर शोक व्यक्त किया

नयी दिल्ली  उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने प्रसिद्ध रेडियोलॉजिस्ट डॉ. के. सुब्बा राव के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। नायडू ने शुक्रवार को...

UP में कहर अब 24 घंटे में 27,426 कोरोना के नए मामले, 103 की मौत

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एक बार फिर कोरोना अपने पैर पसार रहा है. हालात अब बद से बदतर होते दिख रहे हैं. मरीजों...

तृणमूल नेता भूइंया, मित्रा को ईडी ने किया समन

कोलकाता,  पश्चिम बंगाल में अलग-अलग चिट फंड घोटालों के मनी ट्रेल्स की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस नेता मानस...

जानिए कैसी है इस वक्त अखिलेश यादव की तबीयत।

  सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव अभी हाल ही में कोरोना संक्रमित हुए हैं, इस वक्त अखिलेश यादव होम आइसोलेशन में है और डॉक्टरों की सलाह...