Saturday, April 17, 2021

बीमा के आंकड़ों को दुरूस्त करने के लिए डाटा एनालिस्ट की होगी नियुक्ति-कटारिया

Must read

राजस्थान में वीकेंड कर्फ्यू का ऐलान, शुक्रवार शाम 6 से सोमवार सुबह 5 बजे तक सब बंद

जयपुर. राजस्थान में कोरोना की दूसरी लहर के कहर को देखते हुए गहलोत सरकार  लगातार कड़े फैसले ले रही है. कोरोना के बढ़ते मामलों...

अम्बेडकर जयंती पर मिले चुनावी चंदे में नहीं दिया हिस्सा तो पीट-पीट कर हत्या

उत्तर प्रदेश के चंदौली में सदर कोतवाली क्षेत्र के फगुइयां गांव में गुरुवार को आपसी विवाद में दो युवकों में जमकर लाठी-डंडे चले. इसमें...

हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना नहीं की तो सरकार करेगी सख्ती-गहलोत

जयपुर,  राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राज्य में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बावजूद प्रदेशवासी अपने लापरवाही भरे व्यवहार...

नवी मुंबई में कोरोना टीकाकरण बंद

ठाणे,नवी मुंबई नगर निगम (एनएमएमसी) आयुक्त अभिजीत भांगर ने कहा है कि नवी मुंबई के कोरोना टीकाकरण केंद्रों में वैक्सीन खत्म हो जाने के...

जयपुर, राजस्थान के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने आज विधानसभा में आश्वस्त किया कि किसानों को बीमा क्लेम के भुगतान में कोई गड़बड़ नहीं हो, इसके लिए बीमा से संबंधित आंकड़ों की मॉनिटरिंग के लिए शीघ्र ही डाटा एनालिस्ट की नियुक्ति की जाएगी।


कटारिया प्रश्नकाल में विधायकों के पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि पाली जिले में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत फसल खराबे के बीमा क्लेम की राशि देने का काम काफी हद तक पूरा हो चुका है और बीमा से संबंधित आंकड़ों की मॉनिटरिंग के लिए शीघ्र ही डाटा एनालिस्ट की नियुक्ति की जाएगी।

उन्होंने कहा कि बीमा क्लेम की राशि का भुगतान केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार किया जाता है। राज्य सरकार का भी इस पर नियंत्रण रहता है तथा विभाग द्वारा इसकी मॉनिटरिंग की जाती है। उन्होंने बताया कि कोई भी शिकायत मिलने पर राज्य सरकार द्वारा कार्रवाई की जाती है।

ये भी पढ़े – मुख्तार मामले इस बात को लेकर वकीलों में हुई तीखी नोकझोंक


उन्होंने बताया कि पाली जिले में 6 हजार 740 किसानों की 11 हजार 479 पॉलिसी हुई हैं। डबल बीमा पॉलिसी या जोत के अंतर के कारण यह फर्क है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा शीघ्र ही डाटा एनालिस्ट की नियुक्ति की जाएगी, ताकि डाटा की समय-समय पर जांच होती रहे तथा केन्द्र सरकार के डाटा से उसका मिलान होता रहे।


इससे पहले विधायक ज्ञानचंद पारख के मूल प्रश्न के जवाब में श्री कटारिया ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की प्रचालन मार्ग दर्शिका के अनुसार बीमा कम्पनी को उपज परिणाम प्राप्त होने के उपरान्त 21 दिन की अवधि में अविवादित बीमा क्लेमों का भुगतान करना होगा, बशर्ते बीमा कम्पनी को राज्यांश प्रीमियम तथा केन्द्रीयांश प्राप्त हो गया हो।

उन्होंने बताया कि पाली जिले के रोहट तहसील में खरीफ 2019 में कुल 33 पटवार मण्डल के 80 राजस्व ग्रामों के लिये गिरदावरी की गई थी। उन्होंने खरीफ 2019 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत तहसील रोहट में फसलवार उपज में हुई क्षति एवं वास्तविक उपज, कृषकवार आंकलित बीमा क्लेम तथा कृषकवार भुगतान किये गये बीमा क्लेम का विवरण भी सदन के पटल पर रखा।


उन्होंने बताया कि दो किसानों को तकनीकी कारणों से भुगतान नहीं हो पाया था, जिनका भुगतान प्रक्रियाधीन है।

 

- Advertisement -

More articles

Latest article

आईपीएल टी-20 क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाते तीन गिरफ्तार

सिरसा,  हरियाणा की सिरसा सीआईए पुलिस ने राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल के बीच आईपीएल टी-20 क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाने के आरोप में...

नायडू ने के. सुब्बा राव के निधन पर शोक व्यक्त किया

नयी दिल्ली  उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने प्रसिद्ध रेडियोलॉजिस्ट डॉ. के. सुब्बा राव के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। नायडू ने शुक्रवार को...

UP में कहर अब 24 घंटे में 27,426 कोरोना के नए मामले, 103 की मौत

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एक बार फिर कोरोना अपने पैर पसार रहा है. हालात अब बद से बदतर होते दिख रहे हैं. मरीजों...

तृणमूल नेता भूइंया, मित्रा को ईडी ने किया समन

कोलकाता,  पश्चिम बंगाल में अलग-अलग चिट फंड घोटालों के मनी ट्रेल्स की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस नेता मानस...

जानिए कैसी है इस वक्त अखिलेश यादव की तबीयत।

  सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव अभी हाल ही में कोरोना संक्रमित हुए हैं, इस वक्त अखिलेश यादव होम आइसोलेशन में है और डॉक्टरों की सलाह...