कंगाल हो चुका है इमरान की अगवाई में पाकिस्तान, पाकिस्तानी ही दे रहे हैं गालियां

0
175

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान बाहरी देशो कर साथ ही अपने ही देश मे भी आलोचनाएं झेलनी पड़ रही हैं । उन्हें पाकिस्तान के विकास के लिए गलत चयन माना जा रहा है । इसकी वजह है कि उनके सत्ता में आने के बाद से ही पाकिस्तान कंगाली की और दोगुनी तेज़ी से बढ़ रहा है । रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तान पूरी तरह से कर्जे में डूब चुका है ।

इमरान खान ने अगस्त 2018 में पाकिस्तान की सत्ता संभाली थी । इसके बाद से गरीबी से जूझ रहे पाकिस्तान की हालत और भी खराब हो गई है । पाकिस्तान की इकॉनिमक ग्रोथ (Economic Growth) 5.5 फीसदी से गिरकर 3.3 फीसदी पर पहुंच गई है । अगले साल तक इसके 2.4 फीसदी तक पहुंचने की आशंका है । वहीं पाकिस्तानी रुपये में भी लगातार गिरावट आ रही है । अगस्त 2018 में एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपये की कीमत 122 रुपये थी । लेकिन अब इसकी कीमत 156 रुपये पर पहुंच गई है । इकोनॉमिक ग्रोथ की तरह इसमें भी और गिरावट दर्ज होने की संभावना है ।

महंगाई तोड़ रही है कमर

बीते एक साल में पाकिस्तान में मंहगाई दर में भी भारी इज़ाफा हुआ है । इमरान खान के सत्ता में आने से पहले पाकिस्तान में मंहगाई दर 3.9 फीसदी थी । जो अब बढ़कर 7.3 फीसदी पर पहुंच गया है । रिपोर्ट्स की माने तो अगले साल तक यह 13 फीसदी तक पहुंच सकता है । पाकिस्तान के विदेशी निवेश में इस साल जुलाई अप्रैल के बीच 51.7 फीसदी की कमी आई है । विदेशी प्राइवेट इन्वेस्टमेंट में भी 64.3 फीसदी की गिरावट आई है ।

कर्ज ज़्यादा, चुकाने के रास्ते कम

बिना इन्वेस्टमेंट के देश को चलाने के लिए पाकिस्तान को लगातार कर्ज लेना पड़ रहा है । मार्च 2019 तक पाकिस्तान पर 85 बिलियन डॉलर यानी भारतीय रुपये में 6 लाख करोड़ से ज़्यादा कर कर्ज है । पाकिस्तान ने पश्चिमी यूरोप और मध्य पूर्व के देशों से भारी भरकम कर्ज ले रखा है । पाकिस्तान को सबसे ज़्यादा कर्ज चीन ने दिया है । इसके अलावा पाकिस्तान ने कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों से लोन ले रखा है । इसके साथ ही पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष(International Monetry Fund) में भी कर्ज के लिए अर्जी दी हुई है । हालांकि FATF की ग्रे लिस्ट में आ चुके पाकिस्तान को अभी तक IMF से कर्ज नही मिला है । यदि पाकिस्तान अक्टूबर तक टेरर फंडिंग के आरोप से खुद को नही बचा पाता, तो पाकिस्तान FATF की ब्लैक लिस्ट में आ जाएगा, जिसके बाद IMF से मिलने वाला लोन पाकिस्तान को नही दिया जाएगा ।

ऐसे में पाकिस्तान हर तरफ से घिरा हुआ है । देश के ऊपर जहां कर्ज़ा बढ़ता जा रहा है, वहीं देश मे कही से भी आमदनी होने के आसार नही है । ऊपर से पाकिस्तन पर ब्लैक लिस्टिंग की तलवार लटक रही है । इन सब के चलते दशकों से धर्म के नाम पर अंधे रहे लोगों की आंखे भी इमरान खान के नाम पर खुलने लगी है । इमरान खान को कश्मीर के साथ ही इन सवालों का जवाब भी देना पड़ रहा है । बेचारे इमरान!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here