Friday, May 14, 2021

इंसानियत शर्मसार! कोरोना से नहीं करने दिया अंतिम संस्‍कार, साइकिल पर शव लेकर घूमता रहा बुजुर्ग

Must read

पूर्व सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत बोले- ‘कोरोना वायरस एक जीव, उसे भी जीने का अधिकार’, मचा बवाल

देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) के पूर्व सीएम और बीजेपी नेता त्रिवेन्द्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने कोरोना वायरस को लेकर एक तर्क दिया है. कोरोना...

UP में गांव की ओर चला कोरोना, हफ्ते भर के अंदर संक्रमितों की हैरान करने वाली संख्या

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की रफ्तार मेट्रो शहरों में धीमी हो रही है. यहां संक्रमण दर कम हो रहा है लेकिन...

14 वर्षीय किशोरी की फांसी के फंदे से लटकती मिली लाश परिजनों ने जताई ये आशंका

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार बालिका सुरक्षा को लेकर भले ही लाख दावे करती हो लेकिन बालिकाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है । केंद्रीय...

 दिल्ली यूनिवर्सिटी में कोरोना का कहर, अब तक 30 से ज्‍यादा टीचर्स की मौत

दिल्ली. कोरोना की दूसरी लहर कितनी जानलेवा है, इसका अंदाजा अब संस्थागत तरीके से भी लगने लगा है. दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाने वाले शिक्षकों में...

कोरोना के डर से इंसानियत भी इस समय इंसानों की मानो परीक्षा ले रही है। नया मामला जौनपुर जिले में सामने आया जहां पर गांव वालों ने अंतिम संस्कार तक नहीं करने दिया। इसके बाद रोता बिलखता बुजुर्ग पत्नी के शव को साइकिल पर लेकर घूमता रहा। मामले की जानकारी पुलिस को हुई तो आनन फानन पुलिस ने मदद की और महिला का अंतिम संस्‍कार हो सका। हालांकि, तबतक पत्नी के अंतिम संस्कार के लिए बुजुर्ग पति को साइकिल से शव गोमती नदी के किनारे स्थानीय श्मशान घाट ले जाना पड़ा।

पूरा मामला मड़ियाहूं कोतवाली के अम्बरपुर गांव का है। जहां पर गांव निवासी तिलकधारी सिंह की पत्नी राजकुमारी देवी (55 वर्ष) की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी। मौत होने की जानकारी होने पर गांव में कोई शव को कंधा देने वाला नहीं मिला और कोरोना संक्रमण के भय की वजह से बुजुर्ग तिलकधारी गांव वालों की बेरुखी और दुत्‍कार से आजिज आकर शव को किसी तरह साइकिल पर रखकर अंतिम संस्‍कार के लिए निकला और देखते ही देखते यह मामला इंटरनेट मीडिया में वायरल हो गया। हालांकि, इस मामले की जानकारी होने के बाद पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए शव का अपने प्रयास से अंतिम संस्‍कार कराया।

पीड़‍ित के अनुसार उसकी पत्‍नी राजकुमारी को कुछ दिन पूर्व बुखार आया और देखते ही देखने उसने सोमवार को कोरोना संक्रमण की वजह से दम तोड़ दिया। महिला की मौत होने की वजह से कोरोना संक्रमण जानकर कोई भी मदद को नहीं आया। परिवार गांव के लोगों ने साथ छोड़ दिया तो हताश होकर तिलकधारी सिंह ने अपनी साइकिल उठाई और शव को लादकर अंतिम संस्‍कार करने का प्रयास किया लेकिन बुजुर्ग होने की वजह से जल्‍द ही थक कर बैठ गया और किस्‍मत पर विलाप करने लगा। इस दौरान गांव में किसी ने घटना की फोटो खींच कर इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। मामले की जानकारी होने के बाद पुलिस भी सक्रिय हुई और अपने प्रयास से शव का अंतिम संस्‍कार कराया।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आज़म खां की पत्नि ने दिया बड़ा बयान

रामपुर...... शहर विधायक एवम् आज़म खां की पत्नि डॉ तज़ीन फातिमा ने ईद के मौक़े पर कहा कि त्योहार ख़ुशी के लिए मनाये जाते...

बच्चों में कोविड-19 – क्या होते हैं लक्षण, क्या किया जाए

नई दिल्ली. एक तरफ जहां वयस्क और बुजुर्गों में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए होड़ मची हुई है, वहीं फिलहाल एक वर्ग ऐसा भी...

तमिलनाडु और असम में नए मंत्रियों पर कितने हैं आपराधिक केस और कितनी है संपत्ति उनकी, जानें

असम में हुए ताजा चुनावों में 7 फीसद मंत्रियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं 14 मंत्रियों की औसतन संपत्ति 4.78...

असम के नगांव में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

गुवाहाटी. असम (Assam) के नगांव जिले (Nagaon) में जंगल में आकाशीय बिजली गिरने से 18 हाथियों (Elephants) की मौत हो गई. वन विभाग के एक...

जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं, जानें वजह

गुवाहाटी-पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रणपगली में कैंप का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की। चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में...