Saturday, November 28, 2020

दिल्ली हाईकोर्ट में कोरोना काल के दौरान 98 फीसदी मामलों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई

Must read

लघु उद्योगों के विकास से होगा आत्मनिर्भर भारत का निर्माण : आदित्य झा

नई दिल्ली : ''अगर हमें भारत को आत्मनिर्भर बनाना है, तो लघु उद्योगों पर ध्यान देना होगा। लघु उद्योगों के विकास से ही आत्मनिर्भर...

अलीगढ़ : शादी कार्ड देने के बहाने से घुसे बदमाशों ने महिला को बन्धक बनाकर की लूटपाट

अलीगढ़ :  जिले के थाना गांधीपार्क इलाके के सिंधौली में सोमवार रात्रि तीन बदमाशों ने क्लर्क की पत्नी को बंधक बनाकर लाखों के जेवरात...

गोरखपुर : केक काटकर सपाइयों ने मनाया सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन

गोरखपुर / समाजवादी पार्टी के संरक्षक, पूर्व रक्षा मंत्री एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के 82वें जन्म दिन को गोरखपुर...

नीतीश कुमार का जबरा फैन, अपने पसंदीदा नेता के लिए मांगी मन्नत पूरी होने पर युवक ने भगवान को चढ़ावे में दिया कुछ ऐसा...

कोई फिल्म स्टार का फैन होता है तो कोई किसी और का, लेकिन जहानाबाद का एक ऐसा युवक जो अपने ही राज्य के सीएम...

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट में कोरोना संकट के दौरान अब तक करीब 98 फीसदी मामलों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई। पिछले 18 मार्च से 17 सितम्बर के बीच 12,244 मामले में से मात्र 346 मामले की ही खुली कोर्ट में सुनवाई हुई। हाईकोर्ट में पिछले 1 सितम्बर से सीमित बेंचों में खुली सुनवाई चल रही है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने पिछले 17 मार्च से कोर्ट के अंदर खुली सुनवाई बंद कर दी थी। हाईकोर्ट काफी जरूरी मामलों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कर रही है। 25 मार्च को जब से पूरे देश में लॉकडाउन घोषित किया गया उस समय से लेकर 17 अक्टूबर तक हाईकोर्ट ने 12,244 मामले की सुनवाई की। इनमें से 11,784 मामलों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई। इन मामलों के पक्षकारों ने कोर्ट ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई की मांग की थी।

इस दौरान करीब 12,167 केस ई-फाईलिंग के जरिये दायर किए गए। इनमें से करीब 98 फीसदी मामले के पक्षकारों ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये ही सुनवाई का विकल्प चुना। महज 346 मामलों की सुनवाई खुली अदालत में हुई। जिन दिनों कोर्ट में खुली सुनवाई की तिथि नियत थी, उन दिनों भी पक्षकारों ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये ही सुनवाई की मांग की थी। पिछले 1 सितंबर से हाईकोर्ट में पांच बेंचों में नियमित सुनवाई शुरू की थी। उसके बाद 9 अक्टूबर से तीन बेंचों के जरिये ही नियमित सुनवाई चल रही है। पिछले 12 अक्टूबर से दो संयुक्त रजिस्ट्रार की कोर्ट भी नियमित सुनवाई कर रहे हैं। पिछले 1 सितंबर से 20 अक्टूबर तक हाईकोर्ट ने 1439 मामले की खुली कोर्ट में सुनवाई की। हालांकि खुली अदालतों के दिन भी 864 मामले के पक्षकारों ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई का आग्रह किया।

दिल्ली की निचली अदालतों में 24 मार्च से 31 अगस्त के बीच 2,62,167 मामलों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग से की। अब निचली अदालतों में एक चौथाई मामले खुली अदालतों के जरिये सुनवाई हो रही है। अब निचली अदालतों में रुटीन मामलों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग या खुली अदालतों के जरिये हो रही है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...