नवरात्रि के तीसरे दिन, ये रहा मां चंद्रघंटा की उपासना का महात्म्य

0
56

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥

नवरात्रि का तीसरा दिन दुर्गा मां के तीसरे स्वरुप चंद्रघंटा का होता है | नवरात्र के इस तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा अर्चना की जाती है | मां का तीसरा रूप राक्षसों का वध करने के लिए जाना जाता है | मान्यता है कि वह अपने भक्तों के दुखों को दूर करती हैं | इसीलिए उनके हाथों में तलवार, त्रिशूल, गदा और धनुष होता है | इनकी उत्पत्ति ही धर्म की रक्षा और संसार से अंधकार मिटाने के लिए हुई | मान्यरता है कि मां चंद्रघंटा की उपासना साधक को आध्यात्मिक और आत्मिक शक्ति प्रदान करती है | नवरात्री के तीसरे दिन माता चंद्रघंटा की साधना कर दुर्गा सप्तशती का पाठ करने वाले उपासक को संसार में यश, कीर्ति और सम्मान मिलता है | यहां जानिए मां दुर्गा के इस तीसरे रूप के बारे में सबकुछ |

मां चंद्रघंटा का रूप

मां चंद्रघंटा का स्वरूप अत्यंत सौम्यता एवं शांति से परिपूर्ण है | मां चंद्रघंटा और इनकी सवारी शेर दोनों का शरीर सोने की तरह चमकीला है | दसों हाथों में कमल और कमडंल के अलावा अस्त-शस्त्र हैं | माथे पर बना आधा चांद इनकी पहचान है | इस अर्ध चांद की वजह के इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है | अपने वाहन सिंह पर सवार मां का यह स्वरुप युद्ध व दुष्टों का नाश करने के लिए तत्पर रहता है | चंद्रघंटा को स्वर की देवी भी कहा जाता है |

कैसे करें चंद्रघंटा की पूजा

नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा के लिए खासकर लाल रंग के फूल चढ़ाएं | इसके साथ ही फल में लाल सेब चढ़ाएं | भोग चढ़ाने के दौरान और मंत्र पढ़ते वक्त मंदिर की घंटी जरूर बजाएं | क्योंकि मां चंद्रघंटा की पूजा में घंटे का बहुत महत्व है | मान्यता है कि घंटे की ध्वनि से मां चंद्रघंटा अपने भक्तों पर हमेशा अपनी कृपा बरसाती हैं | मां चंद्रघंटा को दूध और उससे बनी चीजों का भोग लगाएं और और इसी का दान भी करें | मां चंद्रघंटा को मखाने की खीर का भोग लगाना श्रेयस्कर माना गया है | मान्यता है कि ऐसा करने से मां खुश होती हैं और सभी दुखों का नाश करती हैं |

स्तोत्र पाठ

आपदुध्दारिणी त्वंहि आद्या शक्तिः शुभपराम्।
अणिमादि सिध्दिदात्री चंद्रघटा प्रणमाभ्यम्॥
चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्टं मन्त्र स्वरूपणीम्।
धनदात्री, आनन्ददात्री चन्द्रघंटे प्रणमाभ्यहम्॥
नानारूपधारिणी इच्छानयी ऐश्वर्यदायनीम्।
सौभाग्यारोग्यदायिनी चंद्रघंटप्रणमाभ्यहम्॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here