Friday, December 4, 2020

अब राजधानी में कमर्शियल वाहनों का प्रवेश हुआ ऑनलाइन !

Must read

अखिलेश का कार्यकर्ताओं को आदेश और निर्देश

आज उत्तर प्रदेश में विधान परिषद चुनाव की 11 सीटों पर आने वाले परिणाम को देखते हुए समाजवादी पार्टी ने अपने कार्यकर्ताओं को आदेश और...

देव दीपावली पर आज वाराणसी जाएंगे पीएम मोदी, 15 लाख दियो से सजेगा घाट

  वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सोमवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में रहेंगे। यहां वे पहले एक जनसभा को संबोधित करेंगे...

IPS अफसर पर बम से हमला, छापेमारी टीम पर अपराधियों ने की बमबाजी, कई पुलिसकर्मी जख्मी

वक्त एक बड़ी खबर भागलपुर जिले से सामने आ रही है, जहां आईपीएस अफसर और अन्य पुलिसकर्मियों के ऊपर बम से जानलेवा हमला किया...

धर्मेंद्र यादव दिल्ली से लौटे यूपी बने “DIG कानून व्यवस्था”

उत्तर प्रदेश के तेजतर्रार अफसरों में एक धर्मेंद्र यादव प्रतिनियुक्ति से वापस उत्तर प्रदेश लौट आए हैं, धर्मेंद्र यादव को यूपी लौटते ही महत्वपूर्ण...

देश की राजधानी दिल्ली में कमर्शियल वाहनों के प्रवेश से जुड़े नियमों में बदलाव किया गया है। बीते शुक्रवार से दिल्ली की सीमा के अंदर प्रवेश करने वाले सभी कमर्शियल वाहनों पर रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) टैग लगवाना अनिवार्य हो गया है। नए नियम के अनुसार बिना आरएफआईडी टैग के कोई कमर्शियल वाहन दिल्ली के सीमा में प्रवेश नहीं कर सकेगा।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दिल्‍ली में किसी भी कमर्शियल वाहन में रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) टैग लगना अनिवार्य हो गया है। इस सिस्टम के तहत जो भी कमर्शियल वाहन दिल्ली में एंट्री लेना चाहते हैं, उन्हें 218 रुपये का एक टैग लेना होगा। इसके बाद जब भी वो कमर्शियल वाहन लेकर दिल्‍ली की सीमा में एंट्री करेंगे उन्हें अपने टैग में पहले से टॉपअप हुए पैसे से एंट्री मिलेगी। इस प्रक्रिया में उन्हें रुकने की जरूरत नहीं होगी। यह सेंसर की मदद से ऑटोमेटिक होगा। इसके बाद टोल पर जाने की अनुमति मिल जाएगी। जानकारी के मुताबिक कुंडली, राजोकरी, टीकरी, शाहदरा, गाजीपुर, DND, कापसहेड़ा, बदरपुर जैसे 13 एंट्री प्‍वाइंट से सबसे अधिक कमर्शियल वाहनों की एंट्री होती है। ऐसे में यहां पर खासतौर से ध्‍यान दिया जा रहा है क्योंकि यहीं से दिल्ली में 80 फीसदी कमर्शियल वाहनों की एंट्री होती है। इसकी वजह है कि कई ओर से दिल्ली की सीमा हरियाणा और उत्तर प्रदेश से लगती हैं।

समय, ईंधन की बचत, प्रदूषण पर नियंत्रण

दिल्ली नगर निगम के एक अधिकारी के अनुसार इन टैग की वजह से टोल-बूथ पर भीड़ में कमी आएगी। जहाँ मौजूदा समय में टोल बूथ पर एक वाहन से टोल वसूलने में तीन से पांच मिनट लगते हैं, वहीं टैग होने की वजह से वाहनों को रुकना भी नहीं पड़ेगा। इससे समय और ईंधन की बचत के साथ प्रदूषण पर नियंत्रण पाने में भी काफी मदद मिलेगी। इसके साथ ही सरकार के लिए टोल टैक्स वसूलने का काम भी आसान हो जाएगा। आपको बता दें कि इससे पहले प्रदूषण को नियंत्रण में लाने के लिए दिल्ली सरकार ने वाहनों की ऑड-इवन योजना चलाई थी। इससे दिल्ली के प्रदूषण में काफी कमी आई थी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब किसान चाहते हैं सीधे प्रधानमंत्री से हो बात..

भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा किसी अन्य मंत्री व नेता से...

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...