सऊदी अरब की सबसे बड़ी तेल कंपनी पर हुआ ड्रोन हमला, बढ़ सकतीं हैं तेल की कीमतें

0
84

सऊदी अरब(Saudi Arab) में तेल कंपनी अरामको(Aramco) के दो ऑइल प्रोसेसिंग प्लांट्स(Oil Plants) पर शनिवार को ड्रोन हमला हुआ था। अब्कैक(Abqaiq) और खुरैस(Khurais) प्लांन्ट पर ड्रोन हमले के चलते क्रूड तेल(Crude Oil) की प्रोडक्शन घटकर आधी रह गई है। इससे इंटरनेशनल तेल बाजार में कच्चे तेल(Crude Oil) की कीमतें 10 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ गई हैं।

यमन(Yaman) विद्रोहियों के इस हमले से दोनो प्लान्ट्स में प्रोडक्शन का काम अस्थायी तौर पर रोक दिया गया है। सरकारी तेल कंपनी Saudi Aramco ने एक बयान में कहा है कि इन हमलों के कारण प्रति दिन 57 लाख बैरल कच्चे तेल(Crude Oil) का उत्पादन बंद रहेगा। जिससे देश की तेल क्षमता का लगभग आधा हिस्सा या दैनिक वैश्विक तेल आपूर्ति का 5 प्रतिशत बाधित हुआ है। इसकी वजह से इंटरनैशनल मार्केट में तेल के दाम 10 फीसदी बढ़ गए हैं। हांगकांग के तेल बाजार से मिली जानकारी के मुताबिक ब्रेंट क्रूड ऑयल(Crude Oil) की कीमतें 11.77 प्रतिशत बढ़कर 67.31 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल हो गई हैं। वहीँ वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट 10.68 फीसदी चढ़कर 60.71 डॉलर पहुंच गया।

सबसे बड़े प्लांट्स बने निशाना

शनिवार को दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी अरामको के दो प्लांट्स पर ड्रोन हमला हुआ। इस ड्रोन हमले की जिम्मेदारी यमन के हाउती विद्रोहियों ने ली है। विद्रोहियों ने 10 ड्रोन विमानों के साथ बड़ा अभियान छेड़ा और दो प्लान्ट्स को निशाना बनाया गया। इन दो प्लांट्स में एक सऊदी अरब के सबसे बड़े तेल क्षेत्रों में से एक हिजरा खुरैस था। खुरैस प्रतिदिन लगभग 15 लाख बैरल का उत्पादन करता है। दूसरा प्लांट दुनिया के सबसे बड़े कच्चे तेल के भंडार वाला अबकैक था। अबकैक रोज़ाना 70 लाख बैरल तेल प्रोसेस करता है। सऊदी अरब और अमेरिका ने इस हमले के लिए तेहरान समर्थित हाउती विद्रोहियों को जिम्मेदार ठहराया। साथ ही उन्होंने ईरान को अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है। हालांकि ईरान ने ऐसे किसी भी आरोप से इनकार किया है।

तेल के दामों में बताया जबरदस्त इजाफ़ा

इस हमले को Lipow Oil Associates के प्रेसीडेंट ऐंड्रयू लिपो(Andrew Lipow) ने एक बहुत बड़ी घटना बताया। उन्होंने संभावना जताई कि जब मार्केट खुलेगा तो दाम 5-10 डॉलर बढ़ सकते हैं। वहीँ Clearview Energy के रिसर्च हेड Kevin Book ने कहा कि इसकी मरम्त के दौरान लगने वाले समय में कीमतों पर असर पड़ेगा। जिसमें हफ्तों से लेकर महीनों तक समय लग सकता है। इस मामले में अन्य ग्रुप ने भी तेल के दामों में इजाफे की आशंका जताई है।

अमरीका ने उठाई तेहरान पर उंगली

हमले के बाद, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने ट्वीट कर तेहरान पर हमला बोला। उन्होंने लिखा, “सऊदी अरब में करीब 100 हमलों के पीछे तेहरान का हाथ है। जबकि (राष्ट्रपति हसन) रूहानी और (विदेश मंत्री मोहम्मद जावद) जरीफ कूटनीति में शामिल होने का दिखावा करते हैं। तनाव कम करने के आह्वान के बीच ईरान ने अब दुनिया की ऊर्जा आपूर्ति पर जबरदस्त हमला किया है।” इस हमले को लेकर Saudi Aramco के CEO आमीन नासिर ने अगले दो दिनों में इससे संबंधित और जानकारी देने की बात कही। उन्होंने कहा कि उत्पादन बहाल करने के लिए अभी कार्य चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here