Saturday, November 28, 2020

पृथ्वी पार कर चन्द्रमा की ओर बढ़ा चन्द्रयान, चांद पर पानी अब दूर नही!

Must read

किसान आंदोलन : किसानों का काफिला पहुंचा दिल्ली के पास, 9 स्टेडियमों को अस्थाई जेल बनाने की करी मांग..

पंजाब से चले किसानों का काफिला अब राजधानी दिल्ली के पास पहुंच गया है। तमाम रुकावटों को दूर करते हुए किसान आखिरकार दिल्ली के...

बड़ी खबर Drugs case : मशहूर कॉमेडियन भारती सिंह के घर पर NCB ने मारा छापा

बॉलीवुड, ड्रग्स मामले में एनसीबी की जांच अभी भी जारी है। हर रोज एक के बाद एक नए नाम सामने आ रहे हैं जिसे...

Breaking news : NCB ने कॉमेडियन भारती सिंह को किया गिरफ्तार, घर में मिला था गांजा

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद बॉलीवुड से जुड़े ड्रग्स मामले में अब कॉमेडियन भारती सिंह नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो NCB ने गिरफ्तार कर...

गोरखपुर : केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री से मिले सांसद रवि किशन,नहीं बंद होगी गोरखपुर आकाशवाणी की मशीने

गोरखपुर : आकाशवाणी गोरखपुर केंद्र के श्रोताओं, कलाकारों और कर्मचारियो के लिए एक बेहद अच्छी खबर है।कई दिनों से बंद होने की चर्चा में...

22 जुलाई को यात्रा शुरू कर चंद्रयान 2 आज पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकल गया है। अपने लक्ष्य की और आगे बढ़ते हुए आज चंद्रयान 2 ने एक बड़ा चरम पार कर लिया है। बुधवार सुबह 2:21 बजे चंद्रयान-2 धरती की कक्षा से बाहर निकलकर चांद की तरफ आगे बढ़ने लगा। रिपोर्ट्स की माने तो चंद्रयान 2 अब चाँद से महज़ 3.84 किलोमीटर दूर है। इस दूरी को वह अगले लगभग 7 दिनों में पूरा कर लेगा।

ट्रांस लूनर इंसर्शन प्रकिया के तहत इसरो ने चंद्रयान 2 को पृथ्वी की कक्षा से बाहर भेजने के एहम चरम को अंजाम दिया। TLI के दौरान स्पेसक्राफ्ट का तरल(लिक्विड) इंजन 1,203 सेकंड के लिए फायर किया गया। इसके बाद 22 दिन तक धरती की कक्षा में रहने के बाद चंद्रयान 2 चांद की ओर निकल पड़ा।

3850 किलोग्राम के चंद्रयान-2 में तीन हिस्से हैं, जिसमें एक ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर है। अभियान के तहत 22 जुलाई को प्रक्षेपण कार्यक्रम के बाद सात सितंबर को यह चंद्रमा की सतह पर पहुंचेगा। 22 जुलाई को चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण के बाद अब तक पांच बार इस प्रक्रिया को अंजाम दिया गया है।

चाँद पर होगी “सॉफ्ट-लैंडिंग”

चाँद पर पहुंचकर ऑर्बिटर एक साल तक चन्द्रमा का चक्कर लगाएगा। हालाँकि अब अनुमान लगाया जा रहा है कि ऑर्बिटर 2 साल तक काम कर सकता है। वहीं लैंडर “विक्रम” चाँद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। सॉफ्ट लैंडिंग के बाद उसमे से रोवर “प्रज्ञान” बाहर निकल अपना सतही अन्वेषण कार्य शुरू करेगा। ‘प्रज्ञान’ एक कृत्रिम बुद्धिमता से संचालित छह पहिया वाहन है।

चंद्रयान 2 की चाँद पर लैंडिंग और लैंडर में से रोवर के निकलने तक की पूरी प्रक्रिया एक ऐतिहासिक घटना होगी। इसरो परिसर से इस घटना का पूरा प्रसारण नेशनल जियोग्राफिक नेटवर्क पर किया जायेगा। चंद्रयान के लैंडर ‘विक्रम’ के सात सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरने की उम्मीद है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...