Saturday, January 23, 2021

हरीश रावत पर एफआईआर की तैयारी, ये स्टिंग है वजह

Must read

तीन केंद्रशासित प्रदेशों में कोरोना के ये हैं हाल, देखे आकड़ें

नई दिल्ली: देश में तीन केन्द्रशासित प्रदेशों में पिछले 24 घंटों में कोरोना के महज 20 सक्रिय मामले बढ़े हैं वहीं पांच राज्यों में...

राजकुमार हिरानी की फिल्म में शाहरुख के साथ काम करेंगी ये अभिनेत्री

मुंबई,  बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू राजकुमार हिरानी की फिल्म में शाहरुख खान के साथ काम करती नजर आ सकती हैं।बॉलीवुड में चर्चा है कि शाहरुख...

UP : कोविड-19 वैक्सीन लगवाने के बाद हॉस्पिटल के वार्ड बॉय की मौत, अधिकारी ने बताई ये वजह

 Covid-19 Vaccination : उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के एक सरकारी अस्पताल में रविवार की शाम को 46 साल के एक वार्ड बॉय की मौत हो...

समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने वैक्सीन पर उठाये सवाल

समाजवादी पार्टी से संभल सीट से हैं सांसद- कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ शुरू हुए टीकाकरण (Corona Vaccination) अभियान की एक तरफ जहां तारीफ हो...

उत्तराखंड(Uttarakhand) के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश सिंह रावत(Harish Singh Rawat) पर एक बार फिर सीबीआई ने हमला बोला है। हाई कोर्ट के आदेशानुसार स्टिंग सीडी केस(Sting CD Case) में सीबीआई ने उनके खिलाफ पूरी जांच कर ली है। जांच पूरी होने के बाद अब सीबीआई हरीश रावत के खिलाफ कभी भी एफआईआर दर्ज कर सकती है। नेता हरीश रावत के स्टिंग CD केस में हाई कोर्ट ने सीबीआई को आदेश दिए हैं कि कोई भी निर्णय लेने से पहले सीबीआई(CBI) को हाईकोर्ट से अनुमति लेनी होगी।

2016 के स्टिंग सीडी केस में हरीश रावत के खिलाफ एफआईआर(FIR) दर्ज की जा सकती है। हाई कोर्ट(High Court) द्वारा दिए आदेशानुसार सीबीआई ने अदालत को बताया कि केस की जांच पूरी हो गई है। इसलिए एजेंसी एफआईआर दर्ज करने जा रही है। सीबीआई के वकील संदीप टंडन(Sandeep Tandon) ने बताया कि हाईकोर्ट को जानकारी दे दी गई है कि जांच एजेंसी ने जांच पूरी कर ली है और अब वह एफ़आईआर दर्ज करने की तैयारी कर रही है। सीबीआई के हरीश रावत पर एफ़आईआर दर्ज करने की तैयारियों के बीच रावत ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इस सबके पीछे बीजेपी सरकार है हालांकि उन्हें न्यायालय पर पूरा भरोसा है और इसलिए वह न्यायालय की शरण में हैं। उन्होंने इसमें सरकार की भी भूमिका बताई और कहा कि बिना सरकार के दखल के कुछ नहीं होता है। उन्होंने साथ ही न्यायालय के आदेशों पर विश्वास जताया।

बता दें कि 2016 की राजनीतिक उठापटक के दौरान राज्यपाल ने सीबीआई जांच की सिफ़ारिश की थी। हालांकि कांग्रेस की सरकार बहाल होते ही कैबिनेट ने सीबीआई जांच को खत्म कर एसआईटी की जांच की संस्तुति कर दी थी। कैबिनेट के इस फैसले को तब कांग्रेस से बगावत कर बीजेपी में शामिल होने वाले हरक सिंह रावत ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। उन्होंने कहा था कि कैबिनेट इस सीबीआई जांच को निरस्त नहीं कर सकती। इसके बाद हाईकोर्ट ने सीबीआई को कोई भी निर्णय लेने से पहले कोर्ट से अनुमति लेने का आदेश दिया था। बता दें कि 2016 में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश सिंह रावत के ऊपर कई विधायकों की ख़रीद-फ़रोख्त का आरोप लगा था।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

UPSC छात्रों को अतिरिक्त मौका नहीं, महामारी के कारण की गई थी दूसरे अवसर की अपील

नई दिल्ली : केंद्र ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह पिछले साल महामारी के कारण यूपीएससी (UPSC) द्वारा आयोजित परीक्षा में...

BB14: वरुण- नताशा की शादी नहीं, इस वजह से सलमान ने नहीं की “वीकेंड के वार” की shooting

बिग बॉस अब धीरे धीरे अपने फिनाले की ओर बढ़ रहा है।हर सप्ताह दर्शक वीकेंड के वार का इंतजार करते हैं लेकिन हाल ही...

मोदी के मंच से नाराज ममता ने दिखाया तेवर, भाषण देने से किया मना

नई दिल्ली : देश भर में आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती मनाई जा रही है। इसी कड़ी में पीएम नरेंद्र...

Republic Day की parade में पहली बार लद्दाख लेकर आ रहा अपनी झांकी, जानें इस बार क्या कुछ होगा खास

नई दिल्ली : साल 2021 में देश अपना 72वां गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाने जा रहा है। कोरोना काल के कारण एक ओर जहां...

राम मंदिर की नींव के लिए 40 फीट होगी खुदाई, पाषाणकाल की विधि का होगा इस्तेमाल

नई दिल्ली : राम मंदिर (Ram mandir) निर्माण का काम शुरु हो चुका है। मंदिर निर्माण से पहले मंदिर गर्भ के नीचे सबसे पहले...