Sunday, January 17, 2021

370 पर बीजेपी के जनजागरण में उठ गई नेहरू की बात

Must read

Maharashtra में 18 तक टीकाकरण नहीं, Co-Win में हुई गड़बड़

कोरोना वायरस टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत के मौके पर शनिवार को देश के जाने माने डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन के टीके लगाए...

जानिए देश के किन राज्यों में मिलेगा फ्री कोरोना वैक्सीन

देश में कोरोना संक्रमण के प्रबंधन और नियंत्रण के मद्देनजर वैक्सीनेशन की प्रक्रिया 16 जनवरी से शुरू हो जाएगी. देशभर में कोवीशील्ड और कोवैक्सीन...

जमुई में पहाड़ी गुफा पुलिस ने बरामद किये ये हथियार

जमुई, बिहार में जमुई जिले के खैरा थाना क्षेत्र से सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के जवानों ने पहाड़ी गुफा से हथियार बरामद किया। खैरा थाना...

Amethi में हवन-पूजन के बाद वैक्सीन को किया गया स्टोर

लंबे समय से कोरोना महामारी से जूझ रही जनता के लिए खुशखबरी की बात है। अब वह दिन दूर नहीं जब कोरोना पर विजय प्राप्त...

जम्मू कश्मीर (Jammu kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) और धारा 35 A को खत्म करने के बाद बीजेपी (BJP) के नेता जनजागरण अभियान चलाकर लोगो को इसके बारे में जागरूक करने की तैयारी कर रही है। इसके चलते बागपत जिले के सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Prithaviraj chauhan) डिग्री कॉलिज में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। वहीँ मंगलवार दोपहर दिल्ली के गृह मंत्रालय में गृह सचिव की मौजूदगी में कश्मीर पर बैठक हुई।

उत्तर प्रदेश में बागपत जिले के सम्राट पृथ्वीराज चौहान डिग्री कॉलिज में बीते सोमवार एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर गन्ना मंत्री सुरेश राणा पहुंचे। उन्होंने लोगो को सम्बोधित करते हुए कहा कि कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाने के लिए नेहरू को जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन नेहरू अपने काम मे विफल हुए। उन्होंने कहा कि अगर नेहरू के पास सरदार पटेल जैसे नेता होते या उनकी अच्छी नीतियां होती, तो भारत को बहुत सारे नोजवान ना खोने पड़ते। उन्होंने कहा कि कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाने के लिए सबसे पहला बलिदान श्यामा प्रसाद मुखर्जी का हुआ था। सुरेश राणा ने साथ ही कश्मीर में सुरक्षा संबधी मुद्दों पर भी बात की।

सेवानिवृत्त हुए सेवानिवृत्त अधिकारी आरके मित्रा

मंगलवार को दिल्ली के गृह मंत्रालय में गृह सचिव अजय कुमार भल्ला के नेतृत्व में बैठक की गई। इसमें गृह मंत्रालय के कश्मीर डिवीजन के अधिकारियों के साथ जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम भी मौजूद थे। इस दौरान गृह मंत्रालय में सलाहकार (न्यायिक) के रूप में कार्यरत आर के मित्रा सेवानिवृत्त हुए। इससे पहले वे सेवानिवृत्त संयुक्त सचिव थे, उन्हें सेवा विस्तार मिला था। साथ ही वे गृह मंत्रालय के पुलिस-द्वितीय डिवीजन के प्रभारी थे। आर के मित्रा कार्यकाल में अर्ध-सैन्य बलों को भी संभाल रहे थे।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Birthday Special : 76 के हुए जावेद अख्तर, ताश खेलने वाली पहली पत्नी से की शादी

17 जनवरी को जावेद अख्तर 76 वर्ष के हो गएl स्क्रिप्ट राइटर और गीतकार जावेद अख्तर से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य हम आपके लिए...

रूस की वैक्सीन ‘Sputnik V’ को ब्राजील की ना

ब्राजीलिया : ब्राजील की स्वास्थ्य नियामक एजेंसी (अनविसा) ने रूस के कोविड-19 वैक्सीन स्पूतनिक वी के आपात इस्तेमाल के लिए दवा कंपनी यूनिवो क्यूमिका...

जर्मनी के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर रात में चले पुलिस अभियान में नहीं मिली कोई संदिग्ध वस्तु

बर्लिन : जर्मनी में फ्रैंकफर्ट हवाई अड्डा पुलिस ने संदिग्ध सामान के निरीक्षण के बाद कोई खतरा नहीं पाए जाने पर अभियान के पूरा...

राहुल गांधी ने विदेश मंत्री S Jaishankar से पूछा चीन की क्या है रणनीति

देश में शनिवार को विदेश मामलों को लेकर संसदीय कंसलटेटिव कमिटी की एक अहम बैठक हुई जिसमें कांग्रेस नेता राहुल गाँधी समेत विभिन्न पार्टियों...

देश में पहले दिन 1.91 लाख लोगों को लगी कोरोना वैक्सीन, जानें कैसी रही शुरूआत

अभियान की शुरुआत के साथ लाखों जिंदगियां और रोजगार लीलने वाली इस महामारी के खात्मे की उम्मीद जगी है। भारत ने कोविशील्ड और कोवैक्सीन टीके...