Friday, December 4, 2020

असम में आई NRC लिस्ट, 19 लाख लोग हुए बाहर, पर अभी हिरासत नहीं

Must read

किसान आंदोलन: आज पंजाब-हरियाणा से बड़ी संख्या में दिल्ली कूच की तैयारी

नई दिल्ली : कृषि कानूनों (Farm Bill) के विरोध में किसानों का प्रदर्शन (Farmers Protest) लगातार जारी है। दिल्ली के बॉर्डर को किसानों ने...

पीलीभीत: कुत्तों ने मिलकर बाघ को खेतों से खदेड़ा, Video viral

पीलीभीत कहते है कि कुत्ते भी अपने इलाके/मोहल्ले में शेर होते है यह कहावत पीलीभीत की घटना में सही साबित हुई। यहाॅं रिहाइषी इलाके...

हमने हर सुविधा दी, अब कोच और खिलाड़ियों से देश के लिए पदक की उम्मीद : सिसोदिया

नई दिल्ली : दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को सर्वोदय बाल विद्यालय, अशोकनगर में विश्वस्तरीय एस्ट्रोटर्फ हॉकी मैदान का उद्घाटन किया। उन्होंने...

दीघा-AIIMS एलिवेटेड रोड का उद्घाटन आज, CM नीतीश करेंगे शुभारंभ

उत्तर और दक्षिणी बिहार को जोड़ने वाले दीघा एलिवेटेड रोड की आज शुरुआत हो जाएगी. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज इस एलिवेटेड रोड का उद्घाटन...

असम में चल रही नागरिकता को लेकर जद्दोजहद आज एक मोड़ पर आ पहुंची है। शनिवार को दोपहर 1 बजे गृह मंत्रालय ने असम एनआरसी की फाइनल लिस्ट की सूची जारी की। राज्य में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा-व्यवस्था के लिए 51 कंपनियां तैनात की गई हैं। जारी हुई फाइनल लिस्ट में तकरीबन 19 लाख लोगों का नाम नहीं था। इसकी वजह से लोगों में निराशा का माहौल है।

एनआरसी के स्टेट कॉर्डिनेटर प्रतीक हजेला ने बताया कि एनआरसी की इस फाइनल लिस्ट में 3 करोड़ 11 लाख 21 हजार लोगों को जगह मिली है जबकि 19 लाख 6 हज़ार 657 लोग इससे बाहर हैं। वहीँ जो लोग इस लिस्ट से संतुष्ट नहीं हैं, उनके लिए मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल(Sarbananda Sonowal) ने कहा है कि जिन लोगों का नाम लिस्ट में शामिल नहीं होगा, वे फॉरनर्स ट्रिब्यूनल में 120 दिनों के भीतर अप्लाई कर सकते हैं। उन्होंने लोगों को आश्वासन दिलाया है कि लिस्ट से हुए किसी व्यक्ति के साथ कोई उत्पीड़न नहीं होगा। राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) की अंतिम लिस्ट से असंतुष्ट लोगों को याचिका को सुनने के लिए असम सरकार राज्य में 400 विदेशी न्यायाधिकरणों की स्थापना करेगी। गृह राजनीति के अतिरिक्त मुख्य सचिव कुमार संजय कृष्ण ने कहा कि 200 ऐसे न्यायाधिकरण स्थापित करने के लिए प्रक्रिया पहले से ही है। विदेशियों के न्यायाधिकरणों को एनआरसी से बाहर रखे गए लोगों की अपील सुनने के लिए फॉरनर्स ट्रिब्यूनल-अर्ध न्यायिक अदालतें हैं।

फॉरनर्स ट्रिब्यूनल होगा सहारा 

जो नाम लिस्ट में शामिल नहीं हैं उन्हें अभी भी हिरासत में लिए जाने की अनुमति नहीं है। कुमार संजय कृष्णा ने कहा है कि, ‘ये ट्रिब्यूनल याचिका दायर करने और सुनवाई को बिना किसी व्यवधान के सुनिश्चित करने के लिए सुविधाजनक स्थानों पर स्थापित किए जाएंगे।’ उन्होंने कहा,’एनआरसी की अंतिम सूची से निकाले गए लोगों को तब तक हिरासत में नहीं लिया जा सकता, जब तक फॉरनर्स ट्रिब्यूनल अपना फैसला नहीं सुना देते।’ वहीँ एफटी के फैसले से संतुष्ट न होने पर ये लोग उच्च अदालत में याचिका दायर कर सकते हैं। इसके साथ ही राज्य सरकार भी एनआरसी सूची से निकाले गए लोगों को जिला कानूनी सेवा प्राधिकरण (डीएलएसए) के माध्यम से कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए सभी जरूरी बंदोबस्त करेगी। गौरतलब है कि NRC लिस्ट के लिए 3 करोड़ 30 लाख लोगों ने आवेदन किया था, जिसमें से 3 करोड़ 11 लाख 21 हजार 4 लोगों की नागरिकता साबित हो गई है। लिस्ट में नागरिकता साबित न होने वालों में से कई लोगों को पहले से इसका अंदाज़ा था।

मनमोहन सिंह की अगुआई में हुई शुरुआत

दरअसल इसकी शुरुआत साल 2005 में हुई थी जब पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अगुआई में केंद्र सरकार, असम सरकार और ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (AASU) के बीच त्रिपक्षीय बैठक हुई थी। उसमे तय किया गया था कि असम समझौते में किए गए वादों को पूरा करने के लिए NRC को अपडेट करने की दिशा में कदम उठाए जाने चाहिए। इसके लिए तौर-तरीकों को केंद्र ने असम सरकार की सलाह से स्वीकार किया। इससे पहले असम की पहली NRC लिस्ट 1951 में जारी हुई थी। जुलाई 1951 में जारी लिस्ट में 40.7 लाख लोगों को बाहर रखा गया था।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

अब किसान चाहते हैं सीधे प्रधानमंत्री से हो बात..

भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा किसी अन्य मंत्री व नेता से...

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...