370 पर मोदी ने सरदार पटेल तो राहुल ने लिया फारुख अब्दुल्ला का नाम!

0
150

जम्मू कश्मीर(Jammu & Kashmir) से आर्टिकल 370(Article 370) हटाए जाने पर भारत के दो बड़े नेताओं ने बयान दिए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने इस फैसले को सरदार वल्लभ भाई पटेल की दूरदृष्टि का परिणाम बताया। वहीँ कांग्रेस नेता राहुल गाँधी(Rahul Gandhi) ने सरकार पर पूरे देश में ध्रुवीकरण के लिए कश्मीर का स्थायी रूप से इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। ये दोनों बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर आए।

प्रधानमंत्री मोदी(PM Narendra Modi) ने अपने जन्मदिवस पर गुजरात में एक सार्वजनिक सभा में बयान दिया। उन्होंने कहा कि कहा कि जम्मू-कश्मीर पर केंद्र सरकार का निर्णय(Article 370) सरदार पटेल से प्रेरित है और ये दशकों पुरानी समस्या का समाधान पाने की एक कोशिश है। उन्होंने कहा कि हैदराबाद मुक्ति दिवस सरदार पटेल की दूरदृष्टि का परिणाम है। हैदराबाद मुक्ति दिवस हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है । इसी दिन 1948 में हैदराबाद रियासत का भारत में विलय हुआ था जिसमे तत्कालीन गृह मंत्री पटेल की बड़ी भूमिका थी।

कश्मीर का अस्थायी इस्तमाल कर रही है सरकार: राहुल गाँधी

वहीँ कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला को जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत हिरासत में लिए जाने पर सवाल किए। उन्होंने दावा किया कि सरकार अब्दुल्ला जैसे राष्ट्रवादी नेताओं को हटाकर आतंकवादियों को जगह देना चाहती है। उन्होंने ट्वीट किया कि ‘‘यह स्पष्ट है कि सरकार फारूक अब्दुल्ला जैसे राष्ट्रवादी नेताओं को हटाना चाहती है ताकि जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक शून्य पैदा हो, जो आतंकवादियों द्वारा भर दिया जाए। इसके बाद शेष भारत में ध्रुवीकरण करने के लिए कश्मीर का स्थायी रूप से उपयोग राजनीतिक औजार के तौर पर किया जा सके।’’

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के प्रशासन ने सोमवार को अब्दुल्ला को पीएसए के तहत हिरासत में लिया था। इस गिरफ़्तारी पर ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘‘सरकार को जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के लिए जगह नहीं पैदा करनी चाहिए और सभी राष्ट्रवादी नेताओं को रिहा करना चाहिए।’’ उन्होंने यह ट्वीट प्रधानमंत्री के बयान आने के बाद किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here