Wednesday, March 3, 2021

आज के बजट से जानता खुश नही बल्कि होगी नाराज-अखिलेश यादव

Must read

मुरादाबाद में मुख्य आरक्षी ने की आत्महत्या

मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश में मुरादाबाद के मझोला क्षेत्र में ट्रैफिक पुलिस में तैनात जवान ने शनिवार को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। पुलिस सूत्रों...

72 में से 9 मामलों का त्वरित किया गया समाधान

यूपी के बांदा में बने सदर तहसील परिसर में आज संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया गया इस संपूर्ण समाधान दिवस में बांदा जिला...

कानूनों के विरोध में किसानों ने गेहूं की फसल पर चलाया ट्रैक्टर

तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में हिसार के निकटवर्ती गांव लाडवा में किसानों ने आज अपनी...

28 फरवरी को सहारनपुर में होगी किसान महापंचायत,राकेश टिकैत करेंगे संबोधित

Breaking News: सहारनपुर 28 फरवरी को सहारनपुर के गांव लाखनौर में होगी किसान महापंचायत। भारतीय किसान यूनियन प्रवक्ता राकेश टिकैत किसानों की महापंचायत को...

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार द्वारा आज राज्य विधान सभा में प्रस्तुत बजट पूर्णतया निराशा जनक और जनहित की घोर उपेक्षा करने वाला है। भाजपा ने अपने चरित्र के अनुसार इसमें जनता को गुमराह करने वाली घोषणाएं की है। राज्य सरकार ने जाते-जाते झूठे वादों की झड़ी लगाई है और किसानों, नौजवानों, महिलाओं तथा व्यापारियों सभी को धोखा दिया है। भाजपा के बजट से गरीबों को नहीं अमीर उद्योगपतियों को और ज्यादा लाभ मिलेगा। बढ़ती मंहगाई पर नियंत्रण का कोई संकेत नहीं है। इसलिए अब भाजपा का खेल खतम और पैसा हजम।
मुख्यमंत्री जी‘ पेपर लेस‘ का बड़ा बखान कर रहे थे परन्तु हकीकत में यह भी नज़र आया कि टेबलेट से बजट गायब हो गया और पहली बार ऐसा हुआ कि विधायकों को बजट की जानकारी सुनकर ही मिली। बजट में विकास की दिशा ही नदारद है। काम करने के बजाय जुमलेबाजी से काम चलाया जा रहा है। भाजपा जो वादे करती है, वह पूरा नहीं कर पाती है।
आज किसान संकट में है, वह परेशान है। डीजल-पेट्रोल की कीमते आसमान छू रही है। सरकार इनका मुनाफा कहां ले जा रही है? गंगा नहीं साफ हुई है। लेकिन बजट साफ हो गया। बजट में गन्ना किसानों के बकाया भुगतान के बारे में कोई घोषणा नहीं है। फसल की एमएसपी नहीं मिली। दुग्ध समितियों का 2 साल से पैसा बकाया है, उसके भुगतान का कोई प्रावधान इस बजट में नहीं है। सरकार ने पूरी तरह ढोंगी बजट पेश किया है।
भाजपा सरकार के तमाम हो-हल्ले के बावजूद आधार संरचना के लिए कम राशि के आवंटन से स्पष्ट है कि सरकार जनहित की योजनाओं के बारे में कोई स्पष्ट दृष्टि नहीं रखती है। रोजगार के नए अवसर सृजित करने में भाजपा सरकार फेल हुई है। बढ़ती ऊर्जा की आवश्यकताओं को भाजपा ने बजट में अनदेखी की है। सामाजिक सुरक्षा के उपक्रमों पर ध्यान नहीं दिया गया है।
सच तो यह है कि भाजपा सरकार के इस पेपर लेस बजट में किसान, मजदूर, युवा, महिला व कारोबारी किसी के भी हाथ कुछ नहीं आया, रह गए सबके हाथ खाली। भाजपा का ये ‘विदाई बजट‘ सबको रूला गया है।
इस बजट से जनता की परेशानियां कम नहीं होंगी बल्कि भाजपा सरकार के खिलाफ लोगों का आक्रोश ज्यादा बढ़ेगा। जब भाजपा सत्ता से बेदखल होगी और समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी तभी जनहित की योजनाएं गति पाएंगी और लोगों में खुशहाली आएगी

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

लिपिक बीस हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार

भिंड,  मध्यप्रदेश के भिंड जिले के मौ तहसील कार्यालय के एक लिपिक को आज लोकायुक्त पुलिस ने बीस हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे...

इटावा में मानसिक रोगी को पीट पीट कर उतारा मौत के घाट, जाने वजह

इटावा  उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के बसेरहर इलाके के सिरसा गांव में चोरी के शक मे एक मानसिक रोगी को पीट पीट कर...

कोरोना शुल्क को लेकर मंत्री के जवाब से खफा विपक्षी सदस्यों ने किया बहिर्गमन

रायपुर , छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज देशी एवं विदेशी शराब पर लगे कोरोना सेस शुल्क से वसूल लगभग 365 करोड़ रूपए की राशि को...

गिना रायमोंडो होंगी अमेरिका की नयी वाणिज्य मंत्री

वाशिंगटन ,  अमेरिकी संसद के उच्च सदन सीनेट ने देश के अगले वाणिज्य मंत्री के लिए गिना रायमोंडो के नाम की पुष्टि कर दी...

एमसीडी उप चुनावों में भारी जीत पर केजरीवाल ने मतदाताओं को दी बधाई

दिल्ली,  दिल्ली नगर निगम के उप चुनावों में आम आदमी पार्टी (आप) के भारी जीत दर्ज करने पर खुशी व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री एवं...