Saturday, November 28, 2020

अजमेर : ‘‘शुद्ध के लिए युद्ध’’ अभियान, मिलावट की सूचना देने वाले को मिलेगा 51 हजार का इनाम

Must read

चक्रवात निवार से सबसे ज्यादा नुकसान पुडुचेरी और कराईकल में हो सकता है : मौसम विभाग

नई दिल्ली : बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवात निवार के बुधवार के आधी रात से रफ्तार पकड़ने की संभावना है। विशेषकर पुडुचेरी और...

श्रीनगर में सेना के जवानों पर हुआ आतंकी हमला, 2 जवान हुए शहीद

जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) के श्रीनगर इलाके से बड़ी खबर आ रही है। खबर है कि आतंकियों ने एचएमटी (HMT) इलाके में सुरक्षाबलों पर हमला...

Breaking news : यूपी कैबिनेट ने लव जिहाद पर पास किया अध्यादेश, जल्द बनेगा कानून

यूपी की आज की सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है जहां मंगलवार को लव जिहाद का अध्यादेश कैबिनेट में पास कर दिया गया...

IIMC के सत्रारंभ समारोह का दूसरा दिन सम्पन, निर्देशक सुभाष घई ने कहा – दिमाग से नहीं, दिल से सुनाएं कहानी…

नई दिल्ली : 'सिनेमा हो या मीडिया, आप कहानी दिमाग से नहीं, दिल से सुनाएं। और जब आप दिल से कहानी सुनाएंगे, तभी आप...

अजमेर। आम जनता को शुद्ध खाद्य पदार्थों, दूध उत्पादों व मिठाई आदि की उपलब्धता के लिए राज्य सरकार ने ‘‘शुद्ध के लिए युद्ध’’ अभियान चलाने का फैसला किया है। इसके तहत 26 अक्टूबर से 14 नवम्बर तक लगातार प्रशासन और पुलिस की टीमें मिलावटखोरों के खिलाफ कार्यवाही करेंगी। जांच में अत्याधुनिक उपकरणों की सहायता ली जाएगी। आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। साथ ही मिलावट की सूचना देने वाले को 51 हजार रूपए का इनाम दिया जाएगा।

जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने मीडिया को बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशानुसार 26 अक्टूबर से ‘‘शुद्ध के लिए युद्ध अभियान’’ व्यापक स्तर पर चलाया जाएगा। इसमें मिलावट करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। इसके लिए जिला स्तरीय प्रबंधन समिति में जिला कलक्टर अध्यक्ष, जिला पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला रसद अधिकारी, प्रबंध निदेशक, जिला डेयरी, उप विधि परामर्शी सदस्य एवं अतिरिक्त जिला कलक्टर स्तर का अधिकारी संयोजक होंगे।

उन्होंने बताया कि प्रबंधन समिति द्वारा जिले के ऎसे खाद्य-पदार्थ उत्पादक, बड़े थोक विक्रेता एवं खुदरा विक्रेता चिन्हित किए जाएंगे। जहां मिलावट की संभावना अधिक हो। जांच दलों द्वारा प्रतिदिन प्रातःकाल जांच की जाएगी। समिति द्वारा दैनिक आधार पर अभियान की समीक्षा कर जांच में लिए गए सैंपल टेस्टिंग रिपोर्ट, मौके पर नष्ट की गई सामग्री, दर्ज की गई एफआईआर एवं अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट या क्रिमीनल कोर्ट प्रकरणों की समीक्षा की जाएगी। उन्होंने बताया कि अभियान के अन्तर्गत दूध, मावा, पनीर एवं अन्य दुग्ध उत्पादों की जांच, आटा, बेसन, खाद्य तेल एवं घी की जांच, सूखे मेवे एवं मसालों की जांच तथा बाट एवं माप की जांच की जाएगी। राज्य स्तरीय आईईसी के अतिरिक्त जिलों में जिला कलक्टर के द्वारा शुद्ध के लिए युद्ध अभियान के अन्तर्गत की जाने वाली कड़ी कार्यवाही का समुचित प्रचार-प्रसार किया जाएगा।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया कृषि भूमि...

देश पर पड़ी मंदी की मार, दूसरी तिमाही की GDP ग्रोथ हुई -7.5

कोरोना वायरस संकट के बाद 27 नवंबर को दूसरी बार GDP ग्रोथ के आंकड़े सामने आए हैं। इस वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी...

कोविड-19 को लेकर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, कई दुकानों को किया सील

रोहतास जिले के डेहरी इलाके में एसडीएम और एएसपी ने संयुक्त अभियान चलाकर मॉल व कई बड़े दुकानों में छापेमारी की। एसडीएम व एएसपी...

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

नई दिल्ली : ''कोरोना महामारी की रोकथाम में पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना वारियर्स की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद...

सदन में तेजस्वी बोले, घर में हमे बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया है तो नीतीश खुद को रोक नहीं पाए और जानिए क्या...

नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानसभा का पहले सत्र का आज अंतिम दिन है। सदन में अंतिम दिन तेजस्वी यादव का 56...