Thursday, February 25, 2021

Farmers Protest: किसानों और सरकार के बीच 10वें दौर की बातचीत खत्म

Must read

ये टीम नौंवीं बार हुई ऑस्ट्रेलियन ओपन फाइनल में

विश्व के नंबर एक खिलाड़ी, टॉप सीड और आठ बार के विजेता सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने रूसी क्वालीफायर असलान करातसेव के स्वप्निल अभियान...

जानिए आरबीआई ने लाॅकर सुविधा को लेकर क्या दिए निर्देश

लॉकर सुविधा के होने से हम अपने किमती सामानों की सुरक्षा करते है. अमुमन इस सुविधा का लाभ मिडिल क्लास आदमी उठाता है. सुप्रीम...

अधिवक्ताओं ने सड़क पर उतरकर जताया विरोध, जानिए क्यों

उत्तर प्रदेश के महोबा जनपद में अधिवक्ताओं ने सड़क पर उतरकर शहर में बिगड़ी कानून व्यवस्था के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया है। प्रदेशन के...

CM भूपेश बघेल ने रक्षा मंत्री से किया ये अनुरोध, जाने पूरा मामला

रायपुर  छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर बिलासपुर में थल सेना की लंबित छावनी की शीघ स्थापना...

नई दिल्ली : केंद्र सरकार (Central Government) के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन 56वें दिन भी हुई। कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े आंदोलनरत किसानों के साथ सरकार की 10वें दौर की वार्ता दिल्ली के विज्ञान भवन में खत्म हो गई है। बातचीत बेनतीजा रही है, लेकिन सरकार ने कृषि कानूनों को एक साल तक निलंबित करने का प्रस्ताव किया है, लेकिन किसानों ने इसे ठुकरा दिया है और कानून रद्द करने पर अड़े हैं।

बता दें कि यह बैठक 19 जनवरी को होनी थी, लेकिन कुछ कारणों से इसे एक दिन के लिए मुल्तवी कर दिया गया था। बता दें कि 10वें दौर की बातचीत से पहले दोनों पक्षों की ओर से अलग-अलग बयान दिए गए, जिसके बाद इस बैठक में तनातनी का माहौल बन सकता है।

सुप्रीम कमेटी की किसानों से बातचीत कल

कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट से बनी कमेटी की किसानों के साथ बातचीत 21 जनवरी सुबह 11 बजे होगी। कमेटी के सदस्यों ने कहा कि वे किसी के पक्ष या सरकार के पक्ष में नहीं हैं, न ही किसानों से बातचीत में अपनी निजी राय हावी होने देंगे। यहां पूसा परिसर में मंगलवार को हुई कमेटी की पहली बैठक के बाद शेतकारी संगठन के प्रमुख अनिल घनवट ने मीडिया से बातचीत में कहा कि समिति 21 जनवरी को किसानों और अन्य हितधारकों से पहले चरण की वार्ता करेगी।

बातचीत में अपनी निजी राय हावी नहीं होने देंगे- कमेटी

उन्होंने कहा कि समिति की सबसे बड़ी चुनौती प्रदर्शनकारी किसानों को बातचीत के लिए तैयार करने की होगी। हम इसका यथासंभव प्रयास करेंगे। घनवट ने कहा कि समिति केंद्र और राज्य सरकारों के अलावा किसानों और सभी अन्य हितधारकों की कृषि कानूनों पर राय जानना चाहती है। घनवट के मुताबिक कमेटी उन सभी से राय लेगी जो इन कानूनों का विरोध कर रहे हैं अथवा समर्थन कर रहे हैं। इसके अलावा सरकार से कहेंगे वह भी अपना पक्ष कमेटी के समक्ष रखे। घनवट ने बताया कि कमेटी जल्द ही एक वेबसाइट भी तैयार करने की कोशिश कर रही है, ताकि जो लोग कमेटी के समक्ष आकर अपनी बात कहने की स्थिति में नहीं हैं, वे वेबसाइट पर अपनी राय रख सकें।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

चीन को मिला बड़ा झटका

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने बांग्लादेश के अपने समकक्ष एके अब्दुल मोमन के साथ आर्थिक, रक्षा और आतंकवाद रोधी सहयोग को गहरा...

भाजपा ने लोकतांत्रिक व्यवस्था और संस्थानों का किया नुकसान-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमं अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा ने लोकतांत्रिक व्यवस्था और संस्थानों का जितना नुकसान किया...

ग्लेसियर फटने से मची भीषण तबाही 25 लोगों की जान बचाने वाली महिला को समाजवादी पार्टी में किया गया सम्मानित

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आज समाजवादी पार्टी उत्तराखण्ड की ओर से उत्तराखण्ड में ग्लेसियर फटने...

गुस्साई पत्नी ने पति के दोस्तों पर चला दी गोलियां

पति-पत्नी के झगड़े होना आम बात है, लेकिन कभी-कभी तकरार काफी बढ़ जाती है और आपराधिक कदम पर आकर रुकती है. ऐसा ही हुआ...

सबसे सस्ती 32 इन्च की नई स्मार्ट टीवी

रियलमी  ने अपने प्लैटफॉर्म पर रियलमी डेज़ सेल  की शुरुआत की है, और कंपनी ने यहां पर कई तरह के ऑफर्स देने का ऐलान...