Sunday, January 24, 2021

किसान क्यों चाहते हैं MSP पर लिखित गारंटी? जानिए क्या है विरोध का बड़ा कारण…

Must read

एमएलसी चुनाव से जुड़ी बड़ी खबर 13 वा प्रत्याशी मैदान में उतरा

लखनऊ, उत्तर प्रदेश में होने वाले 12 सीटों पर एमएलसी के चुनाव में अब 13 वां प्रत्याशी भी मैदान में आ गया है आपको बता...

तुर्की में जल्द पहुंचेगी चीनी वैक्सीन की दूसरी खेप- Erdogan

इस्तांबुल : तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तेयिप एर्दोगन का कहना है कि चीनी वैक्सीन की दूसरी खेप इस सप्ताह के अंत तक पहुंच सकती...

डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा जर्मनी में सैनिक संख्या में परिवर्तन की समीक्षा करेगी बाइडेन सरकार

वाशिंगटन : अमेरिकी प्रशासन जर्मनी से अमेरिकी सैनिकों की संख्या कम करने के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की फैसले की समीक्षा करेगा। यह जानकारी अमेरिका...

26 जनवरी 2022 को रिलीज होगी अक्षय कुमार की ‘बच्चन पांडे’

मुंबई, बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार की आने वाली फिल्म 'बच्चन पांडे' 26 जनवरी 2022 को रिलीज होगी। अक्षय कुमार की अपकमिंग फिल्म 'बच्चन...

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों (Farm Bill) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmer Protest) आज छठे दिन भी जारी है। वही केंद्र सरकार ने किसानों से बातचीत करने वाली किसानो की शर्त को मान ली है लेकिन अभी भी किसानों को संशय लगा हुआ है।

दरअसल, किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (Minimum support price) और मंडी के मुद्दे सरकार पर विश्वास नहीं है इसलिए किसान इन मसलों पर सरकार की कही हुई बात को लिखित में चाहते हैं। उन्हें सरकार से उनके कहे हुए शब्दों को लेकर गारंटी चाहिए।

किसानों को डर है कि सरकार नए कानून की आड़ में MSP को धीरे-धीरे खत्म कर देगी। वहीँ, किसान संगठनों का यह भी कहना है कि केंद्र सरकार की ओर से लागू हुए ये तीन नए कृषि कानून जब असर दिखाने लगेंगे तो मंडियों को ताकत देने वाला एपीएमसी (APMC) एक्ट कमजोर पड़ जाएगा और जब ऐसा होने लगेगा तो एमएसपी की गारंटी भी खत्म हो जाएगी।

चलिए आपको बताते है की क्या होता है MSP…

MSP वह न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी गारंटेड मूल्य है जो किसानों को उनकी फसल पर मिलता है। भले ही बाजार में उस फसल की कीमतें कम हो। इसके पीछे तर्क यह है कि बाजार में फसलों की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव का किसानों पर असर न पड़े। उन्हें न्यूनतम कीमत मिलती रहे।

सरकार हर फसल सीजन से पहले CSP यानी कमीशन फॉर एग्रीकल्चर कॉस्ट एंड प्राइजेस की सिफारिश पर एमएसपी तय करती है। यदि किसी फसल की बम्पर पैदावार हुई है तो उसकी बाजार में कीमतें कम होती है, तब एमएसपी उनके लिए फिक्स एश्योर्ड प्राइज का काम करती है। यह एक तरह से कीमतों में गिरने पर किसानों को बचाने वाली बीमा पॉलिसी की तरह काम करती है।

इसकी जरूरत क्यों है और यह कब लागू हुई?

1950 और 1960 के दशक में किसान परेशान थे। यदि किसी फसल का बम्पर उत्पादन होता था, तो उन्हें उसकी अच्छी कीमतें नहीं मिल पाती थी। इस वजह से किसान आंदोलन करने लगे थे। लागत तक नहीं निकल पाती थी। ऐसे में फूड मैनेजमेंट एक बड़ा संकट बन गया था। सरकार का कंट्रोल नहीं था।

1964 में एलके झा के नेतृत्व में फूड-ग्रेन्स प्राइज कमेटी बनाई गई थी। झा कमेटी के सुझावों पर ही 1965 में भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) की स्थापना हुई और एग्रीकल्चरल प्राइजेस कमीशन (एपीसी) बना।

इन दोनों संस्थाओं का काम था देश में खाद्य सुरक्षा का प्रशासन करने में मदद करना। एफसीआई वह एजेंसी है जो एमएसपी पर अनाज खरीदती है। उसे अपने गोदामों में स्टोर करती है। पब्लिक डिस्ट्रिब्यूशन सिस्टम (पीडीएस) के जरिये जनता तक अनाज को रियायती दरों पर पहुंचाती है।

पीडीएस के तहत देशभर में करीब पांच लाख उचित मूल्य दुकानें हैं जहां से लोगों को रियायती दरों पर अनाज बांटा जाता है। एपीसी का नाम 1985 में बदलकर सीएपीसी किया गया। यह कृषि से जुड़ी वस्तुओं की कीमतों को तय करने की नीति बनाने में सरकार की मदद करती है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

Farmers Protest : महाराष्ट्र में उमड़ा किसानों का सैलाब, ठाकरे-पवार देंगे समर्थन

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को मुंबई के आजाद मैदान में होने वाली रैली में शामिल होने...

PM मोदी NCC कैडेट्स से मिले, Corona काल में अभूतपूर्व सहयोग को सराहा

नई दिल्ली : पीएम नरेंद्र मोदी ने आज गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले NCC कैडेट्स से मिले। उन्होंने इस अवसर पर संबोधित...

अंबानी की रिलायंस ने तेल-से-रसायन कारोबार को किया अलग, बनाई नई यूनिट

नई दिल्ली :  अरबपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries Ltd) ने तेल-से-रासायन कारोबार के लिए अलग इकाई बनाने का काम...

जाह्नवी कपूर की Film की Shooting किसानों के विरोध के चलते रुकी

  नई दिल्ली : किसानों के एक समूह द्वारा यहां विरोध प्रदर्शन किए जाने के बाद जाह्नवी कपूर की आगामी फिल्म 'गुड लक जेरी’’ की...

नीतीश ने जयंती पर जननायक कर्पूरी ठाकुर को किया नमन

पटना  : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व मुख्यमंत्री जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर उन्हें नमन किया।नीतीश कुमार ने रविवार को यहां जयंती...