Thursday, January 21, 2021

सुरक्षा को लेकर Whats app ने दी सफाई, कही ये बात

Must read

नयी राजनीतिक पार्टी के गठन की योजना बना रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप

वाशिंगटन , अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति चुनाव में हार और अपना कार्यकाल पूरा होने के बाद एक नए राजनीतिक दल के...

राम मंदिर निर्माण के लिए दान देते हुए कल्याण सिंह ने जताई ये इच्छा, आप भी जानें  

    लखनऊ: राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (kalyan singh) ने कहा कि उनकी अंतिम इच्छा...

जानिये क्यों नहीं रिलीज़ हो रही Bollywood की बड़ी फ़िल्में, सामने आयी ये बड़ी वजह

मुंबई, साल 2020 Bollywood के लिए अब तक का सबसे खराब साल रहा है। इस साल में न तो फिल्मों की शूटिंग हो सकी...

उड़ान योजना से बदलेगी हिसार की तस्वीर, जानिए क्या होगा ख़ास

हिसार, एकीकृत विमानन केंद्र व एयरोट्रोपोलिस परियोजना हिसार जिले के विकास के लिए बेहद अहम साबित होगी और इन परियोजनाओं के फलीभूत होने के...

नई दिल्ली : व्हाट्सऐप (Whats app) ने मंगलवार को उपयोगकर्ताओं की जानकारी की सुरक्षा को लेकर चिंताओं को दूर करते हुए कहा कि उसके ताजा नीतिगत बदलावों से संदेशों की गोपनीयता प्रभावित नहीं होती है। फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी ने नई निजता नीति और सेवा शर्तों को लेकर विभिन्न तबकों की आलोचनाओं के बीच यह बात कही है।

फेसबुक के साथ साझा नहीं करती

व्हाट्सऐप ने एक ब्लॉगपोस्ट में कहा कि वह विज्ञापनों के उद्देश्य से उपयोगकर्ताओं की संपर्क सूची या आंकड़ों को फेसबुक के साथ साझा नहीं करती है। साथ ही न तो और न ही फेसबुक न तो व्हाट्सऐप पर उपयोगकर्ताओं के संदेश को पढ़ सकते हैं और न ही कॉल सुन सकते हैं। पिछले हफ्ते व्हाट्सऐप ने अपनी सेवा शर्तों और निजता से जुड़ी नीति में बदलाव के बारे में बताया था। उसने कहा था कि वह दिग्गज सोशल मीडया के उत्पादों के साथ एकीकरण के तहत किस तरह उपयोगकर्ताओं के आंकड़ों का इस्तेमाल करती है और किसी तरह फेसबुक के साथ उन्हें साझा किया जाता है। व्हाट्सऐप ने यह भी कहा कि उसकी सेवा का उपयोग जारी रखने के लिए उपयोगकर्ताओं को आठ फरवरी 2021 तक नई शर्तों और नीति को स्वीकार करना होगा।

नहीं होगी गोपनीयता प्रभावित

व्हाट्सऐप द्वारा कथित रूप से फेसबुक के साथ उपयोगकर्ताओं की सूचना साझा करने को लेकर दी गयी जानकारी के बाद इंटरनेट पर चर्चा शुरू हो गई। कइयों ने इसकी आलोचना की और कई लोगों ने टेलीग्राम और सिग्नल जैसे प्रतिस्पर्धी मंचों का उपयोग करना शुरू कर दिया है। व्हाट्सऐप ने कह कि हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि नीति में बदलाव से किसी भी तरह से दोस्तों या परिवार के साथ आपके संदेशों की गोपनीयता प्रभावित नहीं होगी। इसकी जगह इस बदलाव में पर किसी व्यवसाय को संदेश देने से संबंधित परिवर्तन शामिल हैं, जो वैकल्पिक है। ये इस बारे में अधिक पारर्दिशता लाते हैं कि हम किस तरह आंकड़े जमा करते हैं और उपयोग करते हैं।

संपर्क सूची साझा की जाती है

ब्लॉग में कहा गया कि व्हाट्सऐप मैसेजिंग को तेज और विश्वसनीय बनाने के लिए एड्रेस बुक से केवल फोन नंबर तक पहुंचा जाता है और फेसबुक के अन्य ऐप के साथ संपर्क सूची साझा नहीं की जाती है। कंपनी ने साथ ही यह भी कहा कि विज्ञापनों के लिए फेसबुक के साथ उपयागकर्ताओं से जुड़े आंकड़े को साझा नहीं किया जाता है। ये बातचीत पूरी तरह से गोपनीय होते हैं और हम उसे नहीं देख सकते। इस बीच, इंटरनेट सुरक्षा शोधकर्ता राजशेखर राजाहरिया की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कम से कम 1,700 निजी व्हाट्सऐप ग्रुप के ङ्क्षलक एक ‘वेब सर्च’ के माध्यम से गूगल पर दिखाई दे रहे थे।

40 करोड़ उपयोगकर्ता है

व्हाट्सऐप ने कहा कि उपयोगकर्ता अतिरिक्त गोपनीयता के लिये अपने संदेशों को चैट से हटाने का विकल्प चुन सकते हैं। जे सागर भागीदार एस सिंह ने कहा कि व्हाट्सऐप के भारत में 40 करोड़ उपयोगकर्ता हैं। इसमें नीति में बदलाव की वजह से सेवा बंद कर करने वालों का हिस्सा बहुत कम रह सकता हैं। उन्होंने कहा कि सभी मैसेजिंग ऐप उन्हीं ग्राहकों को हासिल करने के लिये वापस में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं, जो इस तरह के ऐप का उपयोग कर रहे हैं। इसलिए कोई गोपनीयता और सुरक्षा से कोई समझौता शायद ही करेगा … इसके अलावा, जब तक कि भारत यूरोपीय संघ की तरह आंकड़ा संरक्षण कानून नहीं लाता, तब तक देश से आंकड़ों के बाहर जाने पर रोक प्रभावी रूप से लागू नहीं होगा।

इस बीच, करीब 9,000 लोगों के बीच किये गये लोकल र्सिकल सर्वे में 26 प्रतिशत ने कहा कि वे के उपयोग में कमी लाएंगे और दूसरे मंचों का उपयोग शुरू करेंगे। करीब 15 प्रतिशत से कहा कि वे व्हाट््सऐप का उपयोग पूरी तरह से बंद करेंगे जबकि 10 प्रतिशत से कहा कि वे ई-मेल और एसएमएस का उपयोग अधिक करना शुरू कर रहे हैं। गौरतलब है कि कंपनी जगजत की प्रमुख हस्तियों में महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा, पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा और फोनपे के सीईओ समीर निगम सहित कई कारोबारी दिग्गजों ने कहा है कि वे से निकल कर दूसरे मंचों पर जा रहे हैं। महिंद्रा ने सिग्नल को चुना है ओर शर्मा ने भी इसकी ही वकालत की है।

 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

दिल्ली का न्यूनतम तापमान इतना डिग्री पहुंचा, वायु गुणवत्ता बेहद खराब

नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को न्यूनतम तापमान 7.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। मौसम विभाग ने पूर्वानुमान में बताया कि राजधानी में अधिकतम...

शाहजहांपुर में बड़ा हादसा, एक की मौत इतने हुए घायल

शाहजहांपुर , उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में मटर के बोरों से भरा एक ट्रक रोड के किनारे खड़े लोगों पर आज पलट गया जिसमें...

26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली पर नहीं बनी बात, सरकार के प्रस्ताव पर करेंगे विचार

दिल्ली की तमाम सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन का आज 57वां दिन है। तमाम परेेशानियों के बाद भी किसान आंदोलन खत्म करने को...

“मां पहली शिक्षक उसकी भूमिका महत्वपूर्ण”- मोहन भागवत

मथुरा, राष्ट्रीय स्वयं सेवक के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि जीवन को सही दिशा देने में प्रथम शिक्षक के रूप में मां द्वारा...

जापान में बर्ड फ्लू फैलने से इतने हजार बतखों का किया गया खात्मा

टोक्यो, जापान में चिबा के पूर्वी प्रांत में बर्ड फ्लू के एक नए प्रकोप को लेकर 12,000 बतखों (कलहंस) को मार दिया गया। जापान की...