Friday, February 26, 2021

वीएम सिंह और भानू ने आंदोलन से पल्ला झाड़ा, टिकैत पर जड़ा आरोप

Must read

खड़े टैंकर में घुसी कार, 6 की मौत

इंदौर,  मध्यप्रदेश के इंदौर के लसूड़िया थाना क्षेत्र में हुई एक सड़क हादसे में 6 कार सवारों की मौत हो गई है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक...

योगी आदित्यनाथ नहर परियोजना को लेकर कही ये बाते

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा सरयू नहर परियोजना, मध्य गंगा नहर परियोजना सहित विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं को तेजी से पूर्ण कराया...

कश्मीर में पांच ड्रग तस्कर गिरफ्तार, चरस बरामद

श्रीनगर,जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कुलगाम जिले में मादक पदार्थ के पांच तस्करों को गिरफ्तार कर 640 ग्राम चरस बरामद की है।पुलिस के एक प्रवक्ता ने...

उत्तराखंड में भूकंप के झटके महसूस किये गये

नेपाल और उत्तराखंड के कुमाऊं में भूकंप के झटके महसूस किये गये। नेपाल में रिएक्टर स्केल पर जहां इसकी तीव्रता 5.6 मापी गयी है...

गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में तोड़फोड़ के बाद दिल्ली पुलिस एक्शन में दिख रही है। पुलिस ने लगभग 200 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है तो वहीं किसान नेताओं पर FIR दर्ज किया गया है। दूसरी तरफ आंदोलन भटकता हुआ नजर आ रहा है। इसी कड़ी में राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के नेता वीएम सिंह ने आंदोलन से अलग होने की घोषणा की है। भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने भी आंदोलन से अलग होने का ऐलान किया है।

बता दें कि वीएम सिंह ने आंदोलन से अलग होते हुए राकेश टिकेत पर जमकर आरोप लगाया। उन्होंने कल दिल्ली में हुए हिंसा पर चिंता प्रकट की है। उन्होंने स्वीकार किया कि कुछ नेताओं के कारण आंदोलन सही रास्ता से भटक गया। उन्होंने हिंसा के लिये राकेश टिकेत को जिम्मेदार ठहराया। वीएम सिंह ने कहा कि राकेश टिकेत सरकार के साथ बातचीत करते रहे,लेकिन कभी उन्होंने गन्ना किसानों की मांग को नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि हम समर्थन करते रहे,जिसका गलत फायदा उठाया गया।

मालूम हो कि दिल्ली में 26 जनवरी को लालकिला के प्राचीर पर जहां से पीएम झंडा फहराते है,वहां निशान साहेब का झंडा फहराया गया। वहीं पुलिस के साथ हाथापाई की गई। काफी संख्या में उपद्रवियों ने लाल किला परिसर पर उत्पात मचाता रहा। उधर जब राजपथ पर झांकी निकाली जा रही थी,ठीक उसी समय आईटीओ पर किसान आंदोलन उग्र हो रहा था। काफी देर के बाद दिल्ली पुलिस ने हालात पर कब्जा कर पाया। दूसरी तरफ आंदोलन से जुड़े नेताओं ने आंदोलन के नाम पर हिंसा को गलत बताते हुए किनारा कर लिया। हालांकि किसान आंदोलन को समर्थन और विरोध करने का सियासी दांवपेंच भी देखने को मिल रहा है। हरियाणा से विधायक अभयसिंह चौटाला ने इस्तीफा दे दिया। उन्होंने किसान आंदोलन को अपना समर्थन देते हुए विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा भेज दिया है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

भाजपा राज में जनता कराहने लगी-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में जनता कराहने लगी है। मंहगाई के चूल्हे...

पुलिस ने की माल में चोरी, देखिए ये वीड़ियो

वर्दी के नीचे कई शर्ट पहन कर चोरी कर ले जा रहा गोमतीनगर विस्तार का चोरकट सिपाही मेटल डिटेक्टर से पकड़ा गया,कर्मचारियों ने की...

पूर्वांचल दौरे पर अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं ने जोरदार किया स्वागत

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव वाराणसी पहुंच गए। वह तीन दिन के पूर्वांचल के दौरे पर आए हैं। वाराणसी एयरपोर्ट...

पारंपरिक ऐपण कलाकृति को मिल रहा नया आयाम

उत्तराखंड की पारंपरिक ऐपण कलाकृति को नया आयाम मिल रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हालिया दिल्ली दौरे पर केंद्रीय मंत्रियों को ऐपण...

फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी में कैसे ली Alia ने फिल्म में एंट्री

बॉलीवुड फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ (Gangubai Kathiawadi) का टीज़र हाल ही में रिलीज किया गया जिसमें आलिया भट्ट (Alia...