Sunday, January 24, 2021

Uttar Pradesh : भ्रष्टाचार पर योगी सरकार ने चलाया दोहरा प्रहार, तैनात किए दो हाईटेक चौकीदार

Must read

बरेली में बालाकोट पर बोले अखिलेश

सपा प्रमुख अखिलेश यादव आज बरेली के दौरे पर थे इस दौरान अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि बालाकोट जैसी घटना...

Pfizer कनाडा को देगी 40 लाख वैक्सीन की डोज- जस्टिन ट्रुडो

टोरंटो : कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का कहना है कि कोरोना वैक्सीन निर्माता कंपनी फाइजर के सीईओ अल्बर्ट बोउरला ने उन्हें आश्वासन दिया...

फरवरी में ट्रम्प पर महाभियोग की सुनवाई शुरू करने का प्रस्ताव

वाशिंगटन, अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) में अल्पसंख्यक नेता मिच मैककोनेल ने फरवरी में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के महाभियोग पर सुनवाई करने का प्रस्ताव...

26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली पर नहीं बनी बात, सरकार के प्रस्ताव पर करेंगे विचार

दिल्ली की तमाम सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन का आज 57वां दिन है। तमाम परेेशानियों के बाद भी किसान आंदोलन खत्म करने को...
  • PWD टेंडरों के आवंटन में भ्रष्‍टाचार रोकेगा योगी का प्रहरी
  • प्रहरी साफ्टवेयर के जरिये तय होगी टेंडर आवंटन की पूरी प्रक्रिया
  • कृषि भूमि के परिवर्तन में घूसखोरी पर लगाम,किसानों को बड़ी राहत
  • आन लाइन आवेदन कर सकेंगे किसान,45 दिन में होगा भू उपयोग पर निपटारा
  • सीधे किसानों से जमीन खरीद कर इंडस्‍ट्री लगाना निवेसकों के लिए होगा आसान
  • भू उपयोग पारदर्शी और सरल होने से बढ़ेंगे रोजगार और व्‍यापार
  • पिछली सरकारों से लटके हजारों मामले भी 45 दिन में निपटाने के निर्देश

लखनऊ : भ्रष्‍टाचार के खिलाफ जीरो टालरेंस नीति पर आगे बढ़ रही योगी सरकार ने इस दिशा में दो अहम कदम और बढ़ा दिए हैं । इस बार योगी सरकार ने भ्रष्‍टाचार पर दोहरा प्रहार किया है । लोक निर्माण विभाग में टेंडरों के आवंटन प्रक्रिया की चौकीदारी अब हाईटेक प्रहरी करेगा । कृषि भूमि का लैंड यूज चेंज करवाने के लिए भी अब किसानों को अफसरों की दहलीज पर भटकना नहीं होगा । राजस्‍व संहिता में बदलाव क‍र कृषि भूमि को गैर कृषि भूमि में परिवर्तित कराने के लिए योगी सरकार ने आन लाइन आवेदन की सुविधा शुरू कर दी है ।

भ्रष्‍टाचार के खिलाफ योगी सरकार के हाईटेक पहरेदारों की तैनाती से घूसखोरों,बिचौलियों और दलालों के हौसले पस्‍त हैं । पीडब्‍ल्‍यूडी में टेंडर आवंटन प्रक्रिया को लेकर पिछले कुछ दिनों में शून्‍य हुई शिकायतों की संख्‍या इसकी गवाह है । पिछली सरकारों में बदनाम रही टेंडर आवंटन प्रक्रिया को भ्रष्‍टाचार मुक्‍त और पारदर्शी बनाने के लिए योगी सरकार ने प्रहरी साफ्टवेयर तैनात किया है।

लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के मुताबिक 15 सितंबर से प्रदेश भर में प्रहरी साफ्टवेयर योजना को लागू कर दिया गया है । विभाग की पूरी टेंडर प्रक्रिया प्रहरी के जरिये होगी। टेंडर प्रक्रिया में शामिल होने वाली कंपनियों के दस्‍तावेज से लेकर मशीनों और बैंक से जुड़े दस्‍तावेजों तक की पड़ताल प्रहरी करेगा। टेंडर में शामिल होने वाले आवेदक खुद साफ्टवेयर पर अपने दस्‍तावेज अपलोड कर सकेंगे। प्रक्रिया इतनी पारदर्शी होगी की सभी आवेदक एक दूसरे के दस्‍तावेज आनलाइन देख सकेंगे। सभी चीजों की पड़ताल के बाद साफ्टवेयर ही टेंडर के लिए कंपनियों का चुनाव भी करेगा।

राज्‍य सरकार ने टेंडर प्रक्रिया में विवादित रही स्‍थानीय विभागीय अधिकारियों की भूमिका भी लगभग खत्‍म कर दी है । टेंडर प्रक्रिया में किसी तरह की शिकायत की जांच लोक निर्माण विभाग मुख्‍यालय के अधिकारियों की टीम करेगी।

कृषि भूमि के लैंड यूज चेंज को लेकर पिछली सरकारों में किसानों से होने वाली वसूली और घूसखोरी पर योगी सरकार ने रोक लगा दिया है। कृषि भूमि को गैर कृषि भूमि में तब्‍दील कराने के लिए अब किसानों को न अफसरों की दहलीज के चक्‍कर लगाने होंगे और न बिचौलियों और दलालों का शिकार बनना होगा। अब किसान लैंड यूज चेंज करने के लिए घर बैठे आन लाइन आवेदन कर सकेंगे। लैंड यूज चेंज में हीला हवाली कर किसानों को परेशान करने वाले अफसरों पर भी अब राज्‍य सरकार की सीधी निगाह होगी । 45 दिन की समय सीमा के भीतर अफसरों को मामले का निपटारा करते हुए फैसला देना होगा । इस अवधि में कोई कार्रवाई नहीं होने पर किसान के आवेदन को अप्रूव मान लिया जाएगा ।

भू उपयोग बदलने की नियम आसान और पारदर्शी करने से जहां भ्रष्‍टाचार पर रोक लगेगी वहीं सीधे किसानों से जमीन खरीद कर औद्योगिक इकाइयां लगाने की कोशिश कर रहे निवेशकों को भी राहत मिलेगे। नई प्रक्रिया से निजी प्रोजेक्‍ट में काफी तेजी आने की उम्‍मीद की जा रही है। आवेदन पर फैसले की एक निश्चित समय सीमा तय होने से प्रदेश में निवेश करने वाली कंपनियों का समय भी नहीं बर्बाद होगा। छोटे उद्योग और व्‍यापार को बढ़ावा मिलेगा। स्‍थानीय लोग अपनी इकाइयां लगा कर लोगों को रोजगार और व्‍यापार से जोड़ सकेंगे। गौरतलब है कि पिछली सरकारों से चले आ रहे भू उपयोग परिवर्तन के इस खेल के कारण हजारों की संख्‍या में मामले लटके हुई थे,जिन्‍हें 45 दिन के अंदर पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। राजस्‍व विभाग की वेबसाइट पर जा कर कोई भी भू स्‍वामी भू उपयोग परिवर्तन के लिए आन लाइन आवेदन कर सकता है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

हिंदू पुजारियों पर Corona पीड़ितों की अंत्येष्टि के लिए ज्यादा शुल्क वसूलने का आरोप

दक्षिण अफ्रीका में कुछ हिंदू पुजारियों (Hindu priests) पर कोविड-19 के कारण मरने वाले लोगों की अंत्येष्टि के लिए अधिक शुल्क वसूले जाने के...

कारगिल में पर्यटन की हैैं अपार संभावनाएं : पटेल

नई दिल्ल : हाल ही में जम्मू-कश्मीर से अलग होकर लद्दाख केन्द्रशाषित प्रदेश बना है। इससे पहले कभी भी लद्दाख को खासकर कारगिल में...

Farmers Protest : महाराष्ट्र में उमड़ा किसानों का सैलाब, ठाकरे-पवार देंगे समर्थन

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को मुंबई के आजाद मैदान में होने वाली रैली में शामिल होने...

PM मोदी NCC कैडेट्स से मिले, Corona काल में अभूतपूर्व सहयोग को सराहा

नई दिल्ली : पीएम नरेंद्र मोदी ने आज गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले NCC कैडेट्स से मिले। उन्होंने इस अवसर पर संबोधित...

अंबानी की रिलायंस ने तेल-से-रसायन कारोबार को किया अलग, बनाई नई यूनिट

नई दिल्ली :  अरबपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries Ltd) ने तेल-से-रासायन कारोबार के लिए अलग इकाई बनाने का काम...