Sunday, November 29, 2020

एक ऐसा “मनहूस” घर जिसमे जाते ही यूँ बीमार हुए अरुण जेटली कि फिर उबर न सके!

Must read

धर्मेंद्र यादव दिल्ली से लौटे यूपी बने “DIG कानून व्यवस्था”

उत्तर प्रदेश के तेजतर्रार अफसरों में एक धर्मेंद्र यादव प्रतिनियुक्ति से वापस उत्तर प्रदेश लौट आए हैं, धर्मेंद्र यादव को यूपी लौटते ही महत्वपूर्ण...

उत्तराखंड : ऑस्ट्रेलियन टीक और काली मिर्च की खेती को बढ़ावा देने के लिए विशेषज्ञों की राय ली जाए – CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आज कहा कि प्रदेश में आस्ट्रेलियन टीक एवं काली मिर्च की खेती को बढ़ावा देने के लिए...

लालू की बड़ी मुश्किलें : पटना से बीजेपी ने की FIR दर्ज, RIMS में हुए भर्ती

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें काफी बढ़ती हुई नजर आ रही है। जेल से बीजेपी विधायक ललन पासवान...

तेजस्वी और नीतीश कुमार के बीच अब हो रही भिड़ंत विधानसभा स्पीकर को लेकर , जाने कौन बनेगा स्पीकर

  बिहार विधानसभा से इस वक्त की बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है. महागठबंधन ने स्पीकर के लिए अपना उम्मीदवार उतारने का फैसला...

लोक सभा के पिछ्ले सत्र में वित्त मंत्री होने के नाते स्वर्गीय अरुण जेटली को रहने के लिए सरकार की तरफ से एक बांग्ला दिया गया था। ये बांग्ला कृष्णा मेनन मार्ग पर स्थित था। हालाँकि आलिशान होने के बावजूद जेटली ने इस बंगले को कुछ समय बाद ही छोड़ दिया और कैलाश कॉलोनी स्थित अपने आवास में आकर रहने लगे।

दरअसल कृष्णा मेनन मार्ग स्थित इस बंगले के बारे में माना जाता है कि इसमें वास्तु दोष है। इस वजह से भव्य और आलिशान होने के बावजूद कोई नेता इस बंगले में आकर रहना नहीं चाहता। जो भी आकर इस बंगले में रहा है, उसे मुश्किलों का दौर झेलना पड़ा है। अरुण जेटली से पहले इस बंगले में कांग्रेस नेता और पूर्व दूरसंचार मंत्री सुखराम रहा करते थे। वो भी उस दौरान टेलीकॉम घोटाले में फंसे थे और साथ ही उनके बाथरूम से करेंसी नोट भी बरामद हुए थे। उनके अलावा समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव भी इस बंगले में रह चुके हैं। जानकारी के अनुसार इस बंगले में रहने के बाद से ही उन्हें स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ा।

अरुण जेटली भी कुछ समय से इसी बंगले में रह रहे थे। और पिछले साल से ही उन्हें बार बार स्वास्थ सम्बन्धी परेशानियां झेलनी पड़ी। पहले किडनी ट्रांसप्लांट, फिर दाएं पैर में टिश्यू कैंसर और फिर सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा कैंसर ने उन्हें जकड कर रखा। अरुण जेटली ने भी धीरे धीरे मान लिया कि ये घर उनके लिए अशुभ था। आख़िरकार जुलाई 2019 में उन्होंने इस घर को अलविदा कह दिया। कुछ दिनों बाद ही जेटली को AIIMS में भर्ती कराया गया। घर छोड़ने के लगभग एक महीने बाद ही अरुण जेटली दुनिया को अलविदा कह गए। कुछ इसी तरह की खबर सुषमा स्वराज को आवंटित सिविल लाइन्स स्थित बंगले के लिए भी आई थी। उसमे भी वास्तु दोष बताया गया था जिसकी वजह से कोई राजनेता उस बंगले में जाने को तैयार नहीं होता।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

राज्यसभा उपचुनाव : सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे नामांकन, RJD के उम्मीदवार पर सस्पेंस

बिहार की एक राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मतदान होगा या नहीं इस पर से सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है।...

CM नीतीश पर अमर्यादित टिप्पणी से नाराज JDU कार्यकर्ताओं ने तेजस्वी का पूतला फूंका

मुज़फ़्फ़रपुर ; विधानसभा में  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर अभद्र टिप्पणी करने को लेकर पूरे बिहार में जगह जगह...

मुज़फ़्फ़रपुर में हाईवे पर लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 किलो गांजा और हथियार के साथ 5 अपराधी गिरफ्तार

  मुज़फ़्फ़रपुर : जिले के गायघाट पुलिस ने हाइवे लूटपाट गिरोह के पांच सदस्यों को हथियार व लूट के समान के साथ पकड़ा और इस...

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया सूर्याधार जलाशय का लोकार्पण

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को स्वर्गीय गजेन्द्र दत्त नैथानी जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। इस झील के निर्माण पर 50.25...

Uttarakhand: 389 नए संक्रमित संक्रमित मिले, आठ की मौत, मरीजों की संख्या 74 हजार पार

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे के दौरान 389 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 278 मरीज स्वस्थ होने...