Friday, December 4, 2020

पाकिस्तान सावधान, तबाही मचा देगा भारत का पहला एलसीए

Must read

फिल्म ‘मिशन मंगल’ के निर्देशक जगन शक्ति के साथ काम करेंगे अक्षय कुमार…

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार इंडस्ट्री के बिजी अभिनेताओं में से एक हैं। अक्षय कुमार की कई फिल्में रिलीज के लिए तैयार हैं और उनकी...

जनता को अपने नजदीकी Covid test सेन्टर की जानकारी देने को ऐप करें विकसित : CM योगी

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कहा है कि कोरोना से बचाव और नियंत्रण के लिए निरंतर सतर्कता और सावधानी बरतना आवश्यक है। उन्होंने...

JDU की हार के पीछे केवल चिराग नहीं, हवा-हवाई संगठन ने किया बेड़ागर्क

विधानसभा चुनाव के बाद नीतीश कुमार भले ही एक बार फिर से बिहार के मुख्यमंत्री बन गए हो लेकिन उनकी पार्टी जनता दल यूनाइटेड...

राबड़ी देवी बोली- सुशील का लोदीपुर में 300 घर, मोदी का पलटवार – 1 इंच भी जमीन होगी तो आपको कर देंगे दान

विधान परिषद में कल राबड़ी देवी और सुशील मोदी आमने सामने हो गए. राबड़ी देवी ने सुशील मोदी पर आरोप लगाया कि लोदीपुर में...

शुक्रवार को समुद्र किनारे स्थित तट आधारित परीक्षण सुविधा में आईएनएस हंसा, गोवा में अब तक का सबसे पहला एलसीए (नेवी) की नियंत्रित लैंडिंग संपन्न हुई। इससे भारतीय नौसेना विमानवाहक, विक्रमादित्य पर उड़ान के दौरान विमानवाहक के लैंडिंग के प्रदर्शन के लिए स्वेदशी मंच का मार्ग प्रशस्त होगा।

चार अभियानों के बाद मिली बड़ी सफलता

उड़ान परीक्षण के कई वर्षों के बाद और समुद्र किनारे स्थित परीक्षण सुविधा में समर्पित परीक्षण के चार अभियानों के बाद इसमें सफलता हासिल हो पाई है। शुक्रवार को सीएमडीई जे.ए. मावलंकर (प्रधान परीक्षण पायलट), कैप्टन शिवनाथ दहिया (एलएसओ) और सीडीआर जे.डी. रतुरी (परीक्षण निदेशक) के नेतृत्व में इस नियंत्रित लैंडिंग के कार्य को सफलतापूर्वक पूरा किया गया। इस नियंत्रित लैंडिंग से देश को सही मायनों में स्वदेशी क्षमता हासिल हुई है ।

इसके साथ ही हमारे वैज्ञानिक समुदाय, एयरोनॉटिकल विकास एजेंसी (एडीए) के साथ-साथ एचएएल (एआरडीसी), डीआरडीओ और सीएसआईआर प्रयोगशालाओं द्वारा तैयार डिजाइन और निर्माण क्षमता भी प्रमाणित हुई हैं।

नौसेना में हुई एक नए युग शुरुआत

यह उपलब्धि नौसेना में एक नए युग की शुरूआत है। इस लक्ष्य को पूरा करने में कई एजेंसियों ने मिलकर सहयोग किया है। इसमें सर्टिफिकेशन एजेंसी (सीईएमआईएलएसी), क्वॉलिटी एजेंसी (डीजीएक्यूए) तथा विमान को बनाने में अपना सहयोग देने वाला ग्राउंड स्टाफ शामिल हैं। सभी एजेंसियों के प्रयास सराहनीय रहे हैं। इसमें भारतीय नौसेना की मदद भी काफी महत्ववपूर्ण रही है।

आज के परीक्षण ने डेक पर सुरक्षित उतारे जा सकने वाले हल्के लड़ाकू विमान के मामले में भारत को विश्व‍ पटल पर स्थापित किया है। रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने आज की सफलता के लिए एडीए, एचएएल, डीआरडीओ और भारतीय वायु सेना को बधाई दी है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

बड़ी खबर : किसानों का फरमान, 8 दिसंबर को भारत बंद तो 5 को PM का पुतला दहन

नई दिल्ली : कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। कोई भी झुकने को राजी नहीं है। इस बीच दिल्ली...

FICCI में उदय शंकर का बढ़ा कद, अब मिली ये जिम्मेदारी

स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के चेयरमैन और ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी एशिया पैसिफिक’ (The Walt Disney Company Asia Pacific) के प्रेजिडेंट...

MLC Election : सपा प्रत्याक्षी की जीत से बोखलाए भाजपा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

झांसी : उत्तर प्रदेश विधान परिषद (MLC) स्नातक इलाहाबाद-झांसी खंड की मतगणना के दौरान शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गयी जब मतगणना में...

सपा ने बनारस में दोनों सीटें जीती, मनाया जश्न

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका पूर्वांचल क्षेत्र में लगा है, जो सीएम योगी आदित्यनाथ का मजबूत गढ़ माना जाता है. वाराणसी सीट पर बीजेपी...

अक्षय कुमार ने CM योगी से अयोध्या में अपनी फिल्म ‘राम सेतु’ की शूटिंग के लिए मांगी अनुमति

लखनऊ : बॉलीवुड फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अयोध्या में अपनी अगली फिल्म 'राम सेतु' की शूटिंग के लिए अनुमति...