Sunday, November 29, 2020

शिवसेना और बीजेपी में बात लगभग बन गई! ये रहा महाराष्ट्र फॉर्मूला

Must read

मुख्यमंत्री जी नफरत की अंत्याक्षरी छोड़ कानून व्यवस्था पर ध्यान दें – नेता प्रतिपक्ष

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने आग्रह किया है कि कुछ दिनों के लिए नफरत...

2018 में ही लव जिहाद पर उत्तराखंड में बन गया था कानून, अब कौन उड़ा रहा है अफवाहें

देशभर के कई राज्यों में लव जिहाद को लेकर सियासत गरमा रही है। ऐसे में तमाम राज्यों में लव जिहाद मामले पर चर्चाएं भी...

Farmers protest : दिल्ली बॉर्डर तक पहुंचे किसान, उत्तर प्रदेश में भी किया प्रदर्शन का ऐलान…

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन शुक्रवार यानी आज भी जारी रहेगा वहीं गुरुवार की रात हरियाणा के पानीपत के टोल प्लाजा पर...

UP: बरेली में ‘लव जिहाद’ के आरोप में पहली FIR, नए कानून के तहत दर्ज हुआ केस

योगी सरकार ने लव जिहाद पर कानून लाने के बाद बरेली में लव जिहाद का पहला मुकदमा दर्ज किया गया है। जहां एक मुस्लिम...

महाराष्ट्र में आने वाले विधान सभा चुनावों में सीट शेयरिंग को लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच जल्द ही समझौता होने की उम्मीद है। राज्य की 288 विधानसभा सीटों का बंटवारा लगभग तय हो गया है। इस बंटवारे के मुताबिक शिवसेना और बीजेपी को 270 सीटों पर चुनाव लड़ाया जाएगा जबकि बाकी 18 सीटों पर बाकी सहयोगी दल चुनाव लड़ेंगे।

बुधवार को हुई बैठक में कोई नतीजा न निकलने के बाद शुक्रवार को दूसरी बैठक रखी गई। जानकारी के अनुसार सीट बंटवारे पर अंतिम निर्णय लेने से पहले कई दौर की बातचीत चलेगी। 11 सितंबर तक दोनों पार्टियों द्वारा सीट शेयरिंग को अंतिम रूप देने की संभावना है। उम्मीद है कि बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे जल्द ही इस मामले पर बैठक कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र में 288 विधानसभा सीटों में से 110 सीटों पर शिवसेना और 160 सीटों पर बीजेपी चुनाव लड़ सकती है। हालांकि बुधवार हुई बैठक में शिवसेना लोकसभा चुनाव के समय अमित शाह की बात का दावा करते हुए 50-50 की सीट शेयरिंग मांग रही थी। शिवसेना नेता संजय राउत ने 160-110 फॉर्मूले पर दोनों दलों के राजी होने की बात को खारिज कर दिया था। उन्होंने पूछा कि ऐसा किसने कहा- अमित शाह या मुख्यमंत्री? संजय राउत कहते हैं, ‘जब लोकसभा चुनाव के लिए दोनों दल साथ आए तब बीजेपी और शिवसेना के नेताओं ने 50-50 के फॉर्मूले को तय किया था।’

गौरतलब है कि पिछले काफी समय से बीजेपी और शिवसेना में टकराव बढ़ गया है। लोकसभा चुनाव में सभी गिले-शिकवे भुला कर दोनों पार्टियां साथ में लड़ी थी। मगर कुछ दिन पहले प्रदेश में विधानसभा चुनावों की वजह से ये गठबंधन टूटता नज़र आ रहा था। जहाँ सीट शेयरिंग को लेकर टकराव जारी था, वही मुख्यमंत्री पद के लिए भी दोनों पार्टियों में एकराय नहीं बन पा रही थी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

राज्यसभा उपचुनाव : सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे नामांकन, RJD के उम्मीदवार पर सस्पेंस

बिहार की एक राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मतदान होगा या नहीं इस पर से सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है।...

CM नीतीश पर अमर्यादित टिप्पणी से नाराज JDU कार्यकर्ताओं ने तेजस्वी का पूतला फूंका

मुज़फ़्फ़रपुर ; विधानसभा में  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर अभद्र टिप्पणी करने को लेकर पूरे बिहार में जगह जगह...

मुज़फ़्फ़रपुर में हाईवे पर लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 किलो गांजा और हथियार के साथ 5 अपराधी गिरफ्तार

  मुज़फ़्फ़रपुर : जिले के गायघाट पुलिस ने हाइवे लूटपाट गिरोह के पांच सदस्यों को हथियार व लूट के समान के साथ पकड़ा और इस...

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया सूर्याधार जलाशय का लोकार्पण

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को स्वर्गीय गजेन्द्र दत्त नैथानी जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। इस झील के निर्माण पर 50.25...

Uttarakhand: 389 नए संक्रमित संक्रमित मिले, आठ की मौत, मरीजों की संख्या 74 हजार पार

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे के दौरान 389 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 278 मरीज स्वस्थ होने...