Tuesday, December 1, 2020

अब सुप्रीम कोर्ट ने दिया चिदम्बरम को झटका, जमानत याचिका खारिज

Must read

हरिद्वार में कार्तिक पूर्णिमा का स्नान पर्व हुआ स्थगित, जाने क्या है कारण?

हरिद्वार जिला प्रशासन ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर इस बार 30 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा पर होने वाला गंगा स्नान पर्व स्थगित कर दिया...

छपरा DM की IRS अधिकारी बनी दुल्हन, बिना बैंड बाजा की हुई हाईप्रोफाइल शादी

छपरा के डीएम सुब्रत कुमार सेन की पूर्णिया में सादगी के साथ शादी हुई. उन्होंने आईआरएस अधिकारी सुचिस्मिता के साथ शादी की. सुचिस्मिता आयकर...

दामिनी के माता-पिता मिले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र से , दोषियों को फाँसी की माँग की

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री आवास में दामिनी (काल्पनिक नाम) के माता-पिता ने भेंट की। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड...

पटना में वसूला गया 4 लाख रुपये जुर्माना, मास्क नहीं पहनना पड़ गया भारी

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार की ओर से मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है. लेकिन इसके बावजूद भी लोग नियमों की...

कांग्रेस (Congress) के सीनियर नेता पी. चिदंबरम (P Chidambaram) ईएनएक्स मीडिया (INX Media) केस में केंद्रीय जांच एजेंसी (CBI) के शिकंजे में हैं | अब चिदंबरम को दिल्ली हाईकोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट से भी करारा झटका लगा है | सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने दिल्ली हाईकोर्ट के द्वारा चिदंबरम की अंतरिम जमानत रद्द होने के फैसले के खिलाफ दायर याचिका को खारिज कर दिया है | जस्टिस भानुमती की बेंच ने कहा कि जब सीबीआई ने उन्हें कस्टडी में लिया है, तो ऐसे में हम अंतरिम जमानत रद्द होने के फैसले को खारिज नहीं कर सकते | चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका मालमे में जस्टिस भानुमति ने कहा कि गिरफ्तारी के बाद अग्रिम जमानत की अर्जी निष्प्रभावी हो जाती है |

इस पर चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने कहा फिर भी सुनवाई हो सकती है | जीवन का अधिकार महत्वपूर्ण है | इसपर जस्टिस भानुमति ने कहा कि अग्रिम जमानत को हम रेग्युलर बेल में कन्वर्ट नहीं कर सकते हैं, रिमांड के खिलाफ अर्जी लिस्ट नही है, हम लिस्टिंग के लिए नही कह सकते हैं |

जस्टिस आर. भानुमति और जस्टिस ए. एस. बोपन्ना की बेंच ने कहा कि चिदंबरम को कानून के तहत इसका उपाय ढूंढने की छूट है | वो चाहे तो नए सिरे से याचिका दायर कर सकते हैं | सुप्रीम कोर्ट में बहस के दौरान चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने ईडी की जांच प्रक्रिया पर सवाल उठाए | उन्होंने कहा कि अगर प्रवर्तन निदेशालय पी. चिदंबरम की विदेश में संपत्ति होने का कोई सबूत दिखाती है तो वह याचिका वापस लेने को तैयार हैं | उन्होंने आरोप लगाया कि दो साल से अगर जांच चल रही है तो क्यों कुछ सामने क्यों नहीं आया, अगर विदशी संपत्ति थी तो उन्हें जब्त क्यों नहीं किया गया|

वहीं सीबीआई और ईडी चिदंबरम की कस्टडी बढ़ाने की तैयारी कर रही है | चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिलने के बाद ईडी उन्हें हिरासत में लेकर और पूछताछ करना चाहेगी | इसके लिए ईडी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर दिया है |

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

उत्तर प्रदेश में 43 आईपीएस अधिकारियों के हुए तबादले, 2015 बैच पर मेहरबान हुए योगी 

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फिर से कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने के लिए अपने कई बड़े अधिकारियों का फेरबदल किया है।...

किसान क्यों चाहते हैं MSP पर लिखित गारंटी? जानिए क्या है विरोध का बड़ा कारण…

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों (Farm Bill) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmer Protest) आज छठे दिन...

NDA के CM कैंडिडेट ‘नीतीश’ को जेल भेजने की बात करने वाली लोजपा NDA का ‘नमक’,मोदी कैबिनेट में जगह मिलने की उम्मीद पाले बैठे...

ये राजनीति है यहाँ सब जायज है नरेंद्र मोदी के चिराग मुरीद है कारण शायद बीजेपी पर कोई रहम आ जाये और मंत्री मंडल...

सुप्रीम कोर्ट कि सुनवाई में पेश हुआ “शर्टलेस व्यक्ति” कोर्ट ने सुनाई खरी-खरी…

सुप्रीम कोर्ट में एक मामले की सुनवाई के दौरान जज के सामने एक शख्स बिना शर्ट पहने आ गया। इस पर अदालत ने उस...

सीना चीर लूंगा तो अखिलेश जी की मूर्ति निकलेगी- नए नवेले कार्यकर्ता

समाजवादी पार्टी में इस वक्त कई सारे नए नवेले कार्यकर्ता आ रहे हैं यह कार्यकर्ता दूसरी पार्टियों से अब समाजवादी पार्टी की तरफ रुख...