Tuesday, April 13, 2021

बाबा साहेब की 130वी जयंती पर समाजवादी पार्टी मनाएगी ‘दलित दीवाली‘

Must read

कौशांबी में एक स्कूल के 24 छात्र समेत 74 संक्रमित मिले

कौशांबी  उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से लोगों में दहशत की स्थिति उत्पन्न हो गई है । पिछले...

कल होने वाले महाकुंभ के शाही स्नान की तैयारियां पूरी

हरिद्वार  उत्तराखंड के हरिद्वार में महाकुंभ मेले में कल सोमवती अमावस्या पर होने वाले दूसरे शाही स्नान को लेकर मेला एवं पुलिस प्रशासन ने...

गर्मियों के मौसम में “बारिश की जाए” गाना मचा रहा है सोशल मीडिया पर धूम

सच्ची घटना पर आधारित एक गाना जिसके बोल हैं बारिश कि जाए ने सोशल मीडिया पर धूम मचा दिया है. मोहल्ले की गली हो...

 विवाह मण्डप और बैंक्वेट हाॅल में अधिकतम 200 व्यक्तियों के रहने की अनुमति, माॅस्क का प्रयोग जरूरी

सहारनपुर, :-कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए जनपद के सभी विवाह मण्डप और बैंक्वेट हाॅल स्वामियों को खुले स्थान...

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री  अखिलेश यादव के निर्देश पर भारत के संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉ0 भीमराव अम्बेडकर की 130वी जयंती पर समाजवादी पार्टी 14 अप्रैल को देशव्यापी ‘दलित दीवाली‘ मनाएगी। प्रदेश के प्रत्येक जनपद और देशभर में कार्यकर्ता सायं समाजवादी पार्टी कार्यालय, अपने घरों पर, सार्वजनिक स्थल अथवा डॉ0 अम्बेडकर जी की प्रतिमा स्थल पर दीपक जलाकर बाबा साहेेब को श्रद्धा के साथ नमन करेंगे।

अखिलेश यादव के अनुसार भाजपा के राजनीतिक अमावस्या के काल में वह संविधान खतरे में है, जिससे बाबा साहेब ने स्वतंत्र भारत को नई रोशनी दी थी, इसलिए डॉ0 भीम राव अम्बेडकर जी की जयंती पर 14 अप्रैल को समाजवादी ‘दलित दीवाली‘ मनाएंगे।

ये भी पढ़ें-समाजवादी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के महानगर अध्यक्ष नामित किये गए

इसमें दो राय नहीं कि संविधान को आत्मार्पित करते हुए जो उद्देशिका संकल्प रूप में स्वीकृत की गई थी उसका भाजपा सरकार पग-पग पर तिरस्कार करती आई है। लोकतंत्र की संस्थाओं को कमजोर करने में उसने जरा भी संकोच नहीं किया है। संविधान में वर्णित विश्वास, धर्म, उपासना और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को असहिष्णुता ने अप्रभावी कर दिया है। सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय की अवधारणा को समाप्त कर दिया गया है।

भाजपा सरकार पूरी तरह बदले की भावना से काम कर रही है। बाबा साहेब ने संविधान में प्रतिष्ठा और अवसर की समता की जो गारंटी दी थी उसकी अवहेलना करते हुए अब भाजपा सरकार आरक्षण समाप्त करने की भी कोशिश में है। नफरत और समाज को बांटने की राजनीति चलाकर भाजपा ने पूरे समाज में ज़हर घोल दिया है। परस्पर विभेद और विद्वेष की ताकतों को बढ़ावा दिया जा रहा है।

अतः जनता बाबा साहेब की जयंती पर उनके द्वारा निर्मित संविधान के प्रति पुनः संकल्पशील होकर स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों की स्थापना और डॉ0 राममनोहर लोहिया के समता मूलक सिद्धांतों के अनुसरण के उद्देश्य से 14 अप्रैल 2021 को ‘दलित दीपावली‘ मनाएगी।

- Advertisement -

More articles

Latest article

आरआरटी को दें पूरा सहयोग, परामर्श पर दें ध्यान – मुख्य चिकित्सा अधिकारी

गोरखपुर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधाकर पांडेय ने होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड मरीजों और उनके परिजनों से रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) का...

म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद से 707 लोग मारे गए

न्येपीडॉ  संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने सोमवार को कहा कि म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद से कम से कम 707 नागरिकों...

बोरिंग पर नीम के पेड़ के नीचे सो रहे व्यक्ति की हत्या, जाने हैरान करने वाली वजह

थाना जसराना क्षेत्र खडीत की है घटना मौके पर थाना पुलिस व फील्ड यूनिट टीम संग पहुँचे एसपी देहात बताया गया 2002 में इनके...

आठवीं तक स्कूल बंद करने का पूरे जिले में विरोध

हिसार,  कोरोना महामारी की आड़ में आठवीं कक्षा तक स्कूल बंद करने का विरोध सोमवार को शहर की सड़कों पर दिखाई दिया। स्कूल संचालकों ने...

झुंझलाहट में दिख रही भाजपा की हार-डोटासरा

जयपुर  राजस्थान में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष एवं शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र...