इसलिए बुढ़वा मंगल पर लगा है दर्शनार्थियों का तांता

0
114

बुढ़वा मंगल के मौके पर उत्तरप्रदेश में पनकी के पंचमुखी हनुमान मंदिर में श्रद्धालुओं का ताँता लगा हुआ है। महाभारत काल में भादव मास में आखिरी मगलवार को बुढ़वा मंगल के रूप में मनाया जाता है। दरअसल भगवान हनुमान ने भीम को वृहद वानर के रूप में दर्शन दे कर उनका घमंड चूर किया था। भीम को घमंड था की पूरे संसार में उनसा बलवान कोई नहीं। जिसके बाद हनुमान ने भीम के सामने अपनी पूछ रख दी जिसे भीम हिला तक न सके। इससे भीम का घमंड चूर चूर हो गया था। घमंड चूर होने के बाद हनुमान ने उनकी रक्षा भी की थी।

बुढ़वा मंगल के चलते हनुमान मंदिरों में सोमवार देर रात से ही श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ने लगा। बुढ़वा मगल के चलते पनकी स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर, में विशेष तैयारियां पूरी कर ली गई थी। पनकी हनुमान मंदिर में रविवार से बेरीकेडिंग लगाना शुरू कर दिया गया था। साथ ही अधिकारी लगातार निरीक्षण करते हुए श्रद्धालुओ की सुविधा का ध्यान रख रहे थे। सोमवार रात 12 बजकर 1 मिनट ब्रह्ममहूर्त की आरती शुरू की गई जिसके बाद मंदिर के द्वार खोल दिए गए। मान्यता है कि भक्त जय श्री राम व जय बजरंगबली के जयकारे लगाते हुए बाबा के दर्शन करके अपनी मनोकामना पूरी करने की अर्जी लगाते है। भक्तो की व्यवस्था बनाए रखने के लिए रात 10 बजे से ही आधा दर्जन मजिस्ट्रेट और पीएसी के साथ एक दर्जन थानों की पुलिस तैनात रही।

पांच लाख से अधिक श्रद्धालु करेंगे दर्शन 

जानकारी के अनुसार मंगलवार को पांच लाख से अधिक श्रद्धालु मंदिर में दर्शन करेंगे। पनकी स्थित हनुमान मंदिर, दक्षिणेश्वर हनुमान मंदिर में पुलिस ने सुरक्षा का खाका खींच लिया है। हनुमान मंदिर पनकी में लोगों की सुविधा के लिए आधा दर्जन एसी लगाए गए हैं। निगरानी के लिए दो दर्जन क्लोज सर्किट कैमरे भी लगाए गए हैं। महंत जीतेंद्र दास और महंत श्रीकृष्ण दास के कमरे में कंट्रोल रूम बनाया गया है। एडीएम सिटी भी यहां निगरानी के लिए मौजूद रहेंगे। एक मजिस्ट्रेट गर्भ गृह में और पांच बाहर तैनात होंगे। इसके साथ ही यहां दो एसपी और आधा दर्जन सीओ भी मौजूद रहेंगे। लोगों की मांग पर प्रशासन की अनुमति के बाद पनकी स्टेशन पर भी कई ट्रेनें रुकेंगी। ट्रेनों के यहाँ रुकने से बाहरी श्रद्धालु आसानी से मंदिर पहुंचकर बाबा के दर्शन कर सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here